कश्मीर जाएगा सूफी संतों का शिष्टमंडल

sufi delegation

जयपुर : सूफी संतों एवं देश की कुछ चुनिंदा दरगाहों के प्रतिनिधियों का एक दल 12 से 14 अक्टूबर तक जम्मू कश्मीर की यात्रा करेगा। इस यात्रा के दौरान ये शिष्टमंडल कश्मीर के लोगों से मिलकर वहां की जमीनी हालात जानेगा। अजमेर दरगाह के दीवान जैनुल आबेदीन अली खान ने यह पहल की है। इस 18 सदस्यीय प्रतिनिधि मंडल की अगुवाई उनके बेटे नसीरूद्दीन चिश्ती करेंगे। दीवान जैनुल आबेदीन अली खान ने गुरुवार को अजमेर में कहा, कश्मीर भारत के खिलाफ सीमा पार से चलाए जा रहे प्रोपगेंडे का शिकार हुआ है।

सेतु की तरह काम करना चाहते है : दीवान

दीवान आबेदीन का कहना है कि ‘‘कश्मीर भारत के खिलाफ सीमा पार से चलाए जा रहे प्रोपगेंडे का शिकार हुआ है। हमारा मानना है कि कश्मीर के युवाओं को अपना करियर बनाने और जम्मू-कश्मीर में समृद्धि स्थापित करने पर ध्यान देना चाहिए।’’ साथ ही उन्होंने कहा कि ‘‘हम कश्मीरियों और समृद्धि के बीच एक सेतु की तरह काम करना चाहते हैं। इसीलिए सूफी युवाओं का एक समूह कश्मीर जा रहा है। उसमें अलग-अलग दरगाहों से सभी सज्जादानशीन के उत्तराधिकारी हैं।’’

 

देश की मुख्य धारा से जोड़ने पर होगी चर्चा

यह समूह 12 से 14 अक्टूबर 2019 तक कश्मीर में वहां के लोगों से मिलेगा तथा कश्मीरियों को देश की मुख्य धारा से कैसे जोड़ा जाए– इस बारे में चर्चा करेगा। उन्होंने कहा कि प्रतिनिधिमंडल की यात्रा के बारे में केंद्र सरकार एवं अन्य अधिकारियों को सूचित किया गया है। यह 12 अक्टूबर को नई दिल्ली से रवाना होगा। प्रतिनिधिमंडल में राजस्थान (अजमेर, जयपुर और झुंझुनू), हैदराबाद,नई दिल्ली, उत्तर प्रदेश, कर्नाटक, गुजरात और बिहार की दरगाहों से प्रतिनिधि होंगे।

शेयर करें

मुख्य समाचार

naqvi

नकवी बोले- अल्पसंख्यकों के लिए भारत स्वर्ग है, पाकिस्तान नर्क

नयी दिल्ली : केंद्रीय अल्पसंख्यक कार्य मंत्री मुख्तार अब्बास नकवी ने सोमवार को राष्ट्रीय अल्पसंख्यक विकास एवं वित्त निगम (एनएमडीएफसी) के रजत जयंती समारोह में आगे पढ़ें »

syria

तुर्की के हमले में सीरिया में 26 नागरिकों की मौत, अमेरिका भेज सकता है सेना

बेरूत : सीरिया में कुर्दों के खिलाफ तुर्की के हमले में रविवार को करीब 26 नागरिकों की मौत हो गई। एक युद्ध निगरानी संस्था ने आगे पढ़ें »

ऊपर