फल-सब्जियों से निखारिए सौंदर्य को

सौंदर्य के प्रति नारी प्राचीन काल से ही काफी सचेत रही है। उस समय आधुनिक सौंदर्य प्रसाधन तो कल्पना से भी परे थे, अत: घरेलू सामग्रियों की मदद से सौंदर्य को आकर्षक बनाने का प्रयास किया जाता था। वे विधियां इतनी कारगर सिद्ध हुई कि वे आज भी देश-विदेश में प्रचलित हैं।
दैनिक उपयोग में काम आने वाली सब्जियों व फलों की मदद से सौंदर्य को निखारा जा सकता है। इसमें खर्च तो बहुत कम आता ही है, लाभ भी आशातीत मिलते हैं। कुछ ऐसे ही सरल प्रयोगों की चर्चा यहां कर रहा हूं।
– पुदीना :- पुदीने तथा तुलसी की पत्तियों को बराबर-बराबर मात्र में लेकर थोड़े से पानी में डालकर उबाल लें। इस पानी को स्नान करने के पानी में मिलाकर नहाने से, त्वचा को चमक व ताजगी प्राप्त होती है। पुदीने का रस चेहरे पर सोने से पहले लगाकर सो जाएं और सुबह उठकर धो लें। कुछ दिनों तक ऐसा करने से मुंहासे, दाग, धब्बों एवं झाइयों में अत्यन्त लाभ होता है।
– बंदगोभी:- गोभी की पत्तियों को पीसकर उसका रस निकाल लें। उस रस में थोड़ा-सा शहद मिलाकर इस मिश्रण को चेहरे तथा गर्दन पर लगाकर पन्द्रह मिनट तक सूखने दें। इसके बाद शीतल जल से धो दें। इससे त्वचा की खुश्की व कालापन एवं झुर्रियां मिट जाती हैं।
– रसभरी:- त्वचा पर से मेकअप साफ करने के लिए रसभरियां उत्तम क्लीनिंग का काम करती हैं। रसभरियों को छीलकर त्वचा पर रगड़ने से मेकअप व जमी धूल साफ हो जाती है।
– संतरा:- विटामिन-‘सी’ से भरपूर संतरे का रस एवं छिलका दोनों ही उपयोगी होता है। संतरे के छिलकों के रस को त्वचा पर मलने से त्वचा में निखार आता है। इसके छिलके को छाया में सुखा कर बारीक चूर्ण बनाकर इसमें दूध, मलाई मिलाकर उबटन लगाने से त्वचा का रंग निखरता है तथा मुंहासे दूर होते हैं।
– शकरकन्द:- शकरकन्द को उबालने के बाद बचे हुए पानी से पैरों को धोने से फटी एडिय़ां ठीक होती हैं। कुहनी तथा घुटने को इस पानी से धोने पर वहां का मैल जमकर निकल जाता है।
– मूली:- मूली को कद्दूकस करके उसका रस निकाल लें, फिर उसमें समान मात्र में मक्खन या क्रीम मिलाकर इसे त्वचा पर मलें। एक घंटे के बाद गुनगुने पानी से धो डालें। इस प्रक्रिया से त्वचा की झुर्रियां दूर होती हैं तथा त्वचा में निखार आ जाता है।
– केला:- अगर आपके चेहरे की त्वचा शुष्क है, तो एक पका हुआ केला लेकर, अच्छी तरह मसल लें। अब थोड़ा-सा गुलाबजल व कुछ बंूद ग्लिसरीन को मिला दें। सप्ताह में एक बार ऐसा करने से लाभ होगा।
– सेब:- अगर आपके चेहरे की त्वचा तैलीय है तो एक सेब का छिलका उतार कर उसे छोटे-छोटे टुकड़ों में काट लें और मसलकर चेहरे पर लेप की तरह लगा लें। लेप को आधा सूखने दें। इसके बाद धो लें। सेब त्वचा को पौष्टिकता प्रदान करता है।
– नाशपाती:- अच्छी प्रकार से पकी हुई नाशपाती के गूदे को त्वचा पर रगडऩे से शुष्कता दूर होती है। नाशपाती के बीज को रात भर दूध में भिगोकर, पीसकर दही में मिलाकर चेहरे पर लगाने से चेहरे की शुष्कता दूर होती है तथा मुख सौंदर्य भी बढ़ता है।
– नींबू:- यह एक उत्तम हेयर स्प्रे का भी काम करता है। स्प्रे की खाली बोतल में नींबू का छाना हुआ रस भर लें और उसे बालों पर बिखेर लें। इससे बाल बिखरते नहीं हैं। मलाई में नींबू का रस तथा गुलाबजल मिलाकर रात में सोते समय होंठों पर लगाने से होंठ फटते नहीं है।
– पालक:- पालक की पत्तियों को काटकर बासी पानी में उबाल कर छान लें। सर्जिकल कॉटन को इस मिश्रण में भिगोकर त्वचा पर मलने से त्वचा कोमल बनती है। बथुए की पत्तियों को भी इसी प्रकार से प्रयोग में लाया जा सकता है। इसमें आयरन प्रचुर मात्र में होता है।
– खीरा:- एक खीरे को छीलकर बारीक कद्दूकस कर लें। इन लच्छों को निचोड़कर रस निकाल लें। इस रस में रूई भिगोकर धीरे-धीरे सारे चेहरे पर मलें। यह प्रयोग तैलीय त्वचा के उपचार हेतु उत्तम है। कुछ दिनों तक नियमित प्रयोग करें।
– सलाद:- इसके पत्तों को बारीक पीसकर उसमें गुलाबजल मिला दें और नींबू का रस भी रात भर इसी तरह पड़ा रहने दें। सुबह अच्छी तरह मसलकर छान लें। इस मिश्रण को स्नान से एक घंटे पूर्व त्वचा पर मलें। त्वचा चमकने लगेगी।
– टमाटर:- लाल टमाटर के रस को निकालकर छान लें तथा उसमें उतनी ही मात्र में नींबू का रस व ग्लिसरीन मिलाकर त्वचा पर मलने से वह चिकनी व कोमल बनती है। त्वचा के सांवलेपन को दूर करने के लिए टमाटर के रस में खीरे का रस बराबर मात्र में मिलाकर थोड़ी सी हल्दी का चूर्ण मिला दें। इसका लेप चेहरे पर लगाकर आधे घंटे बाद धो लें। कुछ दिनों बाद सांवलापन दूर होकर त्वचा गोरी हो जाएगी।

(उर्वशी) पूनम दिनकर

शेयर करें

मुख्य समाचार

सुसाइड प्वाइंट बनता जा रहा है विद्यासागर सेतु

हावड़ा ब्रिज पर रेलिंग लगने के बाद यहां पर लोगों की संख्या बढ़ी पिछले दो महीने में 5 लोगों को पुलिस ने आत्महत्या करने से बचाया सन्मार्ग आगे पढ़ें »

कोरोना संक्रमित पिता के इलाज खर्च जुगाड़ नहीं कर पाया, बेटा कुएं में कूद कर मरा

सन्मार्ग संवाददाता दुर्गापुर : प्राइवेट अस्पताल में भर्ती कोरोना संक्रमित पिता के इलाज का खर्च नहीं उठा पाने से तनावग्रस्त बेटे ने कुआं में कूदकर आत्महत्या आगे पढ़ें »

ऊपर