सोशल मीडिया के जरिए सुपारी किलिंग की साजिश, दो गिरफ्तार

बैरकपुर के वकील की हत्या की दी गयी थी सुपारी
सन्मार्ग संवाददाता
कोलकाता : सोशल मीडिया के जरिए बैरकपुर के एक वकील की हत्या की सुपारी देने वाले एक युवक को कोलकाता पुलिस ने गिरफ्तार किया है। कोलकाता पुलिस के एआरएस अधिकारियों ने सेंट्रल एवेन्यू से अभियुक्त पवन राय को गिरफ्तार किया। वहीं दूसरी तरफ कोलकाता पुलिस की एक टीम ग्वालियर रवाना हो गयी है। वहां ग्वालियर पुलिस द्वारा सुपारी लेने के आरोप में गिरफ्तार नीरज जाट को अपनी हिरासत में लेकर कोलकाता पुलिस वापस कोलकाता आएगी। कोलकाता आने पर नीरज और पवन से एक साथ पुलिस की टीम पूछताछ करेगी। पुलिस सूत्रों के अनुसार कुछ दिनों पहले कोलकाता पुलिस को ग्वालियर पुलिस से पता चला कि ग्वालियर पुलिस ने नीरज जाट नामक सुपारी किलर को एक मामले में गिरफ्तार किया है। अभियुक्त के व्हाट्सऐप की जांच करने पर पता चला कि कोलकाता के किसी पवन राय ने नीरज को बैरकपुर में रहनेवाले एक वकील व उसके साथी के कत्ल के लिए पांच लाख रुपये की सुपारी दी है। हालांकि अभी तक वकील व उसके साथी सलामत हैं। यह खुलासा होने पर इससे कोलकाता पुलिस को अवगत कराया गया। पुलिस सूत्रों के अनुसार कोलकाता पुलिस के करीबी सूत्रों की मानें, तो ग्वालियर पुलिस से उक्त सूचना मिलने के बाद नारकेलडांगा निवासी पवन राय को सेंट्रल एवेन्यू से गिरफ्तार कर लिया गया। उसने क्यों व किस इरादे से एक वकील व उसके साथी की हत्या की सुपारी दी, इसका पता लगाया जा रहा है।
सोशल मीडिया पर हथियार के साथ पवन डालता था तस्वीर
पुलिस सूत्रों के अनुसार नारकेलडांगा निवासी पवन राय पिस्तौल और बुलेट के साथ अपनी तस्वीर सोशल मीडिया पर अपलोड करता था। इसके जरिए लोगों को पता चलता था कि वह सुपारी किलरों का एजेंट है। सोशल मीडिया पर पर अपलोड तस्वीर के जरिए पवन की पहचान मध्य प्रदेश के स्वघोषित डॉन नीरज जाट से हुई थी। पुलिस सूत्रों के अनुसार पवन के खिलाफ कई आपराधिक मामले दर्ज हैं।

शेयर करें

मुख्य समाचार

राम अवतार गुप्त प्रोत्साहन, ऐसे करें आवेदन

" हमारा सपना हर छात्र माने हिंदी को अपना" हर साल की तरह इस साल भी हम लेकर आये हैं राम अवतार गुप्त प्रोत्साहन। इस बार आगे पढ़ें »

फायर ब्रिगेड में नियुक्तियों पर हाई कोर्ट का स्टे

कोलकाता : हाई कोर्ट के जस्टिस हरीश टंडन और जस्टिस शंपापाल दत्त के डिविजन बेंच ने फायर ब्रिगेड विभाग में 15 सौ नियुक्तियों पर अगले आगे पढ़ें »

ऊपर