50 थप्पड़ खाने से आता है चेहरे पर निखार, जानिए स्लैप थेरेपी से जुड़ी ये बातें

कोलकाता : थप्पड़ से डर नहीं लगता साहब प्यार से लगता है….ये डायलॉग काफी मशहूर है और सही भी बात है कि थप्पड़ से डर नहीं लगता है, क्योंकि यही थप्पड़ आप को सुंदर और निखरी हुई त्वचा दे सकती है। जी हां ये बात उन लोगों को जान लेनी चाहिए जो खूबसूरत और ग्लोइंग स्किन के लिए ब्यूटी प्रोडक्ट का यूज करते हैं। जवां दिखने के लिए फेशियल ब्लीच और ना जाने कितने ट्रीटमेंट करवाते हैं, जो रिजल्ट कम समस्या ज्यादा पहुंचा सकते हैं, लेकिन आप थप्पड़ वाली थेरेपी से अपने चेहरे को बिना पैसे खर्च किए ही सुंदर बना सकते हैं। आइए जानते हैं कि थप्पड़ थेरेपी कैसे कारगर है और इसके क्या फायदे हैं।
क्या है स्लैप थेरेपी?
इस थेरेपी में त्वचा पर हल्के हाथों से थप्पड़ मारना होता है। इससे ब्लड सरकुलेशन बढ़ जाता है और त्वचा जवां और स्वस्थ होती है। ये थेरेपी महिलाएं और पुरुष दोनों ही करते हैं। इस थेरेपी से त्वचा में छिद्रों को सिकुड़ने में मदद मिलती है।
स्लैप थेरेपी के फायदे
साउथ कोरियन लोगों का मानना है कि थप्पड़ मारने से चेहरे के हर हिस्से में ब्लड का सरकुलेशन तेज हो जाता है। जिससे स्किन को साफ दिखने में मदद मिलती है चेहरा ग्लो करने लगता है यही वजह है कि वहां की महिलाएं हर रोज खुद को 50 थप्पड़ मारकर सुंदरता बरकरार रखनी है। इसमें आपको अपने दोनों हाथों से गालों को तेज थपथपाना होता है। इसके अलावा फाइन लाइंस से छुटकारा पाने के लिए चेहरे को थप्पड़ मारना पिंच और स्ट्रोक करना शामिल है। अमेरिकन लोगों का मानना है कि थप्पड़ मारने से त्वचा के खुले छिद्रों को सिकुड़ने में मदद मिलती है। इसके साथ ही त्वचा को क्रीम तेल को बेहतर तरीके से ऑबजर्ब करने में मदद मिलती है। यह त्वचा को चिकना बनाता है, झुर्रियों को कम करता है।
थप्पड़ थेरेपी करते वक्त इस बात का रखें ध्यान
इस प्रोसेस को करते हुए आपको प्रेशर के बारे में सतर्क रहना होग। थप्पड़ कोमल होनी चाहिए ताकि आपकी त्वचा को नुकसान ना पहुंचाएं। इसके अलावा जिन लोगों की त्वचा नाजुक और सेंसिटिव होती है, उन्हें या तो यह अपील खुद से नहीं करनी चाहिए या फिर वह पार्लर जाकर करवा सकती हैं।

 

शेयर करें

मुख्य समाचार

डायमण्ड हार्बर में सुकांत के सामने भिड़े भाजपाई, पार्टी ने कहा, राजनीतिक विवाद नहीं

डायमण्ड हार्बर में सुकांत के सामने भिड़े भाजपाई, पार्टी ने कहा, राजनीतिक विवाद नहीं सन्मार्ग संवाददाता कोलकाता : शनिवार को डायमण्ड हार्बर में प्रदेश भाजपा अध्यक्ष सुकांत आगे पढ़ें »

घर के सामने जमा होता है पानी, सौरभ ने मेयर को दी चिट्ठी

सन्मार्ग संवाददाता कोलकाता : महानगर की सड़क पर जलजमाव की समस्या कोई नयी नहीं है। फिलहाल मानसून का समय आने में देरी है, लेकिन सौरभ गांगुली आगे पढ़ें »

ऊपर