धनतेरस के दिन करें ये अचूक उपाय, आर्थिक संकटों से मिलेगी मुक्ति

नई दिल्ली : हिंदू कैलेंडर के अनुसार, कार्तिक मास के कृष्ण पक्ष की त्रयोदशी तिथि को धनतेरस का पर्व मनाया जाता है। इस बार धनतेरस 2 नवंबर 2021 मंगलवार को है। यह पांच दिनों तक चलने वाले दिवाली त्योहार का पहला दिन है। धनतेरस के दिन धन के देवता कुबेर भगवान और धनवंतरी की पूजा विधि – विधान पूर्वक की जाती है। इनकी पूजा से व्यक्ति का जीवन पूरे साल आनंद व खुशियों से भरा रहता है। धार्मिक मान्यता है कि धनतेरस के दिन ये उपाय करने से घर में किसी प्रकार की कोई आर्थिक समस्या नहीं होती है। घर के सारे संकट मिट जाते हैं। घर में सुख-समृद्धि और ऐश्वर्य का वास होता है।

धनतेरस पर करें ये उपाय

पंचदेवों की पूजा : धनतेरस के दिन पंचदेवों – भगवान धन्वंतरि, माता लक्ष्मी, कुबेर, यमराज और भगवान गणेश जी की पूजा उत्तम माना जाता है। इनकी पूजा से घर परिवार में लक्ष्मी का वास रहता है।

पशुओं की पूजा : धनतेरस के दिन ग्रामीण क्षेत्रों में पशुओं की पूजा प्रचलन है। इस दिन लोग अपने पशुओं, विशेष कर गाय माता की पूजा करते हैं। दक्षिण भारत में तो गाय को मां लक्ष्मी का रूप मानते हैं।

दीपदान : धनतेरस के दिन दीपदान का विशेष महत्व होता है। धार्मिक मान्यता है कि जिस घर में यमराज के निमित्त दीपदान किया जाता है। उस घर में अकाल मृत्यु नहीं होती है।

धनिया खरीदें : वैसे तो धनतेरस के दिन सोना और पीतल खरीदने का प्रचलन है। परंतु यदि आप सोना या पीतल न खरीद सकें तो आप को धनतेरस के दिन पीली कौड़ियां और धनिया जरूर खरीदना चाहिए। धनतेरस के दिन धनिया खरीदना बेहद शुभ होता है। मान्यता है कि धनतेरस के दिन धनिया खरीदने से घर में लक्ष्मी जी का वास होता है।

हल्दी खरीदें धनतेरस के दिन शुभ मुहूर्त में बाजार से गांठ वाली पीली हल्दी अथवा काली हल्दी खरीदकर घर लायें। अब इसे कोरे कपड़े में रखकर स्थापित करें। अब षडोपचार से इसका पूजन करें। अब इसका दान करें। मान्यता है कि इससे घर में धन की कमी नहीं होगी और साथ ही कार्य में आ रही बाधाएं भी दूर होंगी।

 

शेयर करें

मुख्य समाचार

राम अवतार गुप्त प्रोत्साहन, ऐसे करें आवेदन

" हमारा सपना हर छात्र माने हिंदी को अपना" हर साल की तरह इस साल भी हम लेकर आये हैं राम अवतार गुप्त प्रोत्साहन। इस बार आगे पढ़ें »

रूपा के बगावती तेवर

सन्मार्ग संवाददाता कोलकाता : कोलकाता नगर निगम चुनाव का बिगुल बज चुका है। ऐसे में चुनाव की रणनीति तय करने के लिए राजनीतिक पार्टियों के बीच आगे पढ़ें »

ऊपर