प्यार में धोखा मिलने के बाद उपजी बेताबी…

कोलकाता : इसमें कोई संदेह नहीं है कि चिंता और विश्वासघात साथ-साथ चलते हैं। किसी प्रियजन के पीठ में छुरा घोंपने के एक भयानक अनुभव के बाद, चिंता दर्द को और बढ़ा देती है। चाहे आपका अफेयर चल रहा हो या आपको धोखा दिया जा रहा हो, बेवफाई के बाद उपजी स्थिति सभी के लिए सबसे खराब समय ला सकती है। खासकर विश्वासघात मिलने से होनेवाली व्यग्रता मानसिक, भावनात्मक और शारीरिक रूप से थका देने वाला होता है। यहां बेवफाई के बाद होनेवाली चिंता और दर्द से व्यक्ति पर क्या प्रभाव पड़ सकता है, 5 स्थितियों पर नज़र डाली गई है।
लचीलेपन की स्थिति

जब आप अपने रिश्ते के भविष्य के बारे में चिंतित महसूस करना शुरू करते हैं, तो आपकी स्वाभाविक प्रतिक्रिया होती है कि आप क्या खो रहे हैं, जो इस मामले में आपका पार्टनर ही होता है। यदि आप बेवफाई मिलने के बाद भी अपने पार्टनर के साथ रहना चाहते हैं, तो आप इस डर से उनसे अत्यधिक जुड़ाव महसूस कर सकते हैं कि वे आपको फिर से चोट पहुचाएंगे। यह स्थिति बेवफाई के बाद चिंता से उत्पन्न होती है, जो अंततः एक आश्रित संबंध की ओर ले जाता है, जहां आपका कोई कंट्रोल नहीं होता है।
सजा देने की इच्छा

सबसे पहले, आप अपने पार्टनर को आपको चोट पहुंचाने और अपने विश्वास को धोखा देने के लिए दंडित करने की सोच सकते हैं। इसके अलावा, आप ऐसा होने देने के लिए, अपने पार्टनर के किसी अन्य के साथ अफेयर के संकेत को पहले न समझ पाने के लिए, या अफेयर होने के लिए खुद को सजा देने की भी सोच सकते हैं। अपने पार्टनर की बेवफाई के बाद का दर्द आपको मादक द्रव्यों के सेवन जैसे विनाशकारी दिशा की ओर ले जा सकती है।

प्यार को रोकना

जब कोई पार्टनर बेवफाई करता है, तो यह आपको ऐसा महसूस करा सकता है कि आपने अपने जीवन का सारा नियंत्रण खो दिया है। यदि आपको महसूस होता है कि आप अपने प्यार के बगैर भी खुद को संभालने की क्षमता रखते हैं, तो इसके लिए जरूरी है अपने पार्टनर से दूर रहना। इसमें प्यार, विश्वास, सेक्सुअल इंटीमेसी और आपके जीवन के बारे में जानकारी शामिल हो सकती है।

भावनात्मक खालीपन

जिस व्यक्ति से आप सबसे ज्यादा प्यार करते हैं, उसके द्वारा विश्वासघात किए जाने से आपकी भावनात्मक स्थिति पर अत्यधिक मनोवैज्ञानिक प्रभाव पड़ सकता है। कुछ लोग बेवफाई से मिलने वाले सदमे से खुद को दर्द में इतना डुबो लेते हैं कि उनकी चिंता और भावनात्मक खालीपन चरम पर पहुंच जाती है, जिसके कारण उन्हें सायकोलोजिस्ट से परामर्श करना पड़ता है।

एक नियंत्रित रवैया

जब लोग असुरक्षित महसूस करते हैं, तो वे अपने पार्टनर पर हावी होने की कोशिश कर सकते हैं। यदि आप अफेयर के बाद अपने पार्टनर के साथ रह रहे हैं, तो उस पर नियंत्रित रखने के लिए आपका स्वाभाविक झुकाव हो सकता है। यह बेवफाई के बाद की चिंता का एक और हिस्सा है। आप अपने पार्टनर से उसके फोन और अन्य डिवाइसों का इस्तेमाल करने की मांग कर सकते हैं। आप जानना चाहेंगे कि वे हर समय कहां रहती हैं और यदि आपकी ज़रूरतें पूरी नहीं होती हैं, तो आपको पोस्ट-चीटिंग एंग्जायटी अटैक का खतरा हो सकता है।

 

 

शेयर करें

मुख्य समाचार

राम अवतार गुप्त प्रोत्साहन, ऐसे करें आवेदन

" हमारा सपना हर छात्र माने हिंदी को अपना" हर साल की तरह इस साल भी हम लेकर आये हैं राम अवतार गुप्त प्रोत्साहन। इस बार आगे पढ़ें »

बड़ी खबरः फिर उबला भाटपाड़ा, समाज विरोधियाें ने लहराये हथियार, घायल किये लोगों को

भाटपाड़ा : भाटपाड़ा एक बार फिर उबला। यहां समाजविरोधियों ने हथियार लहराते हुए लोगों को घायल कर दिया। भाटपाड़ा थाना अंतर्गत मद्राल नेताजी मोड़ इलाके आगे पढ़ें »

ऊपर