इन 2 ब्लड ग्रुप वालों के लिए कोरोना ज्यादा खतरनाक

नई दिल्ली : कोरोना वायरस की बेकाबू लहर से पूरे देश में दहशत का माहौल है। इस बीच काउंसिल ऑफ साइंटिफिक एंड इंटस्ट्रियल रिसर्च ने एक रिसर्च पेपर प्रकाशित किया है जो संकेत दे रहा है कि AB और B ब्लड ग्रुप के लोगों को कोविड-19 से ज्यादा संभलकर रहने की जरूरत है। इसमें दावा किया गया है कि बाकी ब्लड ग्रुप्स की तुलना में AB और B ब्लड ग्रुप के लोग कोरोना से ज्यादा प्रभावित हो रहे हैं।
रिसर्च पेपर में यह भी कहा गया है कि O ब्लड ग्रुप के लोगों पर इस बीमारी का सबसे कम असर हुआ है। इस ब्लड ग्रुप के ज्यादातर मरीज या तो एसिम्प्टोमैटिक हैं या फिर उनमें बेहद हल्के लक्षण देखे गए हैं। यह रिपोर्ट CSIR द्वारा देशभर में जुटाए सीरोपॉजिटिव सर्वे पर आधारित है।
CSIR की यह रिपोर्ट दर्शाती है कि शाकाहारी लोगों की तुलना में मांस खाने वाले लोगों में कोविड-19 के खतरे की संभावनना ज्यादा है। यह दावा देशभर के करीब 10 हजार लोगों के सैंपल साइज पर आधारित है, जिसका विश्लेषण 140 डॉक्टर्स की एक टीम ने किया है। इसमें पाया गया कि मांस खाने वाले कोरोना संक्रमित मरीजों की संख्या वेजिटेरियन लोगों से ज्यादा है और वेजिटेरियन डाइट में हाई फाइबर ही इस बड़े अंतर की वजह है।
फाइबर युक्त डाइट एंटी-इन्फ्लेमेटरी होती है जो न सिर्फ इंफेक्शन के बाद गंभीर हालत होने से बचा सकती है, बल्कि इंफेक्शन को शरीर पर हमला करने से भी रोक सकती है। सर्वे में ये भी बताया गया है कि कोरोना संक्रमण के सर्वाधिक मामले AB ब्लड ग्रुप से सामने आए हैं जबकि B ब्लड ग्रुप में कोरोना संक्रमण की संभावना इससे थोड़ी कम है। वहीं, O ब्लड ग्रुप के लोगों में सबसे कम सीरोपॉजिटिविटी देखी गई है।
CSIR के इस सर्वे पर सीनियर फीजिशियन डॉ. एसके कालरा ने कहा, ‘ये केवल सर्वेक्षण का एक नमूना है, कोई साइंटिफिक रिसर्च पेपर नहीं है जिसका रिव्यू हुआ है। वैज्ञानिक समझ के बिना विभिन्न ब्लड ग्रुप के लोगों में संक्रमण की दर कैसे तय की जा सकती है। O ब्लड ग्रुप के लोगों में संक्रमण से लड़ने के लिए बेहतर इम्यूनिटी होती है, ये कहना फिलहाल जल्दबाजी होगी।’ उन्होंने कहा कि एक लार्ज स्केल पर किए गए सर्वे में अलग तस्वीर बनकर सामने आ सकती है।
बता दें कि कोरोना की दूसरी लहर ने दिल्ली से महाराष्ट्र तक लोगों को हिला दिया है। श्मशान घाट में अंतिम संस्कार के लिए लंबी कतारें देखी जा रही हैं। पवित्र गंगा नदी में लाशें बहती देखी जा रही है। संक्रमित लोगों के शवों को दाह संस्कार की बजाए नदियों में बहाया जा रहा है। बिहार में इस तरह के मामले लगातार देखे जा रहे हैं।
हालांकि इस बीच अच्छी खबर ये है कि कोविड मरीजों का रिकवरी रेट एक बार फिर बढ़ गया है। बीते 24 घंटे में ही देश में करीब 3.55 लाख से ज्यादा लोग कोरोना को मात देकर ठीक हुए हैं। इतना ही नहीं, एक्टिव केस में भी कटौती हुई है। बीते 24 घंटे में एक्टिव केसों की संख्या 25 हजार तक कम हुई है, जो राहत की बात है।

शेयर करें

मुख्य समाचार

उत्तर बंगाल को अलग राज्य घोषित करने की भाजपा सांसद ने कर दी मांग

सन्मार्ग संवाददाता कोलकाता : उत्तर बंगाल को अलग राज्य घोषित करें या फिर केंद्रशासित प्रदेश बनाएं। इसे लेकर खबरें तो कुछ दिनों से चल रही थीं, आगे पढ़ें »

कपल्स के लिए सबसे बेहतर Sex…

कोलकाता : हर व्यक्ति में सेक्स ड्राइव अलग-अलग होती है, लेकिन यदि आपकी या आपके साथी की हाई सेक्स ड्राइव है, तो आप शायद हमेशा बिस्तर पर आगे पढ़ें »

ऊपर