क्या आपके यूरिन से भी आती है इस तरह की बदबू तो…

कोलकाता : यूरिन में से काफी ज्यादा बदबू आना किसी गंभीर बीमारी की ओर संकेत कर सकता है। आमतौर पर जब आपका शरीर अच्छी तरह से हाइड्रेटेड रहता है तो यूरिन में से किसी भी तरह की गंध नहीं आती है। जानकारों के मुताबिक, जब आपके यूरिन में पानी की मात्रा कम होने के साथ ही अपशिष्ट पदार्थों की मात्रा काफी ज्यादा होती है तो यूरिन में से बदबू आने की समस्या का सामना करना पड़ता है।
कई बार दवाइयों आदि के सेवन से भी यूरिन में बदबू आने की दिक्कत देखने को मिलती है। हालांकि, यूरिन में से अजीब गंध आना कई बार किसी गंभीर बीमारी की ओर संकेत कर सकता है। आइए जानते हैं किन बीमारियों की ओर संकेत करता है यूरिन में से अजीब गंध का आना-
डायबिटीज- डायबिटीज लंबे समय तक चलने वाली बीमारी है। डायबिटीज में शरीर पर्याप्त इंसुलिन नहीं बना पाता है या फिर जितना इंसुलिन बनता है बॉडी उसका उतना इस्तेमाल नहीं कर पाती है। डायबिटीज की समस्या जब नियंत्रण से बाहर चली जाती है तो इसके कारण यूरिन से काफी तेज, मीठी, फ्रूटी सी बदबू आने लगती है। इस तरह की बदबू यूरिन में मौजूद शुगर के कारण आती है। इस तरह की बदबू आने का मतलब होता है कि आपका शरीर खून में से अतिरिक्त शुगर को बाहर निकालने की कोशिश कर रहा है।
यूरिनरी ट्रैक्ट इंफेक्शन (यूटीआई)- यूटीआई यानी कि यूरीनरी ट्रैक्ट इंफेक्शन एक बैक्टीरियल इंफेक्शन है जो पुरुषों की तुलना में महिलाओं में ज्यादा पाया जाता है। पुरुषों की तुलना में महिलाओं का मूत्रमार्ग (जिस नली से मूत्र गुजरता है) छोटा होता है, जिससे बैक्टीरिया आसानी से यूरिन पाइप में प्रवेश कर जाते हैं। यूटीआई के कारण भी यूरिन में काफी अजीब बदबू आती है। यूटीआई होने पर यूरिन में बैक्टीरिया की मौजूदगी के कारण अमोनिया की तरह बदबू आती है।
प्रोस्टेटाइटिस- प्रोस्टेटाइटिस एक ऐसी बीमारी है जिसके कारण प्रोस्टेट ग्रंथि में सूजन आ जाती है। इस बीमारी के कारण पुरुषों को यूरिन पास करने में काफी दिक्कत और दर्द का सामना करना पड़ता है। इसके चलते यूरिन में से भी अजीब बदबू आती है। ब्लैडर इंफेक्शन की तरह ही, प्रोस्टेटाइटिस होने पर यूरिन से सड़े हुए अंडे की तरह बदबू आती है।
लिवर से संबंधित दिक्कतें-  एक हेल्थ वेबसाइट के मुताबिक, लिवर में होने वाली किसी भी तरह की बीमारी के कारण यूरिन से अजीब गंध आती है। लिवर की समस्या होने पर आने वाली ये अजीब तेज गंध पेशाब में टॉक्सिन के बनने की ओर इशारा करती है। यूरिन में ये गंध उस समय आती है जब लिवर टॉक्सिन को तोड़ने में असमर्थ होता है। इस दौरान यूरिन से गंध आने के अलावा इसके रंग में भी बदलाव होने लगता है। आमतौर पर यूरिन का कलर हल्का पीला होता है लेकिन यूरिन से संबंधित बीमारी होने पर यूरिन का कलर गहरा भूरा या संतरी रंग का हो जाता है।
कैसे करें समस्या की पहचान?
इस बात का पता लगाने के लिए कि आप किस समस्या से पीड़ित है, इसके लिए आपको सबसे पहले लक्षणों का पता लगाना जरूरी होता है। यूटीआई, डायबिटीज, लिवर से संबंधित बीमारियों और प्रोस्टाइटिस के संकेत कई बार काफी अलग होते हैं जिससे आप इनके लक्षणों का आसानी से पता लगा सकते हैं। हालांकि, किसी भी बीमारी का पता लगाने का सबसे अच्छा तरीका ये है कि आप डॉक्टर से संपर्क करें। चेकअप और टेस्ट के जरिए डॉक्टर आसानी से ये बता सकते हैं कि आपको कौन सी बीमारी है।

 

शेयर करें

मुख्य समाचार

हाते खोड़ी कार्यक्रम के बाद ही दिल्ली पहुंचे राज्यपाल

परीक्षा पे चर्चा कार्यक्रम में वर्चुअल रूप से हुए शामिल, पीएम मोदी को सराहा सन्मार्ग संवाददाता कोलकाता/नई दिल्ली : राज्यपाल डॉ. सी.वी. आनंदा बोस गुरुवार को हाते आगे पढ़ें »

हावड़ा-पुरी के बीच दौड़ेगी 8 कोच की नई मिनी वंदे भारत ट्रेन

हावड़ा : भारतीय रेलवे 2 रूटों पर मिनी वंदे भारत एक्सप्रेस ट्रेन चलाने चल रही है। हावड़ा-न्यूजलपाईगुड़ी के बाद अब रेलवे मंत्रालय अगले महीने से आगे पढ़ें »

ऊपर