नए साल पर करें जीरा से जुड़े ये चमत्कारी टोटके, सारे रुके काम होंगे पूरे

कोलकाताः ज्योतिष शास्त्र में कई ऐसे उपाय बताए गए हैं जिनका इस्तेमाल ग्रहों को शांत और मजबूत करने के लिए किया जाता है। जीरा ना सिर्फ सेहत के लिए अच्छा है बल्कि इससे जुड़े ज्योतिष उपाय भी सेहत के लिए फायदेमंद होते हैं। जीरा के इन टोटकों से नए साल को बेहतर बनाया जा सकता है।

जीरा के ये उपाय करने से घर सुख-समृद्धि से भरा रहता है और घर के सदस्यों की सेहत भी अच्छी रहती है। कई जगह ससुराल जाते समय बेटियों को पोटली में जीरा के दाने देकर विदा किया जाता है। ऐसा माना जाता है कि इससे बेटी को ससुराल में कभी भी धन-धान्य की कमी नहीं होती है। आइए जानते हैं जीरा के इन टोटकों के बारे में नए साल में जिनके इस्तेमाल से कार्य में आ रही अड़चनों को दूर किया जा सकता है।

  • जीरा के चमत्कारी टोटके

शुक्रवार के दिन माता लक्ष्मी की तस्वीर या मूर्ति के सामने लाल वस्त्र बिछाएं। अब इस पर एक मुट्ठी जीरा रखकर कुछ सिक्के रखें। माता लक्ष्मी की पूजा के बाद जीरे और पैसे को लपेटकर इस जगह पर रख दें जहां आप अपना धन रखते हैं। माना जाता है कि इससे घर में देवी लक्ष्मी की कृपा रहती है। खासतौर से दिवाली की रात धन वृद्धि के लिए देवी लक्ष्मी को जीरा अर्पित करना बहुत शुभ होता है।

  • आर्थिक स्थिति सही करने के लिए

बार-बार कोशिश करने के बाद भी अगर आपके हाथ में पैसा नहीं टिकता है तो जीरा का ये टोटका आपके लिए बेहद फायदेमंद है। शुक्रवार के दिन एक कपड़े में थोड़ा सा जीरा बांधकर मंदिर में माता लक्ष्मी को चढ़ाकर आ जाएं। ऐसा करने से आर्थिक स्थिति मजबूत होने लगती है। यह उपाय हर क्षेत्र में कामयाबी दिलाता है और रुके काम भी पूरे होने लगते हैं।

  • नकारात्मक शक्तियां दूर करने के लिए

अगर आपके आसपास नकारात्मक शक्ति मौजूद है या फिर आपको नजर लग गई है तो जीरे के कुछ दाने लेकर अपने ऊपर से सात बार घुमाकर अग्नि में डाल दें। ऐसा करने से नकारात्मक ऊर्जा नष्ट होती है और आसपास सकारात्मक ऊर्जा आती है।

 

शेयर करें

मुख्य समाचार

कल ही उनकी सरकार गिर गयी थी, किसी प्रकार बची

- बंगाल का बकाया रुपया नहीं दिया तो होगा आंदोलन - ममता बर्दवान : कल उनकी सरकार गिर गई थी। कुछ लोगों को फोन कर उनसे आगे पढ़ें »

राज्यपाल को लेकर भाजपा ने दी गृह मंत्रालय को रिपोर्ट

सन्मार्ग संवाददाता कोलकाता : गत नवम्बर महीने में पश्चिम बंगाल के स्थायी राज्यपाल बने डॉ. सी. वी. आनंदा बोस के बारे में भा​जपा नेताओं ने सोचा आगे पढ़ें »

ऊपर