भूलकर भी इस दिन ना काटे नाखून वरना रहेंगे बीमार

कोलकाता : हिंदू धर्म में कई ऐसी प्राचीन परंपराएं हैं जिनका पालन हजारों साल बाद भी किया जा रहा है। हिंदू धर्म में हर दिन का अपना विशेष महत्व है, जिसका हमारे शरीर, स्वास्थ्य और भविष्य पर गहरा प्रभाव पड़ता है। इसलिए हमारे माता-पिता बचपन से ही हमें उस दिन और उस दिन जो कामनहीं किया जाता है, उसके बारे में बताते रहते हैं। आज हम यहां एक बेहद खास और अहम टॉपिक पर बात करने जा रहे हैं। आपने अपने घर में कई बार सुना होगा कि इस दिन बाल नहीं काटने चाहिए, इस दिन नाखून नहीं काटने चाहिए। हमारे माता-पिता या बड़े-बुजुर्ग ऐसे ही बाल और नाखून काटने से मना नहीं करते। इसके पीछे एक बहुत बड़ा कारण है, जिससे अविश्वास के कारण हमारे जीवन पर कई नकारात्मक प्रभाव पड़तेहैं और कोई भी माता-पिता नहीं चाहते कि उनके बच्चों को किसी भी तरह की समस्या का सामना करना पड़े। इसलिए वे बचपन से ही हमें कई जरूरी बातें बताते रहते हैं।
गुरुवार के दिन नाखून काटने से होते हैं कई नकारात्मक प्रभाव
गुरुवार या गुरुवार को नाखून काटने की मनाही है। गुरुवार के अलावा मंगलवार और शनिवार को भी नाखून नहीं काटने चाहिए। इसके पीछे कई धार्मिक कारण हैं। तो आइए जानते हैं गुरुवार के दिन नाखून न काटने के क्या धार्मिक कारण हैं। हिंदू धर्म में गुरुवार को गुरु देव का दिन माना जाता है। इस दिन नाखून या बाल काटने से न केवल बृहस्पति नाराज होता है बल्कि बृहस्पति ग्रह को भी कमजोर करता है। फलस्वरूप ऐसेव्यक्ति के घर में सुख-शांति का अभाव रहता है। इतना ही नहीं गुरुवार के दिन नाखून काटने से व्यक्ति को कई अवांछित समस्याओं का भीसामना करना पड़ता है। कई विशेषज्ञों का कहना है कि बृहस्पति का सीधा संबंध हमारी बुद्धि से होता है और इस दिन नाखून या बाल काटने से भी व्यक्ति की बुद्धि कमजोर होती है।
शनिवार और मंगलवार को भी नाखून और बाल नहीं काटने चाहिए
वहीं शनिवार के दिन बाल या नाखून काटकर शनिदेव क्रोधित हो जाते हैं। ऐसे में व्यक्ति की उम्र कम होने लगती है। इसके अलावा परिवार को आर्थिक परेशानियों का भी सामना करना पड़ सकता है। इसके अलावा मंगलवार के दिन नाखून और बाल काटना भी वर्जित है। कहा जाता है कि मंगलवार के दिन बाल या नाखून काटने से रक्त संबंधी रोग हो सकते हैं। इसके अलावा भाइयों के बीच अनबन की संभावनाएं भी बढ़ जाती हैं। इतना ही नहीं मंगलवार के दिन नाखून या बाल काटने से व्यक्ति का आत्मविश्वास भी कमजोर होने लगता है। यही कारण है कि इन दिनों बाल और नाखून नहीं काटने की सलाह दी जाती है।

 

शेयर करें

मुख्य समाचार

माल हादसे के मृतकों के परिजनों को क्षतिपूर्ति, दिए जाएंगे…..

मालबाजार: माल नदी का जल स्तर बढ़ने से आयी बाढ़ की चपेट में मृतकों के परिजनों को क्षतिपूर्ति की घोषणा प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी कार्यालय की आगे पढ़ें »

मो. अली पार्क के निकट पूजा ड्यूटी कर रहे पुलिस कर्मी की अस्वाभाविक मौत

कोलकाता : महा दशमी की सुबह मो. अली पार्क के निकट पूजा ड्यूटी कर रहे पुलिस कर्मी की अस्वाभाविक परिस्थितियों में मौत हो गई। घटना जोड़ासांको आगे पढ़ें »

ऊपर