चाईबासा: हथियार पकड़ने वाले हाथों ने थमा हॉकी स्टिक

 

चाईबासा: नक्सलवाद और सरकारी उपेक्षाओं के कारण पिछड़ेपन का दंश झेल रहे सारंडा के ग्रामीण खुद अपने हालात को सुधारने में जुट गए हैं। कुछ साल पहले तक सारंडा के युवाओं के हाथ में अत्याधुनिक हथियार और बारूद का गोला हुआ करता था, लेकिन अब इन हाथों ने हॉकी स्टिक थामकर भटकाव के रास्ते से मुंह मोड़ने का प्रण लिया है।

पश्चिमी सिंहभूम जिले के सारंडा में लगभग दो दशक तक नक्सलवाद के तांडव से आम जनजीवन बेपटरी होने के साथ-साथ युवाओं में खेलकूद प्रतिभा भी विलुप्त हो चुकी थी। पिछले 20 सालों से सारंडा में एक भी खिलाड़ी खेल के क्षेत्र में नहीं आया। ग्रामसभा ने जयपाल सिंह मुंडा की जयंती पर हॉकी प्रतियोगिता शुरू करा कर और खेल के क्षेत्र से युवाओं को जोड़कर ना सिर्फ उन्हें भटकाव से रोका, बल्कि समाज के प्रति भी उन्हें उत्तरदायी बनाने की अनूठी शुरुआत की है।

 

 

शेयर करें

मुख्य समाचार

देश को बेचने की कोशिश की जा रही है : फिरहाद

बागनान में जनसभा को संबोंधित किया मंत्री फिरहाद हकीम ने हावड़ा : भाजपा की ओर से लगातार देश को बेचने की साजिश चली है। इस बार आगे पढ़ें »

ममता ने पढ़ाया है विकास और जनसेवा का पाठ- इंद्रनील सेन

सन्मार्ग संवाददाता हुगली : राज्य की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने हमेशा विकास और लोगों की सेवा का पाठ पढ़ाया है। वह सस्ती राजनीति और अपने विरोधियों आगे पढ़ें »

ऊपर