माइग्रेन, बीपी, कोलेस्ट्राल से बचाता अदरक

अदरक सदियों से हमारे भोजन का अभिन्न अंग रहा है। यह आयुर्वेद की एक प्रमुख औषधि है। इसके घरेलू नुस्खों की भरमार है। यह अदरक, सोंठ, सुंठी, सदियों से पीढ़ी दर पीढ़ी अनुभूत औषधि है। यह सभी दर्द में हवा की भांति काम करता है। यह कफ का शमन करता है। यह सर्दी, जुकाम, खांसी मिटाता है। यह शरीर को गर्म रखता है। नवीन शोधों के अनुसार यह माइग्रेन, बीपी, कोलेस्ट्राल, जोड़ों में दर्द, कैंसर में भी लाभदायक होता है। यह गैस दूर करता है। सूजन व हाजमा ठीक करता है। पेट के कीड़े मारता है। यह दस्त, उल्टी, हैजा, दमा, हृदय रोग आदि में दवा का काम करता है। कच्चे रूप में अदरक एवं सूखे में सोंठ सुंठी कहलाता है। यह सर्व सुलभ है।
विटामिन ई पार्किन्सन रोग होने की संभावना को कम करता है

न्यू जर्सी में यूनिवर्सिटी ऑफ मेडिसिन एंड डेंटिस्ट्री के मनोरोग विशेषज्ञ डॉ. लारेंस कोल्बे के अनुसार अगर विटामिन ई का सेवन प्रारंभ से ही उचित मात्रा में नहीं किया जाए तो बाद में बढ़ती उम्र में पार्किन्सन रोग के होने की संभावना हो सकती है। अभी तक पार्किन्सन रोग के कारण का तो पता नहीं चल पाया पर विशेषज्ञों का मानना है कि विटामिन ई एक अच्छा एंटीऑक्सीसेंट है और पार्किन्सन रोग के इलाज में इसका सेवन लाभदायक साबित हुआ है।

शेयर करें

मुख्य समाचार

रोजाना आ रहे हैं सैकड़ों शव, चरमरा रही है श्मशान घाटों की व्यवस्था

सन्मार्ग संवाददाता कोलकाता : कोरोना की दूसरी लहर का प्रकाेप कुछ इस कदर बढ़ा है कि श्मशान घाटों में रोंगटे खड़े करने वाली तस्वीरें देखने को आगे पढ़ें »

ट्रैफिक गार्ड के ऑक्सीजन कंसेंट्रेटर का मरम्मत कराएगी पुलिस

कोविड के खिलाफ जंग में लालबाजार ने कसी कमर सन्मार्ग संवाददाता कोलकाता : कोरोना की दूसरी लहर के दौरान शहरवासियों की हालत खराब है। अस्पताल में बेड आगे पढ़ें »

ऊपर