क्या आपको भी नींद में सुनाई देती हैं ऐसी आवाजें? जानिए क्यों होता है ऐसा

नई दिल्ली : क्या आप जानते हैं कि सोते समय अनजान आवाजों को लेकर आपका दिमाग कैसे प्रतिक्रिया ​देता है? एक्सपर्ट्स के मुताबिक, सोते समय हमारा दिमाग अनजान और अपरिचित आवाजों को लेकर सबसे ज्यादा अलर्ट रहता है।
शोधकर्ताओं ने इस पर एक स्टडी की जिसमें 17 वॉलेंटियर्स को शामिल किया गया था। इनमें से 14 महिलाएं थीं जिन्हें किसी भी तरह का कोई ​स्लीप डिसऑर्डर नहीं​ था। इन सभी की औसत उम्र 22 साल थी। वैज्ञानिकों ने इस स्टडी के जरिए जानने की कोशिश की है कि मानव मस्तिष्क सोते वक्त किस तरह बिहेव करता है।
आवाजों को लेकर कैसे प्रतिक्रिया देता है मस्तिष्‍क
इससे पहले ऐसा माना जाता रहा है कि मानव शरीर सोते वक्त शारीरिक और मानसिक रूप से इनएक्टिव रहता है। हालांकि इसके बाद सामने आई स्टडीज और रिसर्च में दावा किया गया कि हमारी बॉडी और हमारा ब्रेन पूरी रात काम करता रहता है और ये सेहत के लिए बेहद जरूरी भी है।
हाल में की गई स्टडी में वैज्ञानिकों ने बताया है कि मानव मस्तिष्क कैसे आवाजों को लेकर प्रतिक्रिया देता है खास करके अपरिचित आवाजों को लेकर। वैज्ञानिकों ने पाया कि सोते समय भी दिमाग एक्टिव रहता है।
स्टडी में सामने आई ये बात
ऑस्ट्रिया के शोधकर्ताओं ने सोते वक्त व्यस्कों की ब्रेन एक्टिविटी को देखा और जानने की कोशिश की भी कि हमारा दिमाग अपरिचित और परिचित आवाजों को लेकर कैसे रिएक्ट करता है।
University of Salzburg के शोधकर्ताओं के नेतृत्व में की गई इस स्टडी को JNeurosci जर्नल में प्रकाशित किया गया है। इस स्टडी में वैज्ञानिकों ने पाया कि मानव ​मस्तिष्क अपरिचित और अनजान आवाजों पर खास तौर पर ध्यान देता है। ऐसा इसलिए होता है क्योंकि, नींद में भी दिमाग संभावित खतरों को लेकर अलर्ट रहता है।
वैज्ञानिकों के मुताबिक, स्लीप यानी नींद के दो मुख्य प्रकार होते हैं। इनमें एक होता है, rapid eye movement (REM) और दूसरा होता है, on-rapid eye movement (NREM) स्लीप। NREM नींद का पहला स्टेज है और स्टडी में सामने आया कि इस स्टेज के दौरान जब आप सोते आप अपरिचित आवाजें सुनते हैं तब मानव मस्तिष्क एक तरह से खुद ट्यून-इन कर लेता है।
इस स्टडी के जरिए वैज्ञानिकों ने ये बताने की कोशिश की है कि कैसे ब्रेन हमारे आसपास के वातावरण जिसमें हम रहते हैं, उसे मॉनिटर करने लगता है, भले ही उस वक्त हमारी आंखें बंद हों।
इस स्टडी में वैज्ञानिकों ने बताया कि कैसे अपरिचित आवाजें, चाहे वो टीवी से आ रही हों, म्यूजिक से या कहीं से भी, रात में आरामदायक और सुकून भरी नींद से आपको रोकती हैं। ऐसा इसलिए होता है क्योंकि, ब्रेन उस वक्त भी Higher Alert पर होता है। इन आवाजों को लेकर दिमाग पूरी तरह सतर्क रहता है। स्टडी के नतीजों में वैज्ञानिकों ने कहा है कि NREM sleep के दौरान अपरिचित आवाजें ब्रेन रिस्पॉन्स के लिए स्ट्रॉन्ग प्रमोटर की तरह काम करती हैं।

शेयर करें

मुख्य समाचार

महानगर में 55% तक पुरुष हैं इनफर्टिलिटी के शिकार : डॉ. दस्तीदार

सन्मार्ग संवाददाता कोलकाता : महानगर समेत देश भर में मेल इनफर्टिलिटी के मामले दिन-ब-दिन बढ़ते जा रहे हैं। कोलकाता में लगभग 55% तक पुरुष इनफर्टिलिटी के आगे पढ़ें »

अब डेढ़ मिनट के अंतराल पर छूटेगी कोलकाता मेट्रो

मेट्रो स्टेशनों पर मिलेगी वाईफाई की सुविधा नार्थ-साउथ मेट्रो में बदले जा रहे हैं सिग्नलिंग सिस्टम इसके लिए पहले ही बुलाए जा चुके हैं टेंडर सन्मार्ग संवाददाता कोलकाता : आगे पढ़ें »

ऊपर