वास्तु से जुड़े ये पांच उपाय आपके घर की नकरात्मक ऊर्जा को करेंगे दूर

वास्तु शास्त्र में घर की नकरात्मक ऊर्जा को दूर करने के लिए वास्तु से जुड़े नियमों को अपनाने पर जोर दिया गया है। कई बार घर में चीजों का रख-रखाब वास्तु नियमों के विपरीत होता है जिसका आपको पता भी नहीं लगता नतीजन घर में नकरात्मक ऊर्जा बढ़ जाती है। यदि इन बातों पर ध्यान न दिया जाए तो घर में नकारात्मक ऊर्जा का प्रवेश होने लगता है। यह नकारात्मक ऊर्जाएं आपके घर में अशांति, आर्थिक तंगी, बीमारियां,पारिवारिक कलह और दुख को बढ़ाबा देती हैं। आप इन नकारात्मक ऊर्जाओं को देख तो नहीं सकते मगर महसूस अच्छे से कर सकते हैं। यदि आपको लगता है कि आपके घर में नकारात्मक ऊर्जाएं हैं जो आपको परेशान कर रही हैं तो आप कुछ आसान वास्तु उपायों को अपना कर उन्हें अपने घर से दूर भगा सकते हैं।
सही दिशा में जल


घर में जल के सही प्रयोग से घर में फैली नकारात्मक ऊर्जा को दूर किया जा सकता है। ध्यान रहे कभी भी दक्षिण और दक्षिण-पूर्व दिशा में पानी न रखें क्यों कि यह दिशा अग्नि से जुड़े कार्यों के लिए शुभ मानी गई है। उत्तर,उत्तर-पूर्व और पूर्व दिशा जल के लिए शुभ मानी गई है। एक कटोरे में शुद्ध जल या गंगाजल भरें और उसे 4 से 5 घंटे के लिए सूर्य की रोशनी में रख दें। इसके बाद अपने इष्टदेव का नाम लेते हुए आम या अशोक के पत्तों की मदद से उस पानी को घर में हर जगह छिड़क दें,घर में सुख-शांति का वास होगा।
कपूर है लाभकारी


कपूर के नियमित प्रयोग से घर की नकारात्मक ऊर्जा तो दूर होती है, इसके अलावा कपूर कई तरह की स्वास्थ्य संबंधी समस्याओं को भी दूर करने में काम आता है।वास्तु के अनुसार, आपके कठिन प्रयासों के बाद भी काम नहीं बनते हों,काम होते होते रुक जाते हों तो एक चांदी की कटोरी में नियमित रूप से लौंग और कपूर जलाकर इसे पूरे घर में घुमाएं। इससे जीवन में आने वाली बाधाएं दूर होंगी और बिगड़े काम भी बनने लगेंगे।घर में वास्तुदोष होने के कारण घर कीसुख- शांति भंग होती है,कलह का माहौल रहता है। दुकान या प्रतिष्ठान में वास्तुदोष होने से हमेशा घाटा होता रहता है। घर या प्रतिष्ठान में वास्तुदोष व नकारात्मक ऊर्जा को दूर करने के लिए कपूर की गोलियां रखें। ऐसा करने से नकारात्मक ऊर्जा दूर होगी तो दूर होगी और धन लाभ भी होगा।
नमक देगा राहत


वास्तुदोष निवारण में नमक एक शक्तिशाली उपाय है। कांच के बाउल में सैंधा नमक की डलियां भरकर शौचालय में रखने से वहां की नकरात्मक ऊर्जा समाप्त होती है। पंद्रह दिन के बाद नमक को बदलते रहें। दरअसल, नमक और कांच दोनों ही राहु की वस्तु हैं जो राहु के नकारात्मक प्रभाव को दूर करती हैं।राहु नकारात्मक ऊर्जा और कीटाणु, जो इन्फेक्शन देते है उसका कारक माना गया है।जिसके कारण परिवार की सेहत और समृद्धि दोनों पर बुरा प्रभाव पड़ता है। रात को सोते समय पानी में एक चुटकी नमक डालकर हाथ पैर धोने से शारीरिक थकान तो मिटती है, स्ट्रेस भी दूर होता है और नींद अच्छी आती है। इसके अलावा राहु और केतु के दुष्प्रभाव भी दूर होते हैं।
घंटी बजाना है अच्छा


पूजा स्थल में रखी हुई घंटी को सुबह-शाम भगवान की आरती करते समय बजाने से घर की नकारात्मक ऊर्जा बाहर जाती है,घर में सकारात्मक ऊर्जा का संचार होता है,जिससे आपकी शारीरिक,मानसिक और आर्थिक समस्याएं दूर होंगी। इसकी मधुर ध्वनि से मन शांत होता है और घर में सुख-समृद्धि आती है।
मंगलकारी है शंख


घर में शंख रखने से वास्तु दोषों से छुटकारा मिलता है, साथ ही धन और आरोग्य की प्राप्ति होती है। अगर आपके घर के किसी हिस्से में वास्तु दोष है, तो उस कोने में शंख रखने से वहां का वास्तु दोष समाप्त हो जाता है, घर में खुशहाली आती है।इसी प्रकार शंखनाद करने से इसकी ध्वनि जहां तक पहुंचती हैं वहां तक की वायु शुद्ध और उर्जावान हो जाती है,अनिष्ट दूर होता है। वास्तुदोष के प्रभाव को कम करने के लिए नित्यप्रति शंख में गाय का दूध रखकर इसका छिड़काव घर में किया जाए तो इससे भी सकारात्मक उर्जा का संचार होता है। भगवान की पूजा में शंख बजाने के पीछे यह उद्देश्य होता है कि आस-पास का वातावरण शुद्ध- पवित्र रहे। वास्तु के अनुसार जिस घर में शंख रखा होता है, वहां हर तरफ सकारात्मक ऊर्जा का संचार रहता है।

शेयर करें

मुख्य समाचार

शनि देव का शनिवार को अभिषेक करने से तुरंत होती है मनोकामना पूरी

कोलकाता : शनि देवको सभी ग्रहों में निष्पक्ष और न्याकारी ग्रह माना जाता है। अगर किसी के ऊपर शनि देव की कृपा दृष्टि पड़ जाये आगे पढ़ें »

धन वृद्धि के लिए एक कटोरी पानी का टोटका जरूर अपनाए !

कोलकाता : घर में काम आने वाली छोटी-छोटी चीजें ऐसी होती हैं जिनसे घर में सुख-समृद्धि आती है। ये चीजें बड़े काम की हैं, इनके आगे पढ़ें »

ऊपर