पीरियड्स के दर्द से पाये छुटकारा

कोलकाता : अधिकांश महिलाओं के लिए पीरियड्स एक बेहद दर्दनाक अनुभव होता है, उन्हें इतना दर्द होता है कि पीरियड्स को लेकर मन में डर बैठ जाता है। इससे छुटकारा पाने के लिए वो अक्सर पेनकिलर का इस्तेमाल करती हैं, लेकिन दर्दनिवारक दवाओं के अपने साइडइफेक्ट होते हैं इसलिए बेहतर होगा कि घरेलू उपायों को जाना और अपनाया जाए तो बेहद सरल होने के साथ साथ कारगर भी हैं।

पपीते का सेवन: पपीते की तासीर गर्म मानी जाती है और अक्सर दर्द की वजह होती है खुलकर फ्लो का ना होना, ऐसे में पपीता खायें क्योंकि इससे खुलकर फ्लो होता है और दर्द में आराम आता है। यही नहीं पपीता पेट के लिए भी काफ़ी अच्छा माना जाता है और पाचन को सही रखता है।

अदरक और काली मिर्च: अदरक को पानी में उबाल कर चाय की तरह पिएँ। अदरक के टुकड़े करके पानी में डालकर चाय बना लें, चाहें तो काली मिर्च भी मिला लें या फिर अदरक के टुकड़े करके उन्हें चबाकर खाएँ। यह पाचन को भी बेहतर करता है।

अजवायन: यह भी पेट के लिए बेहद फ़ायदेमंद है। इसकी भी तासीर गर्म होती है और यह गैस की समस्या से निजात दिलाने में कारगर है। अक्सर माहवारी के समय गैस की समस्या बढ़ जाती है जो दर्द की एक वजह होती है।

तुलसी की पत्तियाँ: चाय में इसे डालें क्योंकि इसमें दर्दनिवारक तत्व होते हैं जो काफ़ी तहाए पहुँचाते हैं।

जीरा: यह गर्भाशय को साफ़ करता है। इसमें दर्दनिवारक गुण भी हैं। जीरे की चाय बनाकर पिएं, पानी में भी उबालकर इसे पी सकती हैं या यूं ही चटकीभर जीरा चबा चबा कर खाएँ। इससे काफ़ी आराम मिलेगा।

मेथी: रात को एक कप पानी में एक टीस्पून मेथीदाना भिगो दें और अगले दिन इस पानी का सेवन करें।

गर्म पानी से सिकाई: एक बोतल में गर्म पानी भरकर उससे सिकाई करें काफ़ी आराम मिलेगा। यह पारंपरिक उपाय काफ़ी लोग अपनाते हैं, क्योंकि यह सबसे आसान और कारगर भी है।

तिल का तेल: इससे पेडू में यानी पेट के निचले भाग में हल्के हाथों से मालिश करें। यह गर्माहट और आराम देगा।

एक्सरसाइज़: शोध बताते हैं कि एरोबिक्स से पेन में काफ़ी राहत मिलती है जो महिलाएँ लगातार दो महीनों तक हफ़्ते में तीन बार आधे घंटे एरोबिक्स करती हैं उन्हें पीरियड्स में दर्द बेहद कम होने लगता है। अगर एरोबिक्स नहीं करना चाहतीं तो सिर्फ़ नंगे पैर ज़मीन पर या घास पर चलें इससे भी दर्द में आराम मिलता है। अगर आप नियमित रूप से योग करती हैं तो भी पेन में आराम मिलेगा और आप ऐसे योगा पोज़ भी ट्राई कर सकती हैं जो इस दर्द में आराम दिलाते हैं।

मेडिटेशन: सांस लेने की तकनीक आपको काफ़ी निजात दिला सकती है। यह मांसपेशियों को रिलैक्स करती है और इसे रिलैक्सेशन टेकनीक ही कहा जाता है। यह रक्त संचार बेहतर करके मस्तिष्क को सुकून का एहसास कराती हैं, दर्द पैदा करनेवाले हार्मोन्स को कम करके राहत का आभास कराती है।

नमक का सेवन कम करें और पानी खूब पिएं: पीरियड्स आने से कुछ दिन पहले से नमक खाना या तो बंद कर दें या कम करें, मसालेदार भोजन, तला-भुना भी ना खाएँ और फ़र्क़ देखें। इस तरह का खाना वॉटर रिटेंशन को बढ़ाता है जिससे गैस, अपच, भारीपन होता है और दर्द का एहसास ज़्यादा होता है। साथ ही पानी खूब पिएँ ताकी डीहाईड्रेट ना हों।

शेयर करें

मुख्य समाचार

डरा रहा है कोरोना : एक दिन में 7713 मामले, 34 की मौत

कोलकाता में 10 मरे, मामलों की संख्या बढ़कर हुई 1998कोरोना की रडार पर है ये जिले * उत्तर 24 परगना : 1639 मामले, 8 मरे * दक्षिण आगे पढ़ें »

फल-सब्जियों से निखारिए सौंदर्य को

सौंदर्य के प्रति नारी प्राचीन काल से ही काफी सचेत रही है। उस समय आधुनिक सौंदर्य प्रसाधन तो कल्पना से भी परे थे, अत: घरेलू आगे पढ़ें »

ऊपर