मंगलवार के दिन न करें ये काम, मंगल की जगह हो सकता है अमंगल

कोलकाता : मंगलवार का दिन हनुमान जी को समर्पित होने से इनकी विशेष रूप से पूजा की जाती है। मान्यता है कि इस दिन हनुमान जी सच्चे मन से पूजा करने से संकटों से छुटकारा मिलता है। जीवन के अमंगल दूर होकर खुशहाली का आगमन होता है। ज्योतिषशास्त्र के अनुसार, मंगलवार के दिन कुछ कामों को करने से बचना चाहिए। नहीं तो ये जिंदगी में अशुभ प्रभाव डालने का भी काम करते हैं। चलिए आज हम आपको बताते हैं कि मंगलवार को किन कामों को करने से परहेज रखना चाहिए…
बाल और नाखून काटना अशुभ
मंगलवार का दिन बेहद शुभ माना जाता है। ऐसे में इस दिन बाल कटवाना, नाखून काटना और शेविंग करना अशुभ माना जाता है। मान्यता है कि इससे धन व बुद्धि में कमी आ सकती है। शास्त्रों की माने तो इस दिन बाल कटवाने से उम्र 8 महीेने कम हो जाती है।
मांस और शराब का सेवन करने से बचें
मंगलवार के दिन चिकन और शराब का सेवन नहीं करना चाहिए। माना जाता है कि इसका सेवन करने से परिवार व सामाजिक जीवन पर नकारात्मक असर पड़ता है।
धारदार चीजें खरीदने की गलती ना करें
इस दिन चाकू, कैंची, कांटा, कद्दूकस आदि धारदार चीजें खरीदने से बचना चाहिए। माना जाता है कि इससे घर में कलह का माहौल बनता है।
काले रंग के कपड़े पहनने से बचें
ज्योतिषशास्त्र के अनुसार, इस दिन काले कपड़े पहनने से शनि का प्रभाव होता है। शनि और मंगल का संयोग अशुभ व कष्टकारी माना जाता है।
निवेश ना करें आरंभ
किसी काम के लिए निवेश मंगलवार का दिन करने से बचना चाहिए। इससे कार्य में असफलता व धन संबंधी नुकसान झेलना पड़ सकता है।
पैसों का लेन-देन करने से बचें
मंगलवार के दिन किसी को उधार देने व किसी से उधार लेना अशुभ माना जाता है। ऐसे में इसे करने से बचें।
हनुमान जी की कृपा पाने के लिए मंगलवार के दिन करें ये काम
– लाल रंग के कपड़े धारण करें।
– किसी लाल रंग की चीज का दान करें।
– हनुमान जी को गुड़ का भोग लगाएं। फिर पूजा के बाद वह गुड़ गाय को खिला दें।
– हनुमान मंदिर में जाकर हनुमान चालीसा व संकट मोचन हनुमान का पाठ करें।

शेयर करें

मुख्य समाचार

राम अवतार गुप्त प्रोत्सहन, ऐसे करें आवेदन

" हमारा सपना हर छात्र माने हिंदी को अपना" हर साल की तरह इस साल भी हम लेकर आये हैं राम अवतार गुप्त प्रोत्साहन। इस बार आगे पढ़ें »

बड़ी खबरः उच्च माध्यमिक में सब पास

सन्मार्ग संवाददाता कोलकाता : उच्च माध्यमिक की परीक्षा के नतीजों को लेकर राज्य में असंतोष जारी था। ऐसी परिस्थिति में असफल परीक्षार्थियों को पास कराने का आगे पढ़ें »

ऊपर