ठंडा या गर्म… बाल धोने के लिए कौन-सा पानी है बेहतर

कोलकाता : सर्दियों का मौसम चुनौतीपूर्ण होता है। शुष्क हवा के चलते कई बीमारियों का खतरा तो रहता ही है। साथ ही त्वचा से जुड़ी समस्याएं भी होती है। अपने खान-पान और त्वचा को समय-समय पर मॉइस्चराइज़र करके हम खुद का बचाव कर सकते हैं। लेकिन, क्या आप सर्दियों के मौसम में अपने बालों की देखभाल करते हैं? शायद नहीं, ठंड के मौसम में शरीर की तरह ही बालों को भी विशेष देखभाल की आवश्यकता होती है। क्योंकि ये शुष्क, कमजोर और टूटने लगते हैं। आज इस लेख के माध्यम से जानिए की सर्दियों में बालों की देखभाल कैसे करनी चाहिए। क्या बालों को इस मौसम में गर्म पानी से धोना सही है या गलत ये भी समझिये।
गर्म पानी से ख़राब सकता है आपके बाल
सर्दियों के मौसम में ठंड से बचने के लिए लोग गर्म पानी से नहाते हैं। इसी पानी से लोग अपने बाल भी धोते हैं। गर्म पानी के लगातार उपयोग से स्कैल्प रूखी हो जाती है जिससे खुजली और डैंड्रफ की समस्या बढ़ जाती है। ऐसा इसलिए क्योंकि गर्म पानी हाइड्रोजन बांड को तोड़ देता है जिससे बाल लगभग 18% तक फूल जाते हैं। गर्म पानी स्कैल्प को शुष्क कर देता है जिससे जुड़े कमजोर हो जाती हैं और बाल घुंघराले और बेजान होने लगते हैं। इसके अलावा गर्म पानी से बालों को धोने पर ये झरझरे हो जाते हैं जिससे बालों का टूटना और रूखापन शुरू हो जाता है।
फिर किस पानी से धोना है सही
गर्म पानी के इतने हानिकारक प्रभाव को देखते हुए हर कोई ये सोचेगा कि ठंडे पानी से बाल धोना बेहतर विकल्प है। लोग बिना सोचे समझे इस बात पर विश्वास कर लेते हैं और ठंडे पानी से बाल धोने लगते हैं। हालांकि ये गलत नहीं है लेकिन इससे भी समस्यां हो सकती है। ठंडा पानी सिर के प्राकृतिक तेलों को संरक्षित करता है और बालों को व्यवस्थित बनाए रखता है। ठंडा पानी बालों और स्कैल्प की नमी को लॉक कर देता है जिससे बाल चिकने और चमकदार बने रहते हैं। ऐसा इसलिए क्योंकि ठंडा पानी क्यूटिकल्स को बंद कर देता है जिससे बालों की बनावट चिकनी होती है।
हालांकि सर्दियों में ठंडे पानी का उपयोग करने से समस्याएं भी होती हैं। ये बालों को स्ट्रेट बनाता है और ऐसा लगता है इनका वॉल्यूम कम हो गया है। ऐसा इसलिए क्योंकि क्यूटिकल्स अत्यधिक नमी में बंद हो जाते है। इससे सर्दियों में बाल बेजान और इनका वॉल्यूम कम हो जाता है।

क्या है उपाय
सर्दियों में आप अपने बालों को हमेशा डिस्टिल्ड वॉटर से धोएं। नार्मल पानी में मैग्नीशियम और कैल्शियम जैसे खनिज होते हैं जो स्कैल्प और बालों पर जमा हो सकते हैं और लंबे समय तक उन्हें नुकसान पहुंचा सकते हैं। दूसरा, अपनी जरूरत के अनुसार अपने बालों को हर 2 से 3 दिन में धोएं। नार्मल वाटर या कठोर पानी में मिनरल्स और कैल्शियम जैसे खनिज होते हैं जो पानी के पीएच को बढ़ाते हैं जिससे ये बालों के पीएच से अधिक हो जाता है। बालों के पीएच में बदलाव से ये शुष्क, ड्राई और उलझने लगते हैं। साथ ही खनिजों की अधिकता भी स्कैल्प को सूखा कर देती है जिससे पपड़ी बनने लगती है और डेंड्रप की समस्या आती है।

 

Visited 286 times, 1 visit(s) today
शेयर करें

मुख्य समाचार

Himachal Political Crisis: हिमाचल प्रदेश में सियासी उठापटक, CM सुक्खू ने इस्तीफे से किया इनकार

शिमला: हिमाचल प्रदेश में सियासी उठापटक जारी है। विधानसभा में आज बुधवार(28 फरवरी) को जमकर हंगामा हुआ। इस बीच BJP के 15 विधायकों को सदन आगे पढ़ें »

West Bengal Weather: रात में ठंड…दिन में गर्म, कबतक बंगाल में रहेगा ऐसा मौसम ?

कोलकाता: बंगाल में दो दिनों से हल्की ठंड महसूस हो रही है। बुधवार(28 फरवरी) को सुबह से ही धूप खिली हुई है। बीते कुछ दिनों आगे पढ़ें »

ऊपर