डायबिटीज अवेयरनेस वीकः डायबिटीज के इन मिथक को सच मानते हैं लोग, जानें क्या है सच्चाई?

कोलकाताः बहुत से लोग डायबिटीज को ‘शुगर’ कहते हैं, लेकिन यह वास्तव में है क्या? डायबिटीज एक पुरानी बीमारी है, जिसमें शरीर एनर्जी के लिए उपयोग किए जाने वाले खाने को ठीक से संसाधित करने में सक्षम नहीं होता है। जब आपको डायबिटीज होता है, तो शरीर पर्याप्त इंसुलिन बनाने में असमर्थ होता है या इसका ठीक से उपयोग नहीं कर पाता है। यह आपके ब्लड में शुगर या ग्लूकोज के निर्माण का कारण बनता है, इसकी वजह से बहुत सारे लोग मधुमेह को शुगर कहते हैं। अब जब हम जानते हैं कि डायबिटीज क्या है, तो इससे जुड़े मिथकों और भ्रांतियों से दूर रहने की आवश्यकता है।

मिथक: डायबिटीज के लोग चीनी के साथ कुछ भी नहीं खा सकते हैं
सच्चाई: यह सच नहीं है। चीनी और स्टार्च एनर्जी के ऐसे सोर्स हैं, जिनकी हर किसी को अपने डेली डाइट में आवश्यकता होती है। डायबिटीज के मरीजों को अपनी डाइट को बेहतर ढंग से मैनेज करने और स्वस्थ विकल्प खाने की जरूरत है, जो अधिक नेचुरल और कम प्रोसेस्ड होते हैं। एक स्वस्थ, संतुलित डाइट में चीनी और स्टार्च को कम मात्रा में शामिल किया जा सकता है। यदि आपको मधुमेह है तो सही डाइट के लिए अपने डॉक्टर से परामर्श करना सबसे अच्छा है।

मिथक: केवल वयस्कों को टाइप 2 डायबिटीज हो सकता है
सच्चाई: उम्र एक रिस्क फैक्टर है, जो लोगों को उम्र बढ़ने के साथ टाइप 2 डायबिटीज के विकास के प्रति अधिक संवेदनशील बनाता है। हालांकि, अनहेल्दी खाने की आदतों और कम शारीरिक गतिविधि के कारण अधिक वजन वाले या मोटापे से ग्रस्त बच्चों व किशोरों में टाइप 2 डायबिटीज के मामले बढ़ रहे हैं।

मिथक: टाइप 2 डायबिटीज केवल मोटे लोगों को प्रभावित करता है
सच्चाई: अधिक वजन और मोटापा निश्चित रूप से आपको डायबिटीज होने के खतरे में डाल सकता है। हालांकि, हर अधिक वजन वाले या मोटे लोगों को डायबिटीज नहीं होता है। इसके अलावा, जिन लोगों का वजन बॉडी मास इंडेक्स और अन्य फैक्टर के अनुसार सामान्य है, साथ ही कम वजन वाले लोग भी इस बीमारी का शिकार हो सकते हैं।

मिथक: डायबिटीज के मरीज हो जाते हैं और खो देते हैं अपने पैर
सच्चाई: कई सारे लोग मानते हैं कि डायबिटीज का इलाज नहीं किया जाए तो अंधापन और पैर खो देने जैसी दिक्कतें आ सकती हैं। हालांकि ये सच नहीं। डायबिटीज के मरीज जो अपने ब्लड प्रेशर, ग्लूकोज, वजन को मैनेज करते हैं और धूम्रपान छोड़ देते हैं, उनको कोई भी कॉम्प्लिकेशन नहीं हो सकते। किसी भी कॉम्प्लिकेशन के विकास से बचने के लिए वार्षिक डायबिटीज हेल्थ जांच भी महत्वपूर्ण है।

 

शेयर करें

मुख्य समाचार

स्वास्थ्य साथी के बावजूद अस्पताल ने वसूले रुपये, लगाया गया जुर्माना

सन्मार्ग संवाददाता कोलकाता : स्वास्थ्य साथी कार्ड दिखाकर अस्पताल में भर्ती होने के बावजूद मरीज के परिजनों से नकद रुपये लिये जाने का आरोप न्यूटाउन के आगे पढ़ें »

प्रेमिका की हत्या कर शव को दफनाया

खड़गपुर : पश्चिम मिदनापुर जिले के खड़गपुर लोकल थाना इलाके के एक गांव में रहने वाली एक महिला को मार कर दफना दिए जाने के आगे पढ़ें »

ऊपर