डॉग को पालने के हैं कई फायदे, सिर्फ रक्षा ही नहीं करते बल्कि सेहत के लिए भी हैं अच्छे

कोलकाताः ऐनिमल लवर्स अपने घर में किसी ने किसी जानवर को Pet बनाकर रखते हैं। किसी को बिल्ली पसंद होती है, तो किसी को मछली। वैसे सबसे पॉप्युलर तो डॉग होते हैं, जिनसे जुड़ी तस्वीरों और वीडियोज की तो इंटरनेट पर भी भरमार दिखती है। इनमें डॉग्स को फनी चीजें करते या फिर अपने ओनर की केयर या प्यार करते देखा जा सकता है। आखिर ऐसा क्या खास है, जो डॉग लोगों की दिल में मौजूद सॉफ्ट प्लेस को अपना बना लेता है? चलिए जानते हैं।
भरोसेमंद और वफादार होना
डॉग काफी भरोसेमंद होते हैं। वो हमेशा आपकी रक्षा करते हैं। आप चाहे जिस भी स्थिति में हों, वो कभी आपका साथ नहीं छोड़ते। उनका स्नेह आपके प्रति कभी खत्म नहीं होता, फिर चाहे आप गरीब हों या अमीर। डॉग बुरे लोगों को भी भांपने में माहिर होते हैं। अगर आपके घर कोई आए, जिसे आपका डॉगी पसंद न करे, तो इसे हल्के में नहीं लेना चाहिए, क्योंकि उसका बार्क करना आपको चेताने के लिए होता है।
मूड को भांप लेना
डॉग ऐसे जानवर होते हैं, जो अपने मालिक के मूड को बहुत जल्दी भांप लेते हैं। जब ओनर दुखी होता है, तो डॉगी उनकी गोद में अपना सिर रख देता है या चुपचाप उनके पास जाकर बैठ जाता है या फिर अपना टॉय लेकर उनके साथ खेलने लग जाता है। डॉग के साथ जिस तरह का इमोशनल कनेक्शन इंसान का बनता है, वैसा किसी अन्य ऐनिमल के साथ कम ही नजर आता है।
वो बहुत प्यारे होते हैं
गोल्डन रिट्रीवर्स, लैब और हस्की से लेकर पूडल, पग और पोमेरेनियन तक, कुत्तों की बहुत सारी नस्लें हैं, जिन्हें आप प्यार करने से खुद को रोक नहीं सकेंगे। वो जब आपके साथ कडल करते हैं, तो उनके लिए दिल में सॉफ्ट साइड और बढ़ जाता है। वैसे रिसर्च में सामने आ चुका है कि कडलिंग करना डॉग का अपने मालिक के साथ इमोशनल बॉन्ड बढ़ाने का एक तरीका है। साथ ही में उनका यूं साथ होना व्यक्ति में तनाव के स्तर को कम करने में भी मदद करता है।
मेरा सुख-दुख का साथी है मेरा डोग्गो

‘डॉग सबसे स्नेही ऐनिमल होते हैं और उनका व्यवहार इसे साबित करता है। जब आप लंबे दिन के बाद घर आते हैं, तो वो हमेशा उत्साह के साथ आपका स्वागत करते हैं, जो आपके चेहरे पर मुस्कुराहट ले आता है। मैं जब काम के बाद घर आता हूं, तो मेरा कुत्ता मेरे पास अपना पसंदीदा खिलौना लेकर आ जाता है या मेरा जूता छिपा देता है, जिससे मैं कहीं उसे फिर से छोड़कर बाहर न जा सकूं। हम अगर बाहर जाते हैं, तो वो भी हमें याद करते हैं। मेरा अगर मूड अच्छा न हो, तो मेरा कुत्ता मुझपर कूदकर, मेरे चेहरे को चाटकर, या खेलते हुए मुझे खुश करने की कोशिश करता है। ये ऐसा है जैसे वो हमारे सारे इमोशन्स का समझता हो।’
– भरत उपाध्याय

डॉग है आपकी सेहत के लिए भी अच्छा

‘मुझे आप लोगों के बारे में नहीं पता, लेकिन मेरा कुत्ता मेरे परिवार के सदस्यों और मेरे साथ पूरे दिन, हर दिन पीछा करता रहता है। वो 24×7 टहलने, तैरने, दौड़ने या कार की सवारी के लिए बाहर जाने की उम्मीद में लगा रहता है, जैसे वो अपना हर पल हमारे साथ ही बिताना चाहता हो। वैसे इसके अपने फायदे भी हैं।
स्टडीज में भी सामने आ चुका है कि डॉग ओनर अन्य लोगों के मुकाबले ज्यादा जीतें हैं साथ ही में उनका फिटनेस लेवल भी ज्यादा होता है। अपने डॉग के साथ सिर्फ 15-30 मिनट बिताने से आप अधिक शांत महसूस करते हैं। अपने डॉग के साथ खेलने से आपके दिमाग में डोपामाइन और सेरोटोनिन का स्तर बढ़ जाता है, दोनों ही आनंद और शांति से जुड़े न्यूरोट्रांसमीटर हैं। ऐसे में भला क्यों आपको डॉगी का साथ पसंद नहीं आएगा।’ डॉ. अंजलि श्रीवास्तव

 

 

शेयर करें

मुख्य समाचार

राम अवतार गुप्त प्रोत्सहन, ऐसे करें आवेदन

" हमारा सपना हर छात्र माने हिंदी को अपना" हर साल की तरह इस साल भी हम लेकर आये हैं राम अवतार गुप्त प्रोत्साहन। इस बार आगे पढ़ें »

संसद में हंगामे को लेकर विपक्ष पर बरसे पीएम मोदी, कहा…

नई दिल्ली : बीजेपी संसदीय दल की बैठक में पीएम मोदी ने संसद में हंगामे को लेकर विपक्ष पर निशाना साधा है। संसद की बैठक आगे पढ़ें »

ऊपर