हाथी पर सवार होकर विदा हुईं मां दुर्गा

कोलकाताः नौ दिवसीय शारदीय नवरात्रि के समापन के बाद दशमी के दिन व्रत पारण के बाद मां दुर्गा का विसर्जन किया गया। महानवमी के अगले दिन दशमी तिथि को धूमधाम से दुर्गा मां की मूर्तियों का विसर्जन किया गया। कहते हैं कि विसर्जन ने के लिए श्रवण नक्षत्र युक्त दशमी तिथि शुभ मानी जाती है। इतना ही नहीं, दुर्गा विसर्जन के साथ ही दुर्गा पूजा का भी समापन हो जाता है। विजय दशमी के दिन की मां दुर्गा का विसर्जन किया गया। इसी दिन मां कैलाश पर्वत के लिए प्रस्थान कर गईं।

हाथी पर सवार होकर विदा होंगी मां

बता दें कि शारदीय नवरात्रि की शुरुआत 7 अक्टूबर के दिन हुई थी, और इस दिन मां डोली में सवार होकर धरती पर आई थीं, लेकिन उन्होंने हाथी से प्रस्थान किया। ज्योतिषियों का कहना है कि दशमी तिथि इस बार शुक्रवार को पड़ी थी इसलिए मां दुर्गा गज यानि हाथी पर सवार होतकर प्रस्थान करेंगी। मान्यता है कि मां का हाथी पर प्रस्थान उत्तम वर्षा का संकेत होता है।

शेयर करें

मुख्य समाचार

राम अवतार गुप्त प्रोत्साहन, ऐसे करें आवेदन

" हमारा सपना हर छात्र माने हिंदी को अपना" हर साल की तरह इस साल भी हम लेकर आये हैं राम अवतार गुप्त प्रोत्साहन। इस बार आगे पढ़ें »

न्यूटाउन में चल रही नाका चेकिंग

कोलकाताः सड़क हादसों को कम करने के लिए बिधाननगर पुलिस के नव दिगंत ट्रैफिक गार्ड अब सक्रिय है। वे नालबन के सामने कोलकाता के रास्ते आगे पढ़ें »

ऊपर