शीतऋतु की आम बीमारियां व उनसे बचाव

सर्दी का मौसम खाने-पीने का मौसम होता है, रजाई में बैठकर गर्म-गर्म चाय के साथ पकौड़े या समोसे या गाजर का हलवा इत्यादि अच्छी-अच्छी वस्तुएं खाने का मौसम। नवम्बर, दिसम्बर तथा जनवरी ठंड का खुशगवार मौसम होता है पर यही मौसम लेकर आता है त्वचा की अनेक बीमारियां जैसे – हाथ – पैर और होंठों का फटना, हाथों की खाल उतरना और कभी-कभी त्वचा का मृत हो जाना। सर्दी के मौसम में ऐसी परेशानियां होना आम बात है। सर्दी की बीमारियां तथा उनसे बचाव के तरीके को मैं नीचे प्रस्तुत कर रहा हूं जिससे उस बीमारी के आने के पूर्व ही आप सतर्क हो जाएं।

दर्द निवारक दवा से बहरापन !

दर्द निवारक दवा अर्थात पेन किलर टेबलेट्स से भले ही तात्कालिक लाभ मिलें और दर्द भी दूर हो जाए किंतु ये नुकसान भी पहुँचाती हैं। यह शरीर के कई अंगों को क्षतिग्रस्त कर उनकी कार्यक्षमता कमजोर कर देती हैं। दर्द निवारक सभी दवाओं में लाभ की अपेक्षा में हानि अधिक होती हैं। आजकल इनका अधिकाधिक उपयोग बढ़ गया है पर कोई भी यह नहीं जानता कि इससे भीतरी नुकसान कितना ज्यादा होता है। ये लिवर, आमाशय एवं किडनी को क्षतिग्रस्त कर प्रभावित करने लगती हैं। अब इनके सेवनकर्ताओं में बहरेपन होने की शिकायतें सामने आ रही हैं।

शेयर करें

मुख्य समाचार

गणतंत्र दिवस: पहली परेड कब हुई थी? जानिए ऐसे सवालों के जवाब

गणतंत्र दिवस क्या है और ये क्यों मनाया जाता है? भारत 15 अगस्त 1947 को आज़ाद हुआ था और 26 जनवरी 1950 को इसके संविधान को आगे पढ़ें »

जानें मंगलवार के दिन किस उपाय को करने से मिलता है क्या लाभ

कोलकाता : मंगलवार का दिन बजरंगबली को समर्पित होता है। हनुमान जी एक ऐसे देवता हैं जिनकी पूजा में सावधानी बहुत जरूरी है। मंगलवार को आगे पढ़ें »

ऊपर