देवशयनी एकादशी आज: अब 15 नवंबर को योग निद्रा से जागेंगे श्रीहरी

कोलकाताः मंगलवार, 20 जुलाई को आषाढ़ महीने के शुक्लपक्ष की एकादशी है। इसे देवशयनी एकादशी पर्व कहा जाता है। इस दिन से भगवान विष्णु चार महीने तक योग निद्रा में रहते हैं। इस एकादशी पर भगवान विष्णु की विशेष पूजा के बाद शयन करवाने की परंपरा है। साथ ही व्रत या उपवास रखा जाता है, भगवान विष्णु का अभिषेक किया जाता है और दान दिया जाता है। अब 4 महीने बाद यानी 15 नवंबर को कार्तिक महीने के शुक्लपक्ष की एकादशी तिथि पर विशेष पूजा पाठ के साथ भगवान को जगाया जाएगा। इस दिन को देव प्रबोधिनी एकादशी कहा जाता है। भगवान विष्णु के जागने के बाद इस दिन से मांगलिक कामों की शुरुआत हो जाएगी।
वामन पुराण: 4 महीने पाताल में रहते हैं भगवान विष्णु
वामन पुराण के मुताबिक, भगवान विष्णु ने वामन अवतार में राजा बलि से तीन पग भूमि दान में मांगी थी। भगवान ने पहले पग में पूरी पृथ्वी, आकाश और सभी दिशाओं को ढक लिया। अगले पग में स्वर्ग लोक ले लिया। तीसरा पग बलि ने अपने आप को समर्पित करते हुए सिर पर रखने को कहा। इस तरह दान से प्रसन्न होकर भगवान ने बलि को पाताल लोक का राजा बना दिया और वर मांगने को कहा।

बलि ने वर मांगते हुए कहा कि भगवान आप मेरे महल में निवास करें। तब भगवान ने बलि की भक्ति देखते हुए चार महीने तक उसके महल में रहने का वरदान दिया। धार्मिक मान्यता के अनुसार, भगवान विष्णु देवशयनी एकादशी से देवप्रबोधिनी एकादशी तक पाताल में बलि के महल में निवास करते हैं।

देवशयनी एकादशी की पूजा विधि
सुबह जल्दी उठकर घर की सफाई करें फिर नहाएं। पूजा स्थान पर भगवान विष्णु की सोने, चांदी, तांबे या पीतल की मूर्ति स्थापित करें और भगवान की पूजा करें। भगवान विष्णु को पीला कपड़ा चढ़ाएं। व्रत की कथा सुनें उसके बाद आरती करें। फिर प्रसाद बांटकर ब्राह्मणों को भोजन कराएं और दक्षिणा दें।

 

शेयर करें

मुख्य समाचार

राम अवतार गुप्त प्रोत्सहन, ऐसे करें आवेदन

" हमारा सपना हर छात्र माने हिंदी को अपना" हर साल की तरह इस साल भी हम लेकर आये हैं राम अवतार गुप्त प्रोत्साहन। इस बार आगे पढ़ें »

सिलीगुड़ी में कोरोना के 172 गुना अधिक संक्रामक डेल्टा वेरिएंट ने दी दस्तक

डेल्टा और यूके वेरिएंट के केस सिलीगुड़ी में पाया जाना चिंताजनक लेकिन लोगों की जान जाने का खतरा अपेक्षाकृत कम है: डॉ. संदीप सेन गुप्ता, आगे पढ़ें »

ऊपर