ओडिशा में कांग्रेस विधायक ने विधानसभा स्पीकर को दी ‘फ्लाइंग किस’, जानें पूरा मामला

flying kiss

भुुवनेश्वर : ओडिशा विधानसभा में एक विचित्र मामला सामने आया जिसपर पूरा सदन ठहाकों से गूंज उठा। दरअसल, कांग्रेस विधायक ताराप्रसाद बाहिनीपति ने अपने निर्वाचन क्षेत्र के मुद्दों को उठाने की अनुमति मिलने के बाद अध्यक्ष एसएन पात्रो को ‘फ्लाइंग किस’ दी। हालांकि, जेयपोर के विधायक ने इस पर स्पष्ट किया कि उन्होंने ऐसा पात्रो का अपमान करने के इरादे से नहीं किया था, उन्होंने केवल अध्यक्ष की ओर आभार जताने के लिए ऐसा किया था। वह सदन में पहले सदस्य थे जिनसे सवाल पूछने के लिए कहा गया। बाहिनीपति पत्रकारों को बताया कि ‘मैं अध्यक्ष का शुक्रिया अदा करना चाहता था, फ्लाइंग किस उनके लिए मेरी सराहना थी।

आभार व्यक्त करने के लिए दिया ‘फ्लाइंग किस’

बाहिनीपति का कहना है कि ‘मैं अध्यक्ष का शुक्रिया अदा करना चाहता था, क्योंकि उन्होंने मेरे निर्वाचन क्षेत्र में पिछड़े इलाकों के लिए चिंता जताई थी। फ्लाइंग किस उनके लिए मेरी सराहना थी। कांग्रेस विधायक ने कहा कि मैं अध्यक्ष का आभारी हूं क्योंकि उन्होंने मुझे सदन के 147 सदस्यों में से पहला सवाल करने का मौका दिया। विधायक ने अपने निर्वाचन क्षेत्र में पेयजल की समस्याओं पर सरकार का ध्यान आकर्षित किया।

इससे पहले विधायक के इस वाक्यांश पर ऑनलाइन बिकी टी-शर्ट

बाहिनीपति पिछले सप्ताह भी सुर्खियों में रहे जब वह शीतकालीन सत्र के पहले दिन मुख्यमंत्री नवीन पटनायक के पास जाकर उनसे पूछा, ‘सर, क्या आप खुश हैं?’ वहीं पटनायक ने भी तुरंत जवाब में कहा, ‘मैं बहुत खुश हूं।’ बता दें कि बीजद अध्यक्ष इस साल की शुरुआत में अपने चुनाव अभियानों के दौरान मतदाताओं से अक्सर पूछते थे कि क्या वे खुश हैं। यह वाक्यांश राज्य में इतना लोकप्रिय हुआ कि ‘क्या आप खुश हैं?’ लिखी हुई टी-शर्ट ऑनलाइन बिकने लगी।

शेयर करें

मुख्य समाचार

टोक्‍यों ओलंपिक में खिलाड़ियों का पूरा समर्थन करेगा देश : कोविंद

नयी दिल्ली : राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद ने शनिवार को कहा कि 24 जुलाई से नौ अगस्त तक आयोजित 2020 टोक्यो ओलंपिक में देश का प्रतिनिधित्व आगे पढ़ें »

बुकर पुरस्कार विजेता जोखा अल हार्सी पहुंचीं जयपुर साहित्य महोत्सव में, लेखन चुनौतियों का जिक्र किया

जयपुरः ओमान की लेखिका एवं बुकर पुरस्कार विजेता जोखा अल हार्सी के लिए लेखन का सबसे दिलचस्प और चुनौतीपूर्ण पहलू समाज में मौजूद अनसुनी और आगे पढ़ें »

ऊपर