मोदी के संदेश पर कांग्रेस का तंज -इंटरनेट सेवाएं हैं बंद तो कैसे पढ़ेंगे संदेश

नयी दिल्ली : नागरिकता संशोधन विधेयक को लेकर देश के पूर्वोत्तर राज्यों में हिंसात्मक विरोध प्रदर्शन के चलते प्रशासन ने वहां इंटरनेट सेवाएं स्‍थगित कर दी हैं। वहीं, प्रधानमंत्री मोदी ने देश की सदन में इस विधेयक को मंजूरी दिए जाने पर असम में प्रदर्शन के मद्देनजर ट‌्विट किया है जिसमें उन्होंने असम के लोगों को सुरक्षा का आश्वासन दिया है। इस संदेश पर कांग्रेस ने पलटवार करते हुए कहा कि प्रधानमंत्री का यह संदेश असम के लोग नहीं पढ़ सकते क्योंकि वहां इंटरनेट सेवा बंद है।

इसके साथ ही कांग्रेस ने इस विधेयक को पूरी तरह असंवैधानिक बताते हुए कहा कि उच्चतम न्यायालय में विधेयक के खिलाफ याचिका दायक कर दी गई है।

यह विधेयक उच्चतम न्यायालय जा रहा

कांग्रेस ने अपने आधिकारिक ट्विटर हैंडल के जरिए मोदी के ट्वीट पर तंज कसते हुए कहा कि, ‘‘असम में हमारे भाई और बहन आपके संदेश को नहीं पढ़ सकते मोदी जी, शायद आप भूल गए होंगे कि उनके यहां इंटरनेट सेवाएं स्‍थगित कर दी गई हैं।’’

वहीं, कांग्रेस नेता मनीष तिवारी ने कहा, ‘‘यह विधायक पूरी तरह से संविधान की भावना के खिलाफ है और इसलिए उच्चतम न्यायालय जा रहा है। इसे चुनौती किसके द्वारा दी जाएगी यह जरूरी नहीं।’’

असम के लोगों की पहचान कोई छीन नहीं सकता

बता दें कि गुरुवार को प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने ट‌्विट कर असम के लोगों को अश्वासन दिया कि नागरिकता (संशोधन) विधेयक को संसद में मंजूरी मिल जाने से कोई चिंता की बात नहीं, उनके अधिकारों, विशिष्ट पहचान और बेहतरीन संस्कृति को उनसे कोई भी नहीं छीन सकता।

शेयर करें

मुख्य समाचार

बंगाल में कोरोना वायरस संक्रमण के 2752 नये आये मामले

कोलकाता : वेस्ट बंगाल कोविड-19 हेल्थ बुलेटिन के अनुसार पश्चिम बंगाल में कोरोना वायरस संक्रमण के पिछले 24 घंटे में 2752 नये मामले आये है आगे पढ़ें »

राममंदिर के शिलान्यास के अवसर पर अपने घरों में दीपावाली मनाएं : रावत

देहरादून : उत्तराखंड के मुख्यमंत्री त्रिवेन्द्र सिंह रावत ने पांच अगस्त को अयोध्या में राममंदिर निर्माण हेतु भूमिपूजन के अवसर पर प्रदेश की जनता से आगे पढ़ें »

ऊपर