कांग्रेस सांसद संजय सिंह ने राज्यसभा से दिया इस्तीफा, भाजपा होंगे शामिल

Congress MP Sanjay Singh, resign from the Rajya Sabha, the BJP will be included

नई दिल्ली : कांग्रेस नेता और राज्यसभा सांसद संजय सिंह ने अपनी राज्यसभा सदस्यता और पार्टी से मंगलवार को इस्तीफा दे दिया है। राज्यसभा के सभापति वेंकैया नायडू ने उनका इस्तीफा स्वीकार भी कर लिया है। राज्यसभा के उपसभापति हरिवंश ने सदन को इसकी जानकारी दी। सिंह कांग्रेस को बिना नेतृत्व का पार्टी बताया। अब वे बुधवार को भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) में शामिल हो जाएंगे।

इस्तीफे के बाद कही यह बात

संजय ने इस्तीफे के बाद कहा, ‘मैं कांग्रेस इसलिए छोड़ रहा हूं क्योंकि कांग्रेस नेतृत्व जीरो है। मैं ‘सबका साथ सबका विकास’ के कारण मोदी का समर्थन करता हूं। कांग्रेस अभी भी अतीत में है, उसे भविष्य का पता नहीं है। आज पूरा देश पीएम मोदी के साथ है और अगर देश उनके साथ है तो मैं भी उनके साथ हूं। कल मैं बीजेपी में शामिल होेने जा रहा हूं। मैंने पार्टी और राज्यसभा से इस्तीफा दे दिया है।’

अमेठी के राजपरिवार से हैं

गांधी परिवार के करीबी संजय अमेठी के राजपरिवार से आते हैं। इस बार के लोकसभा चुनाव में उन्हें सुल्तानपुर संसदीय सीट से मैदान में उतारा गया था जहां उन्हें मेनका गांधी से हार मिली थी। बाद में कांग्रेस ने उन्हें असम से राज्यसभा सांसद बनाया था। उनका कार्यकाल अभी एक साल का बचा हुआ था। इसके बावजूद उन्होंने राज्यसभा और कांग्रेस छोड़ने का ऐलान कर दिया।

लंबा राजनीतिक जीवन

संजय 1980 के दशक में दो बार विधानसभा सदस्य रहे। 1988 में कांग्रेस छोड़ जनता दल में चले गए। 1989 के लोकसभा चुनाव में राजीव गांधी के खिलाफ अमेठी से चुनाव हार गए। बाद में जनता दल ने उन्हें राज्यसभा भेजा। 1998 भाजपा के टिकट पर अमेठी से लोकसभा चुनाव जीता। अमेठी में ये भाजपा की पहली जीत थी। 2009 में कांग्रेस ने उन्हें सुल्तानपुर से उम्मीदवार बनाया। इस चुनाव में उन्होंने बहुजन समाज पार्टी (बसपा) के मोहम्मद ताहिर को करीब 98 हजार मतों से पराजित किया और कांग्रेस को 25 साल बाद सुल्तानपुर में जीत दिलाई। गौरतलब है कि वे 2014 के लोकसभा चुनाव से पहले कांग्रेस से नाराज हो गए थे, जिसके बाद पार्टी ने उन्हें असम से राज्यसभा भेजा था। इसके चलते सुल्तानपुर सीट से उनकी दूसरी पत्नी अमिता सिंह चुनाव लड़ी थीं, लेकिन वो जीत नहीं सकीं। हालांकि संजय सिंह की पहली पत्नी गरिमा सिंह मौजूदा समय में अमेठी से बीजेपी की विधायक हैं।

कांग्रेस में संवेदनहीनता

संजय ने कहा कि कांग्रेस में 15 से 20 वर्षों से संवादहीनता की स्थिति बनी हुई है। गौरतलब है कि 245 सदस्यों वाली राज्‍यसभा में पहले से चार सीटें खाली थीं। अब उनके इस्‍तीफे से पांच सीटें रिक्‍त हो गई हैं।

शेयर करें

मुख्य समाचार

छात्रों के प्रदर्शन के आगे झुका कोलकाता विश्वविद्यालय

चांसलर को मंच पर आने की नहीं मिली अनुमति बिना चांसलर के ही हुआ दीक्षांत समारोह शर्मसार हुआ शिक्षा जगत सन्मार्ग संवाददाता कोलकाता : पश्चिम बंगाल में छात्रों की आगे पढ़ें »

dhankhad

लंबे समय तक याद रहेगा यह तमाशा – राज्यपाल

सन्मार्ग संवाददाता कोलकाता : कलकत्ता विश्वविद्यालय के मंगलवार के दीक्षांत समारोह में भाग लेने में विफल रहने से नाराज राज्यपाल जगदीप धनखड़ ने कहा कि जिन आगे पढ़ें »

ऊपर