इस दिशा में भूलकर भी न जलाएं अखंड ज्योति, वरना…

 कोलकाताः हिंदू पंचांग के अनुसार, आश्विन माह में शुक्ल पक्ष की प्रतिपदा से शारदीय नवरात्रि का पर्व प्रारंभ हो जाता है, जो नौ दिनों तक चलता है। आज नवरात्र का दूसरा दिन है। बता दें शारदीय नवरात्रि 26 सितंबर से शुरू हुई है जो 04 अक्टूबर तक मनाई जाएगी। वहीं 05 अक्टूबर को विजयदशमी है। नवरात्रि के पावन उत्सव पर मां दुर्गा के नौ अलग-अलग रूपों की पूजा की जाती है। आज हम जानते हैं कि अखंड ज्योति किस दिशा में जलाना चाहिए।
धार्मिक मान्यता है कि नवरात्रि के नौ दिनों में माता रानी धरती लोक पर विचरण करती हैं और अपने भक्तों के कष्टों को हर कर उनकी मनोकामनाओं को पूर्ण करती हैं। नवरात्रि के पहले दिन कलश स्थापना की जाती है। साथ ही नौ दिनों के लिए माता रानी के नाम की अखंड ज्योति भी जलाई जाती है।
इस दिशा में रखें अखंड ज्योति
नवरात्र के दौरान अधिकतर लोग अखंड ज्योति की स्थापना करते हैं और इसकी स्थापना के लिये वास्तु शास्त्र का खास ध्यान रखना पड़ता है। वास्तु शास्त्र के अनुसार अखंड ज्योति की स्थापना के लिये आग्नेय कोण, यानि दक्षिण-पूर्व दिशा का चुनाव करना सबसे अच्छा माना जाता है। इस दिशा में अखंड ज्योति की स्थापना करने से घर में सुख-समृद्धि का वास होता है और शत्रुओं पर विजय प्राप्त होती है। इसके अलावा पूजा संबंधी सभी सामग्री को पूजा कक्ष के दक्षिण-पूर्व दिशा में रखें। देवी मां को प्रसन्न करने के लिये पूजा की सारी सामग्री इसी दिशा में रखनी चाह‌िए।

शेयर करें

मुख्य समाचार

आईआईटी के 12 छात्रों को मिला सालाना एक करोड़ पैकेज की नौकरी

खड़गपुर : पश्चिम मिदनापुर जिला अंतर्गत खड़गपुर आईआईटी के 12 छात्रों को सालाना एक करोड़ पैकेज की नौकरी मिली है। छात्रों को यह बेहतर आफर आगे पढ़ें »

न्यूटाउन और साल्टलेक में कुकुरमुत्ते की तरह फैल गया है फर्जी कॉल सेंटर का व्यवसाय

सन्मार्ग संवाददाता विधाननगर : साल्टलेक और न्यूटाउन में कुकुरमुत्ते की तरह फर्जी कॉल सेंटर का व्यवसाय फैल गया है। आये दिन पुलिस की ओर से अभियान आगे पढ़ें »

ऊपर