इस प्रपोज डे सुनो अपने दिल की और बस कह दो i love you…

नई दिल्लीवैलेंटाइन वीक के दूसरे दिन प्रपोज डे सेलिब्रेट किया जाता है। एक ऐसा दिन जो हर प्यार करने वाले को यह आजादी देता है कि वह अपनी दिल की बात कह सकें। एक ऐसा दिन जब आप बिना संकोच के अपने प्यार का इजहार करते हैं और सामने वाला भी इसपर बड़े ही प्यार से रिस्पांस करता है। 8 फरवरी को पूरी दुनिया प्रपोज डे सेलिब्रेट करने जा रहा है। अगर आप किसी को प्रपोज करने का सोच रहे हैं तो इससे बेहतर कोई दिन क्या ही हो सकता है और अगर आप पहले से किसी के साथ हो तो भी अपने रिश्ते में रिफ्रेशमेंट लाए और एक नई तरीके से पार्टनर के सामने अपने दिल की बात रखें। हर कोई चाहता है कि उसका पार्टनर प्यार का इजहार उसी तरह करें जैसा उसका प्यार है। हर रोमांटिक लड़की की चाहत तो बस यही होती है कि किसी फिल्म के किसी हीरो की तरह उसका भी लाइफ पार्टनर हो। उसका पार्टनर भी उसे वैसा ही फील करवाए जैसे हीरो हिरोइन को करवाता है। हम अपने देश की बात करें तो ज्यादातर फिल्में भी हीरो-हिरोइन के प्यार पर बनी होती है और इन्हीं फिल्मों को देखकर हर कोई मन ही मन अपने लिए भी वैसे ही सपने संजो लेता है। सच ही तो है किसे नहीं पसंद की उसे स्पेशल फील करवाया जाए। दिल की बात और भी खास हो जाती है जब आप इसे बहुत ही अच्छे शब्दों और अच्छे जगह का चुनाव कर बयां करते हैं। कभी भी प्यार का इजहार करें तो कोशिश करें कि ये शब्द आपके अपने हो, ऐसे जो आपका दिल सोचता है। बेहतर हो कि अपने पार्टनर की पॉजिटिव चीजों को ध्यान में रखते हुए पहले उनकी तारीफ में चंद शब्द कहें। फिर ये जरूर बताएं कि आप उन्हें ही अपने हमसफर के रूप में क्यों देखते हैं। शायद यह बात आपके प्यार के इजहार में एक तड़के का काम करें। हर किसी को अपनी तारीफ और पॉजिटिव चीजें सुननी पसंद है। चाहें कोई ऊपर से भले ही कहें कि उसे अपनी तारीफ सुनकर खुशी नहीं होती पर ऐसा बिलकुल नहीं है।

1. सच्चे प्यार को ये कमबख्त आंखे कह ही देती हैं,
पर आज हम लफ्जों से कुछ कहना चाहते हैं,
क्या मेरे सनम तुझे कबूल हूं मैं,
मेरे दिल के हर कोने में बस तेरा ही नाम है।

2. दूरियां न बढ़ जाएं,
इसलिए इज़हार नहीं करते,
प्यार करते हैं तुमको,
बस तेरे बिछड़ने से डरते हैं।

3. कसूर तो था ही इन निगाहों का
जो चुपके से दीदार कर बैठा
हमने तो खामोश रहने की ठानी थी
पर बेवफा ये ज़ुबान इज़हार कर बैठा

4. मेरी सारी हसरतें मचल गयी..
जब तुमने सोचा एक पल के लिए
अंजाम-ए- दीवानगी क्या होगी
जब तुम मिलोगी मुझे उम्र भर के लिए

5. कुछ दूर मेरे साथ चलो,
हम सारी कहानी कह देंगे,
समझे ना तुम जिसे आंखों से,
वो बात मुंह जबानी कह देंगे।

 

शेयर करें

मुख्य समाचार

एक बेटी के लिए दूसरी को बेचा 10000 में

नई दिल्ली : किसी भी इंसान के लिए उसकी हर संतान समान महत्व रखती है लेकिन गरीबी के सामने व्यक्ति लाचार हो जाता है। कुछ आगे पढ़ें »

हिन्दी नाट्य उत्सव को खूब सराहा लोगों ने

‘नाटक तो पहले भी देखे हैं, मगर ऐसा नहीं देखा’ सन्मार्ग संवाददाता सिलीगुड़ी : शुक्रवार को सिलीगुड़ी के दिनबंधु मंच पर पश्चिम बंग हिन्दी अकादमी के सहयोग आगे पढ़ें »

ऊपर