क्या आपको पता है विंटर वजाइना के बारे में…

कोलकाताः सर्दी अपनी तेजी पर है और इसके साथ ही यह स्किन के लिए एक सर्द चेतावनी भी है। सर्दियों का सबसे अधिक असर सेहत के साथ साथ स्किन और बालों पर पड़ता है। ठंड के मौसम में स्किन और बाल रूखे होने लगते हैं।हम सभी जानते हैं कि जैसे-जैसे तापमान गिरता है और घरेलू हीटिंग चालू होती है, यह आपकी त्वचा के साथ खिलवाड़ कर सकता है। ऐसे में ड्राई स्किन और फटे होंठ एक समस्या बन जाते हैं, जिसे हम हैंड क्रीम और लिप बाम लगाकर दूर करते हैं, लेकिन क्या वह सूखा, शरीर के सभी हिस्सों को प्रभावित कर सकता है, जिसमें आपके निजी अंग भी शामिल हों। एक रिपोर्ट के अनुसार सर्दियों में वजाइना भी ड्राई हो सकती है। क्या आपने कभी विंटर वजाइना के बारे में सुना है।आइए आपको बताते हैं क्या होता है विंटर वजाइना, क्या हैं इसके लक्षण और कैसे पाएं इससे छुटकारा।

क्या होता है विंटर वजाइना

मैरी बर्क, लंदन ब्रिज प्लास्टिक सर्जरी एंड एस्थेटिक क्लिनिक में वरिष्ठ ​​नर्स, ने मीडिया से बातचीत में बताया कि सर्दियों के महीनों में महिलाओं को वजाइना में ड्राईनेस का अधिक सामना करना पड़ सकता है। शुष्क शरद ऋतु और सर्दियों की हवा शरीर से नमी को कम कर देती है, जिससे त्वचा हाईड्रेटेड नहीं रहती और टूट जाती है। हमारे साइनस भी सूख जाते हैं। वहीं इस दौरान वजाइना भी शूष्क मोड में प्रवेश कर सकती है, जब हम वातानुकूलित कमरों में बहुत समय बिताते हैं, या हीटिंग चालू रखते हैं, तो हम हवा में रहते हैं जिसमें बहुत कम नमी होती है।

ऐसे में जो सूखापन हम अनुभव करते हैं वह अक्सर हमारे शरीर के हर इंच तक फैल सकता है जिसमें हमारे सबसे निजी अंग भी शामिल होते हैं। वहीं इस मामले में डॉ. जेन गुंटर का कहना है कि मौसम परिवर्तन एक महिला के निजी अंगों को प्रभावित कर सकता है लेकिन विंटर वजाइना की तरह समर वजाइना भी होना चाहिए।

डॉ. जेन गुंटर के अनुसार वजाइना के सूखेपन का बाहर के तापमान से कोई लेना-देना नहीं है, बल्कि यह कम एस्ट्रोजन के स्तर, कुछ दवाओं और थ्रश के कारण होता है। उनके अनुसार वजाइना सभी मौसमों में काफी अच्छी तरह से काम करती है। वजाइना एक स्थिर तापमान बनाए रखती है क्योंकि आपके शरीर के अंदर होता है और मानव शरीर का तापमान केवल बाहरी तापमान के साथ बढ़ता है जब कोई हीट स्ट्रोक से पीड़ित होता है। वहीं वजाइना का सूखापन एक गंभीर रूप से दुर्बल करने वाली स्थिति है जो सभी उम्र की महिलाओं को प्रभावित कर सकती है। यह शर्मनाक हो सकता है, और यह सेक्स को असहनीय रूप से दर्दनाक बना सकता है।

इसके लक्षण इस प्रकार हैं

  • बेचैनी और वजाइना में जलन
  • सेक्स के दौरान बेचैनी
  • सेक्स से दूर जाना
  • उत्तेजित होने और कामोन्माद तक पहुंचने में कठिनाई
  • वजाइना की सतह पीली और पतली दिखना
  • वजाइना का सिकुड़ना या छोटा होना
  • सामान्य से अधिक पेशाब करना
  • बार-बार यूरिनरी ट्रैक्ट इन्फेक्शन

हालांकि यह एक बहुत ही आम समस्या है, लेकिन यह उन महिलाओं को सबसे अधिक प्रभावित करता है जो रजोनिवृत्ति से गुजर रही हैं या पहले से ही रजोनिवृत्ति का अनुभव कर चुकी हैं।

कुछ खास दवाएं, डायबिटीज, स्तनपान या प्रसव सहित अन्य कारक भी एक महिला के वजाइना में सूखेपन का अनुभव करने की संभावना को बढ़ा सकते हैं।

वहीं कुछ मामलों में, महिलाओं का सेक्स हार्मोन एस्ट्रोजन का निम्न स्तर भी इसका कारण हो सकता है।

वहीं कुछ विशेषज्ञों की मानें तो विंटर वजाइना में किसी अच्छे मॉइश्चराइजर का इस्तेमाल किया जा सकता है। इसके अलावा एस्ट्रोजन और हॉर्मोन रिप्लेसमेंट थेरेपी जैसे उपचार की मदद भी ली जा सकती है। वहीं लाइफस्टाइल में कुछ महत्वपूर्ण बदलाव करके वजाइना के सूखेपन के जोखिम को कम करने में मदद की जा सकती है, जिसमें आपकी डाइट भी शामिल है।

  • दिन में एक बार एप्पल जूस जरूर पिएं
  • हरी पत्तेदार सब्जियों का सेवन करें
  • खरबूजा और तरबूज जरूर खाएं
  • नारियल का करें सेवन
  • स्ट्रेस लेवल को कम करें
शेयर करें

मुख्य समाचार

राम अवतार गुप्त प्रोत्साहन, ऐसे करें आवेदन

" हमारा सपना हर छात्र माने हिंदी को अपना" हर साल की तरह इस साल भी हम लेकर आये हैं राम अवतार गुप्त प्रोत्साहन। इस बार आगे पढ़ें »

संगमनगरी की गलियों में तपकर गीतांजलि श्री ने जीता साहित्य जगत का सोना

नई दिल्लीः गीतांजलि श्री के हिंदी उपन्यास ‘रेत समाधि’ को अंतरराष्ट्रीय बुकर पुरस्कार मिला। अब तक के इतिहास में हिंदी का यह पहला उपन्यास है आगे पढ़ें »

ग्वालियर: सास ने खाना बनाने को कहा, नाराज बहू ने खा ली चूहे मारने की दवा

बीरभूम में दिल दहलाने वाली घटनाः 7 महीने से पति ने नहीं भेजा पैसा, पत्नी ने 3 बच्चों के साथ…

आर्यन खान केस की ‘जांच’ करने वाले समीर वानखेड़े पर लगे हैं ये 4 आरोप, देखें लिस्ट

आरसीपी सिंह मामले में कूदे चिराग पासवान, जदयू को दे दी सलाह

राजकोट के एटकोट पहुंचे पीएम मोदी, मल्टीस्पेशलिटी अस्पताल का किया उद्घाटन

ब्रेकिंग : पूजा के दौरान जली महिला

ब्रेकिंग : बेनियापुकुर में परित्यक्त झोपड़ी से 11 बम बरामद

चुटकियों में वजन कम कर देगा ये गर्मियों वाला फल, आज ही घर लें आएं रसीला फ्रूट

सुरक्षा की चादरों में घिर रहा है सेकेंड हुगली ब्रिज

ऊपर