आज मां लक्ष्मी को प्रसन्न करने के लिये करें ये उपाय

कोलकाताः आज का पंचांग आपके लिये शुभ तिथि और मुहूर्त लेकर आया है। आज शुक्रवार है, माता लक्ष्मी की पूजा करें। शुक्रवार के दिन मां लक्ष्मी माता की पूजा करना शुभ फलदायी माना जाता है। अगर कोई व्यक्ति आर्थिक तंगी से जूझ रहा है तो उसे शुक्रवार के दिन व्रत रखकर विधि-विधान से मां लक्ष्मी की पूजा करना चाहिए।
धार्मिक मान्यताओं के अनुसार मां लक्ष्मी को धन की देवी माना गया है। अगर वे अपने भक्त पर प्रसन्न हो जाती हैं तो उसके जीवन को धन-धान्य से परिपूर्ण कर देती हैं। इसके अलावा शुक्रवार को अगर भगवान विष्णु की पूजा की जाए तो भी मां लक्ष्मी प्रसन्न होती हैं क्योंकि उन्हें भगवान विष्णु की अर्धांगिनी माना जाता है। आजकल की भागदौ़ड़ भरी जिंदगी में हर कोई पर्याप्त धन कमाना चाहता है। धन न होने की स्थिति में लोगों को बेहद कठनाई का सामना करना पड़ता है। उन्हें शुक्रवार को माता लक्ष्मी की विधिवत पूजा अवश्य करनी चाहिए।
ऐसे होगा धनलाभ
शुक्रवार के दिन मां लक्ष्मी को प्रसन्न करने के लिए उनकी प्रिय चीजें जैसे कमल का फूल, कौड़ी, शंख, लाल या गुलाबी कपड़ा किसी मंदिर में जाकर अर्पित करें। इससे आर्थिक दिक्कतें दूर हो जाती हैं. कहते हैं कि जिस जगह साफ-सफाई होती है वहीं मां लक्ष्मी का वास होता है। गंदे स्थान से मां लक्ष्मी दूरी बनाकर रखती हैं। ऐसे में अपने घर और कार्यस्थल पर हमेशा साफ-सफाई रखें। खासतौर पर शुक्रवार के दिन कार्यस्थल की सफाई जरूर करें। इससे धनलाभ होगा।
गुप्त मनोकामना की पूर्ति के लिए आज बलथर मिट्टी से एक पिंड बनाकर उसपर सिंदूर का तिलक कर उस पर दूध और एक सफेद मिठाई अर्पित करें। उसके बाद एक उस पिंड के सामने एक धी का दीपक प्रज्वलित कर अपनी मनोकामना का स्मरण करें। दीपक बुझ जाने के बाद पिंड को नदी में प्रवाहित कर दें।

 

Visited 60 times, 1 visit(s) today
शेयर करें

मुख्य समाचार

National Science Day 2024: आज के दिन क्यों मनाया जाता है नेशनल साइंस डे? जानें यहां

नई दिल्ली: आज नेशनल साइंस डे है। हर आज के दिन ही देश के महान वैज्ञानिक CV रमन ने प्रकाश की फोटोन थ्योरी से जुड़ी आगे पढ़ें »

Himachal Political Crisis: हिमाचल प्रदेश में सियासी उठापटक, CM सुक्खू ने इस्तीफे से किया इनकार

शिमला: हिमाचल प्रदेश में सियासी उठापटक जारी है। विधानसभा में आज बुधवार(28 फरवरी) को जमकर हंगामा हुआ। इस बीच BJP के 15 विधायकों को सदन आगे पढ़ें »

ऊपर