उत्तर प्रदेश में दलित लड़कियों की मौत का मामला

परिवार के बयानों में ही फर्क
भाई ने कहा- लड़कियां दुपट्‌टे से बंधी थीं, मां ने कहा- ऐसा नहीं है
उत्तर प्रदेश : उत्तर प्रदेश में उन्नाव जिले में संदिग्ध हालत में दो नाबालिग लड़कियों की मौत के मामले में पेंच उलझता जा रहा है। इसमें परिवार से ही अलग-अलग बयान आ रहे हैं। लड़कियों के भाई ने कहा है कि जब वह मौके पर पहुंचा तो दो मृतक दुपट्‌टे से बंधी थीं। हालांकि, तीसरी लड़की जिसकी हालत गंभीर है उसकी मां ने कहा है कि उसने मौके पर किसी भी लड़की को बंधा हुआ नहीं देखा था। बयानों में फर्क को देखते हुए पुलिस परिवार के कुछ सदस्यों को पूछताछ के लिए अपने साथ ले गई है। मामला दलित समाज से होने की वजह से इस पर राजनीतिक बयानबाजी भी शुरू हो गई है। बुधवार को बबुराहा टोला गांव में 13, 16 और 17 साल की तीन लड़कियां अपने खेत पर संदिग्ध हालत में बेहोश मिली थीं। उन्हें अस्पताल ले जाया गया, जहां दो को मृत घोषित कर दिया गया। तीसरी लड़की को गंभीर हालत में कानपुर रैफर किया गया है। शुरू में खबर आई थी कि ये तीनों एक ही दुपट्‌टे से बंधी पाई गई थीं।
शव परिजन को सौंपे गए, लेकिन सपा कार्यकर्ता धरने पर बैठे
पोस्टमॉर्टम के बाद लड़कियों के शव परिजन को सौंप दिए गए हैं। इन्हें दफनाने के लिए प्रशासन ने जेसीबी मशीन भी बुला ली है, लेकिन सपा कार्यकर्ता अंतिम संस्कार का विरोध कर रहे हैं। वे गांववालों के साथ धरने पर बैठ गए हैं। उनका कहना है कि जब तक पीड़ित परिवार को नौकरी, मुआवजा नहीं मिलता और हत्यारों की तलाश नहीं होती, अंतिम संस्कार नहीं किया जाएगा। यहां सपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष अखिलेश यादव के पहुंचने के कयास लगाए जा रहे हैं। राज्य के मानवाधिकार आयोग ने भी इस मामले में संज्ञान लिया है।
गांव में गुस्सा, पुलिसबल तैनात
ये तीनों लड़कियां एक ही परिवार से हैं। इनमें दो बहनें (चाचा-ताऊ की बेटियां) हैं। तीसरी लड़की उनकी बुआ थी। शवों के पास काफी झाग पड़ा था, इसलिए पुलिस ने पॉइजनिंग की आशंका जताई है। उन्नाव के SP आनंद कुलकर्णी का कहना है कि पोस्टमॉर्टम रिपोर्ट आने के बाद ही मौत की वजह पता चल सकेगी। जांच के लिए छह टीमें बनाई गई हैं। इस घटना को लेकर पूरे गांव में गुस्सा है। ऐसे में यहां भारी पुलिस बल तैनात किया गया है।
भाई ने कहा- हमारी किसी से दुश्मनी नहीं
ये लड़कियां पासी समुदाय से हैं। उनके भाई ने कहा कि तीनों पहले स्कूल जाती थीं, लेकिन कुछ समय पहले परिवार ने उनका स्कूल जाना बंद करवा दिया था। उनके परिवार की गांव में किसी से कोई दुश्मनी नहीं थी। हालांकि, उन्होंने घटना के पीछे साजिश की आशंका जताई है। परिवार वालों ने बताया कि तीनों लड़कियां अपने ही खेत पर चारा लेने गई थीं। शाम तक नहीं लौटीं तो तलाश शुरू की गई।

शेयर करें

मुख्य समाचार

8 को वाममोर्चा कर सकता है उम्मीदवारों की घोषणा

वाम-कांग्रेस-आईएसएफ के बीच जटिलता लगभग समाप्त कोलकाता : काफी जटिलता के बाद वाम-कांग्रेस-आईएसएफ के बीच चुनावी समझौता अब अपने अंतिम दौर में है। कांग्रेस और आईएसएफ आगे पढ़ें »

आज आ सकती है तृणमूल की प्रार्थी तालिका

ममता की सीट पर सबकी नजरें कोलकाता : राज्य में चुनाव का बिगुल बज चुका है। चुनावी प्रक्रिया भी शुरू हो चुकी है। नहीं हुई है आगे पढ़ें »

ऊपर