मौसम बदलने से बढ़ जाती है मधुमेह की आशंका

राष्ट्रीय स्वास्थ्य एवं कल्याण संस्थान के एक शोध के माध्यम से यह जानकारी मिली है कि बच्चों में गर्मी के बजाए सर्दी के मौसम में मधुमेह की आशंका अधिक बढ़ जाती है। शोधरत वैज्ञानिकों ने दावा किया है कि सर्दी के मौसम में खून मेंं चीनी की मात्रा में परिवर्तन और संक्रामक बीमारियों में बढ़ोतरी के कारण मधुमेह का आक्रमण हो जाता है। शोध में पाया गया है कि लड़कों को इस परेशानी से अधिक जूझना पड़ता है। वैज्ञानिकों ने 53 देशों के 31 हजार बच्चों पर अध्ययन में मौसम को मधुमेह का प्रथम कारण माना है। वैज्ञानिकों के अनुसार मधुमेह की प्रथम श्रेणी के मौसम से संबंध होने के कई कारण हैं। खून में ग्लूकोज और इंसुलिन की मात्रा में मौसम के अनुसार बदलाव आता है। सर्दी में बच्चों में खाने की प्रवृत्ति अधिक और शारीरिक श्रम करने की कम होती है जिससे मधुमेह उन्हें आ घेरता है।
पारिवारिक स्वास्थ्य भी देता है संकेत

 

 

फैमिली मेडिकल हिस्ट्री कई मामलों में बेहतर संकेत देती हैं। शारीरिक बनावट व कुछ रोग वंशानुगत रूप से भावी पीढ़ी को कुछ न कुछ रूप में मिल जाते हैं, वहीं खानपान की पारिवारिक संस्कृति भी कुछ रोगों को घर बनाने का मौका देती है। मधुमेह, हृदयरोग, थायराइड, मोटापा, सिकलसेल, थैलीसीमिया आदि का होना या न होना फैमिली हिस्ट्री पर निर्भर रहता है। कोलेस्ट्राल, मोटापा, खानपान की संस्कृति के चलते मिलते हैं, अतएव ऐसे किसी भी रोग की स्थिति में युवावस्था से ही तद्विषम में सतर्कता पहली जरूरत है। इनके निदान के समय अपने चिकित्सक को अवश्य ही फैमिली हिस्ट्री से पूर्ण अवगत करा देना चाहिए जिससे उपचार में सुविधा हो।
टीवी से बढ़ता हृदय रोग

हृदय रोग महामारी या संक्रामक रोगों की श्रेणी में नहीं आता है यह आज का सर्व सामान्य रोग है किंतु उससे होने वाली मौतों की संख्या सबसे अधिक है। इससे सर्वाधिक मौतों का होना इसे अपनी तरह की अलग महामारी सिद्ध करता है। इस रोग को देने वाले अनेक प्राचीन व आधुनिक कारण हैं। इनमें आधुनिक मनोरंजन माध्यम टीवी की भी महत्त्वपूर्ण भूमिका है। हम जितनी अधिक देर तक टीवी देखते हैं हम पर हृदय रोग का खतरा उतना ही बढ़ जाता है। वास्तव में हमारा शरीर लंबे समय तक बैठने के लिए नहीं बना है किंतु लोकप्रिय कार्यक्रमों को देखने हम टीवी के सामने निष्क्रिय होकर घंटों बिता देते हैं। हमारी यह निष्क्रियता, हृदयरोग, मधुमेह, मोटापा और कोलेस्ट्राल को बढ़ाती है। टीवी के चहेते संभल जाइये। कुछ शरीर, हाथ पैर भी चलाइए।

शेयर करें

मुख्य समाचार

कमिंस-रसेल के अर्धशतक बेकार, केकेआर की लगातार तीसरी हार

कोलकाता को 18 रन से हरा चेन्नई ने लगाई जीत की हैट्रिक मुंबई : आईपीएल 2021 के 15वें मैच चेन्नई सुपर किंग्स (सीएसके) ने कोलकाता नाइट आगे पढ़ें »

कोरोना से मरीज त्रस्त, नर्सिंग होम्स बिल बनाने में व्यस्त

दक्षिण कोलकाता के नर्सिंग होम पैकेज पर ले रहे हैं कोरोना मरीजों को कोलकाता : कोरोना के कारण राज्य की स्वास्थ्य व्यवस्था ​अब धीरे-धीरे चरमरा रही आगे पढ़ें »

ऊपर