‘….तो करनी होगी दूसरे लोक की यात्रा’, कैराना से मुख्यमंत्री योगी की चेतावनी

कैरानाः उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ आज कैराना पहुंचे। वहां वह उन हिंदू परिवारों से मिले जिन्होंने बढ़ते क्राइम की वजह से कैराना छोड़ दिया था, लेकिन अब वापस लौट आए हैं। पलायन पीड़ितों से मुलाकात के दौरान मुख्यमंत्री योगी ने बगल में बैठी एक बच्ची से पूछा, ‘अब तो कोई डर नहीं है ना?’ इस पर बच्ची ना में सिर हिला देती है। इसके बाद मुख्यमंत्री ने एक जनसभा को भी संबोधित किया। इसमें सीएम बोले कि यूपी में तालिबानी मानसिकता स्वीकार नहीं की जाएगी।
बता दें कि शामली के कैराना में पलायन के दौरान व्यापारी वर्ग कैराना से पलायन कर गया था। आज मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ घर वापसी करने वाले व्यापारियों से मुलाकात कर रहे हैं। ये परिवार अपने घर छोड़कर दिल्ली, हरियाणा और गुजरात तक चले गए थे। मुलाकात के दौरान लोगों ने मुख्यमंत्री योगी से कहा कि पहले वहां गुंडाराज था। एक शख्स ने कहा कि वहां (कैराना) कश्मीर से भी बुरा हाल था। वहां मौजूद लोगों ने मुकीम काला का भी जिक्र किया। कैराना में उसका काफी आतंक था। वह इसी साल मई में चित्रकूट जेल में मारा गया था।
तालिबानी मानसिकता स्वीकार नहीं करेंगे
जनसभा में मुख्यमंत्री योगी बोले कि प्रदेश में सुरक्षा सबको मिलेगी, लेकिन सुरक्षा में किसी ने सेंधमारी की तो उसे पता है कि फिर किस लोक की यात्रा करनी है। योगी बोले कि 250 करोड़ की लागत से PAC की बटालियन कैराना में आएगी, ये सुरक्षाकर्मी दंगाइयों को दूसरे लोक पहुंचाएंगे। विपक्षी पार्टियों पर हमला बोलते हुए सीएम योगी ने कहा कि ये तब खुश होते हैं जब मुजफ्फरनगर में दंगा होता है, जब कैराना से पलायन होता है और जब तालिबान का शासन होता है। योगी बोले, ‘तालिबानी मानसिकता स्वीकार नहीं करेंगे और उत्तरप्रदेश की धरती पर उन्हें नहीं आने देंगे।’ योगी ने आरोप लगाया कि वोटबैंक वाली पार्टियां दंगाइयों का सम्मान करती हैं।
क्या है कैराना का मामला?
साल 2015 से 2017 के दौरान करीब 90 हिंदू परिवारों ने कैराना छोड़ दिया था। उन्होंने अपने घर के बाहर ‘यह मकान बिकाऊ है’ भी लिखा था। साल 2016 में कैराना से तत्कालीन भाजपा सांसद हुकुम सिंह ने यह मुद्दा उठाया था। योगी सरकार का दावा है कि उन्होंने राज्य में अपराध को कम किया है, जिसके बाद ये परिवार वापस कैराना लौटे हैं।

 

शेयर करें

मुख्य समाचार

राम अवतार गुप्त प्रोत्साहन, ऐसे करें आवेदन

" हमारा सपना हर छात्र माने हिंदी को अपना" हर साल की तरह इस साल भी हम लेकर आये हैं राम अवतार गुप्त प्रोत्साहन। इस बार आगे पढ़ें »

रूपा के बगावती तेवर

सन्मार्ग संवाददाता कोलकाता : कोलकाता नगर निगम चुनाव का बिगुल बज चुका है। ऐसे में चुनाव की रणनीति तय करने के लिए राजनीतिक पार्टियों के बीच आगे पढ़ें »

ऊपर