शुक्रवार के दिन करें ये 5 उपाय घर मे आयेंगी खुशियां

कोलकाता : हिंदू धर्म में शुक्रवार का दिन मां लक्ष्मी का दिन माना जाता है। धन की देवी लक्ष्मी जी की इस दिन विधिवत पूजा की जाती है। मान्यता है कि शुक्रवार को मां लक्ष्मी का पूजन करने से उनकी कृपा हमेशा बनी रहती है और धन-धान्य में कोई कमी नहीं रहती है। जो कोई भी धन-धान्य से परिपूर्ण होना चाहता है, उसे शुक्रवार के दिन माता लक्ष्मी की पूजा-अराधना करनी चाहिए। देवी लक्ष्मी को प्रसन्न करने के लिए भक्त शुक्रवार के दिन उपाय करते हैं। जानिए इन उपायों के बारे में जिनसे आप भी मां लक्ष्मी का पा सकते हैं आशीर्वाद-
1. शुक्रवार के दिन माता महालक्ष्मी के मंदिर जाकर उन्हें लाल वस्त्र अर्पित करना शुभ माना जाता है। संभव हो तो मां लक्ष्मी को लाल बिंदी, सिंदूर, लाल चुनरी और लाल चूडियां भी अर्पित करें। कहते हैं कि ऐसा करने से मां लक्ष्मी अपनी कृपा भक्त पर बरसाती हैं।

2. कहते हैं कि शुक्रवार के दिन मां लक्ष्मी को प्रसन्न करने के लिए हाथ में पांच लाल रंग के फूल लेकर माता का ध्यान लगाना चाहिए। इसके बाद लक्ष्मीजी को प्रणाम करते हुए प्रार्थना करें कि वह आपके घर पर सदैव विराजमान रहें। इसके बाद इन फूलों को तिजोरी या अलमारी में रख दें।
3. माना जाता है कि शुक्रवार के दिन श्री लक्ष्मी नारायण पाठ करने से भी मां लक्ष्मी प्रसन्न होती हैं। कहते हैं कि पाठ करने के बाद श्री लक्ष्मी नारायण भगवान को खीर का भोग लगाना चाहिए।
4. शुक्रवार के एक लाल रंग का कपड़ा लें और इस कपड़े में सवा किलो चावल रखें। ध्यान रहे कि चावल का एक भी दाना टूटा नहीं होना चाहिए। चावल की पोटली बनाकर हाथ में लेकर ओम श्रीं श्रीये नम: का पांच माला जाप करें। फिर इस पोटली को तिजोरी में रख दें। कहते हैं कि ऐसा करने से धन प्राप्ति का योग बनता है
5. मान्यता है कि शुक्रवार के दिन मां लक्ष्मी का आशीर्वाद पाने के लिए लाल रंग के वस्त्र धारण करने चाहिए।

शेयर करें

मुख्य समाचार

पैरेंट्स ने नहीं दिलाया कुत्ता तो बेटे ने कर ली…

विशाखापट्टनम : एक नाबालिग लड़के ने सिर्फ इसलिए खुदकुशी कर ली कि उसे माता-पिता ने घर में पालने के लिए कुत्ता लाने से मना कर आगे पढ़ें »

5000 हेल्थ अस्टिटेंट को दी जाएगी मरीजों की देखभाल की ट्रेनिंग : केजरीवाल

नई दिल्ली : राज्यों ने जानलेवा कोरोना वायरस की संभावित तीसरी लहर से निपटने की तैयारी शुरू कर दी है। इसी क्रम में दिल्ली सरकार भी आगे पढ़ें »

ऊपर