श्मशान घाट के बाहर लगे बैनर, ‘तस्वीरें लेना दंडनीय अपराध है’…

उत्तर प्रदेश : यूपी के श्मशान घाटों से अक्सर ऐसी तस्वीरें और वीडियो आते रहे हैं, जिसमें बड़ी संख्या में चिताएं जलती दिखाई रही हैं। प्रशासन का भी ध्यान मौतों को रोकने से ज्यादा आंकड़े छिपाने पर है इसलिए प्रशासन श्मशान घाटों के बाहर बड़े-बड़े बैनर लगा रहा है, जिसमें चेतावनी लिखी है कि यहां फोटो या वीडियो लेना दंडनीय अपराध है। मामला गोरखपुर का है जहां से सीएम योगी आदित्यनाथ सांसद रहे हैं। यहां के श्मशान घाटों के बाहर नगर निगम की तरफ से बैनर टांग दिए गए हैं। इन बैनरों पर लिखा है कि यहां पर तस्वीरें लेना दंडनीय अपराध है। नगर निगम ने ऐसे एक-दो बैनर नहीं, बल्कि कई बैनर लगा रखे हैं। बैनर पर लिखा है, “शवदाह गृह पर पार्थिव शरीर का दाह संस्कार हिंदू रीति रिवाज के अनुसार किया जा रहा है। कृपया फोटोग्राफी/ वीडियोग्राफी ना करें। ऐसा करना दंडनीय अपराध है।” गोरखपुर नगर निगम ने बैनर लगाकर यह जताने की कोशिश की है अगर आपने यहां पर तस्वीरें ली तो पकड़े जाने पर आपके ऊपर कानूनी कार्रवाई भी की जा सकती है। हालांकि, जब इन बैनरों की तस्वीरें सोशल मीडिया पर वायरल हुई और सरकार की आलोचना शुरू हुई, तो रातों रात इन बैनरों को हटा दिया गया। इससे पहले लखनऊ के भैसा कुंड श्मशान घाट को नीली टीन से ढक दिया गया था, ताकि बाहर से कोई श्मशान घाट की तस्वीरें ना ले सके। यूपी में शनिवार को बीते 24 घंटों में कोरोना के 30,317 नए मामले सामने आए और 303 लोगों की मौत हुई। सबसे ज्यादा 3,125 नए मामले राजधानी लखनऊ में सामने आए। वहीं, गोरखपुर में 1,070 नए मरीज मिले और 7 लोगों की जान गई। इसी के साथ यूपी में इलाज करा रहे मरीजों की संख्य बढ़कर 3,01,833 पहुंच गई।

 

शेयर करें

मुख्य समाचार

पार्थ के खिलाफ दाखिल चार्जशीट का तकनीकी रोड़ा

अभी इंतजार है राज्य सरकार की अनुमति का सन्मार्ग संवाददाता कोलकाता : टीचर नियुक्ति घोटाले में सीबीआई की तरफ से पहली चार्जशीट अलीपुर के सीबीआई कोर्ट में आगे पढ़ें »

सरकारी सुविधाएं लेते समय किया था मुफ्त इलाज का वादा

निजी अस्पतालों व नर्सिंग होमों के खिलाफ पीआईएल सन्मार्ग संवाददाता कोलकाता : सरकारी सुविधा लेते समय निजी अस्पतालों और नर्सिंग होमों ने एक निर्धारित संख्या में आम आगे पढ़ें »

ऊपर