भूल कर भी भाई को ना बांधे ऐसी राखी, मानी जाती है अशुभ

कोलकाता : रक्षा बंधन के दिन बहनें भाई की कलाई पर राखी बांधती हैं और उनके दीर्घायु होने की कामना करती हैं। बदले में भाई भी अपनी बहन को वचन देता है कि वो हमेशा उसकी रक्षा करेगा। इस दिन बहनें भाई को रंग-बिरंगी राखी बांधती हैं। अक्सर सुंदर राखी खरीदने के चक्कर में बहनों का कुछ छोटी-छोटी बातों पर ध्यान नहीं जाता है। राखी बांधते समय इसके रंग से जुड़ी कुछ खास बातों का ध्यान जरूर रखना चाहिए।
भूलकर भी ना लें इस तरह की राखी
राखी खरीदते वक्त कुछ खास बात का ध्यान जरूर रखें। जो राखी आप भाई की कलाई पर बांध रही हो उस पर किसी तरह का अशुभ चिह्न अंकित नहीं होना चाहिए। ऐसी राखी भूलकर भी ना खरीदें जिस पर कोई अशुभ चिह्न बना हो।
भाई की कलाई पर ऐसी राखी ना बांधें जिस पर देवी-देवताओं की तस्वीर बनी हो। देवताओं की तस्वीर से बनी राखी कलाई पर बांधना देवता का अपमान माना जाता है।
राखी बांधने से पहले अच्छी तरह से परख लें कि आपकी राखी किसी भी तरह से खंडित ना हो। अगर गलती से आपने ऐसी राखी खरीद भी ली है तो उसे भाई की कलाई पर बिल्कुल भी ना बांधें। खंडित राखी अपशकुन मानी जाती है।
रक्षा बंधन के दिन बहनें अपने भाई के सुख-समृद्धि की कामना करती हैं। भाई को हमेशा पवित्र राखी बांधी जाती है इसलिए भाई को काले रंग की राखी बिल्कुल भी ना बांधे। उस तरह की राखी भी बांधने से बचें जिसमें काले धागे का इस्तेमाल हुआ हो। काला रंग अशुभ और नकारात्मकता माना जाता है।

 

शेयर करें

मुख्य समाचार

दुर्गापूजा को यूनेस्को से मान्यता दिलाने में केंद्र सरकार की भूमिका : मीनाक्षी लेखी

राज्य छीन रहा है श्रेय सन्मार्ग संवाददाता कोलकाता : दुर्गापूजा को यूनेस्को से अमूर्त सांस्कृतिक विरासत का दर्जा मिलने के बाद पूरे राज्य में उत्साह का माहौल आगे पढ़ें »

डेंगू से सावधान रहने के लिए पूजा समितियां भी करें प्रचार

कोलकाता : कोलकाता नगर निगम के मेयर फिरहाद हकीम ने महानगर में डेंगू की स्थिति को चिंताजनक बताते हुए कहा कि कोलकाता नगर निगम और आगे पढ़ें »

ऊपर