ठंडा या गर्म… बाल धोने के लिए कौन-सा पानी है बेहतर

कोलकाता : सर्दियों का मौसम चुनौतीपूर्ण होता है। शुष्क हवा के चलते कई बीमारियों का खतरा तो रहता ही है। साथ ही त्वचा से जुड़ी समस्याएं भी होती है। अपने खान-पान और त्वचा को समय-समय पर मॉइस्चराइज़र करके हम खुद का बचाव कर सकते हैं। लेकिन, क्या आप सर्दियों के मौसम में अपने बालों की देखभाल करते हैं? शायद नहीं, ठंड के मौसम में शरीर की तरह ही बालों को भी विशेष देखभाल की आवश्यकता होती है। क्योंकि ये शुष्क, कमजोर और टूटने लगते हैं। आज इस लेख के माध्यम से जानिए की सर्दियों में बालों की देखभाल कैसे करनी चाहिए। क्या बालों को इस मौसम में गर्म पानी से धोना सही है या गलत ये भी समझिये।
गर्म पानी से ख़राब सकता है आपके बाल
सर्दियों के मौसम में ठंड से बचने के लिए लोग गर्म पानी से नहाते हैं। इसी पानी से लोग अपने बाल भी धोते हैं। गर्म पानी के लगातार उपयोग से स्कैल्प रूखी हो जाती है जिससे खुजली और डैंड्रफ की समस्या बढ़ जाती है। ऐसा इसलिए क्योंकि गर्म पानी हाइड्रोजन बांड को तोड़ देता है जिससे बाल लगभग 18% तक फूल जाते हैं। गर्म पानी स्कैल्प को शुष्क कर देता है जिससे जुड़े कमजोर हो जाती हैं और बाल घुंघराले और बेजान होने लगते हैं। इसके अलावा गर्म पानी से बालों को धोने पर ये झरझरे हो जाते हैं जिससे बालों का टूटना और रूखापन शुरू हो जाता है।
फिर किस पानी से धोना है सही
गर्म पानी के इतने हानिकारक प्रभाव को देखते हुए हर कोई ये सोचेगा कि ठंडे पानी से बाल धोना बेहतर विकल्प है। लोग बिना सोचे समझे इस बात पर विश्वास कर लेते हैं और ठंडे पानी से बाल धोने लगते हैं। हालांकि ये गलत नहीं है लेकिन इससे भी समस्यां हो सकती है। ठंडा पानी सिर के प्राकृतिक तेलों को संरक्षित करता है और बालों को व्यवस्थित बनाए रखता है। ठंडा पानी बालों और स्कैल्प की नमी को लॉक कर देता है जिससे बाल चिकने और चमकदार बने रहते हैं। ऐसा इसलिए क्योंकि ठंडा पानी क्यूटिकल्स को बंद कर देता है जिससे बालों की बनावट चिकनी होती है।
हालांकि सर्दियों में ठंडे पानी का उपयोग करने से समस्याएं भी होती हैं। ये बालों को स्ट्रेट बनाता है और ऐसा लगता है इनका वॉल्यूम कम हो गया है। ऐसा इसलिए क्योंकि क्यूटिकल्स अत्यधिक नमी में बंद हो जाते है। इससे सर्दियों में बाल बेजान और इनका वॉल्यूम कम हो जाता है।

क्या है उपाय
सर्दियों में आप अपने बालों को हमेशा डिस्टिल्ड वॉटर से धोएं। नार्मल पानी में मैग्नीशियम और कैल्शियम जैसे खनिज होते हैं जो स्कैल्प और बालों पर जमा हो सकते हैं और लंबे समय तक उन्हें नुकसान पहुंचा सकते हैं। दूसरा, अपनी जरूरत के अनुसार अपने बालों को हर 2 से 3 दिन में धोएं। नार्मल वाटर या कठोर पानी में मिनरल्स और कैल्शियम जैसे खनिज होते हैं जो पानी के पीएच को बढ़ाते हैं जिससे ये बालों के पीएच से अधिक हो जाता है। बालों के पीएच में बदलाव से ये शुष्क, ड्राई और उलझने लगते हैं। साथ ही खनिजों की अधिकता भी स्कैल्प को सूखा कर देती है जिससे पपड़ी बनने लगती है और डेंड्रप की समस्या आती है।

 

शेयर करें

मुख्य समाचार

मवेशी तस्करी मामला : शांतिनिकेतन पहुंचा सीबीआई का प्रतिनिधिमंडल

कोलकाताः गौ तस्करी मामले में शांतिनिकेतन पहुंचा सीबीआई का प्रतिनिधिमंडल। गौ तस्करी मामले में सीबीआई के जांच अधिकारी सुशांत भट्टाचार्य पहुंचे शांतिनिकेतन के रतनकुथी गेस्ट आगे पढ़ें »

विधवा मां के थे अवैध संबंध, बेटी ने किया विरोध तो उसको उतारा मौत के घाट

नदियाः पिता की मौत के बाद मां इलाके के ही एक युवक के साथ प्रेम संबंध बनाने लगी। महिला की 18 वर्षीय बेटी इस बात आगे पढ़ें »

ऊपर