ब्लड शुगर को बिना दवा कंट्रोल करते हैं मेथी के दाने, जानें कैसे बनाएं इसका पानी

कोलकाताः मधुमेह आज के दौर की उन गंभीर बीमारियों में शामिल है जिसका उपचार संभव नहीं है। यानी अगर यह बीमारी किसी व्यक्ति को हो जाए, तो केवल इंसान को जिंदगीभर इस समस्या से सिर्फ लड़ना होता है। आप दवाइयां और खाने पीने में परहेज के जरिए इसके होने वाले अन्य प्रभावों को कम कर सकते हैं, लेकिन इससे पूरी तरह छुटकारा नहीं पाया जा सकता है। ऐसे में विज्ञान और आयुर्वेद का कहना है कि इस बीमारी से बचे रहने में सूखी मेथी का उपयोग किया जा सकता है। आज हम आपको अपने इस लेख में यही बताएंगे कि किस तरह मधुमेह की समस्या से मेथी आपका बचाव कर सकती है।

क्या कहते हैं अध्ययन
डायबिटीज पर मेथी के असर को लेकर अब तक बहुत से अध्ययन हो चुके हैं, जो इसके बहुत से फायदे बताते हैं। रिसर्च बताती है कि मेथी में प्रोबायोटिक्स गुण होते हैं। यह गुण शरीर में अच्छे कोलेस्ट्रॉल को बिना प्रभावित किए हुए बैड कोलेस्ट्रॉल को कम करते हैं। इसके अलावा खून में शुगर लेवल को भी कम करने का कार्य करते हैं, जिससे मधुमेह के खतरे से आप बचे रहते हैं। साथ ही बताया जाता है कि मेथी के दानों में अल्कलॉइड पाया जाता है, जो इंसुलिन को नियंत्रित करने में मदद करता है। इसका यह गुण आगे चलकर शुगर लेवल को नियंत्रित करने का कार्य करता है, जबकि एक अध्ययन तो यह तक बताता है कि, अगर रोजाना 10 ग्राम मेथी का सेवन किया जाए तो इससे मधुमेह के कारण होने वाली समस्याओं को भी कम किया जा सकता है। आपको बता दें कि सूखी मेथी के अंदर घुलनशील फाइबर और ग्लुकोमानन फाइबर होता है। यह आंतों से ग्लूकोज को अवशोषित करने में और मधुमेह को नियंत्रित करने का भी कार्य करते हैं। इसके अलावा मेथी के अंदर मौजूद एल्कलॉइड, इंसुलिन के उत्पादन को बेहतर करते हैं और ग्लाइसेमिक स्तर के कम होने का कारण बनते हैं । आइए जानते हैं किस तरह करें मेथी के दानों का सेवन, जिससे मधुमेह और इससे होने वाले अन्य प्रभावों से बचा जा सके।
मेथी की चाय
आपको सुनकर भले ही अजीब लगे। लेकिन डायबिटीज की समस्या से बचने और इसके असर को कम करने के लिए यह सबसे आसान तरीका है। आपको इसके लिए पानी में मेथी के दाने डालने हैं और इन्हें 10 से 15 मिनट तक के लिए उबालना है। इसके बाद चाय की तरह ही इसे पीना है। इससे खून में शुगर लेवल नियंत्रित रहेगा।
मेथी पाउडर
मेथी पाउडर के 100 ग्राम की खुराक को लेकर हाल ही में एक शोध किया गया। इस शोध में मधुमेह के मरीजों को दोपहर और रात के खाने के साथ बराबर मात्रा में मेथी पाउडर दिया गया। इसके 24 घंटे बाद मधुमेह के मरीजों का शुगर लेवल और कोलेस्ट्रॉल की जांच की गई, तो इन दोनों की ही मात्रा कम पाई गई।
दही और मेथी का सेवन
दही और मेथी दोनों के अंदर एंटी इंफ्लेमेटरी गुण पाए जाते हैं। यह गुण शरीर के अंदर ग्लूकोज के स्तर को कम करने का कार्य कर सकते हैं। ऐसे में आप एक कप दही के अंदर मेथी पाउडर को डालकर खाएं। इससे आपको फायदा होगा।
भिगोकर मेथी का सेवन
मेथी के अंदर पाए जाने वाले पोषक तत्व ना केवल मधुमेह की समस्या में काम आते हैं, बल्कि यह पाचन क्रिया और एसिडिटी की समस्या को भी बेअसर करते हैं। अगर आप भी मेथी के जरिए इन समस्याओं से राहत पाना चाहते हैं, तो इसके लिए रोजाना 10 ग्राम मेथी के दानों को गर्म पानी में भिगोकर रखें और इसका सेवन करें।
कितनी खुराक सही
अध्ययनों की मानें तो एक दिन में 2- 25 ग्राम मेथी का सेवन करना सही भी है और सुरक्षित भी। हालांकि इसकी मात्रा कितनी सही है, यह लेने वाले व्यक्ति पर भी निर्भर करता है। वैसे इसकी एक समय की अधिकतम मात्रा 10 ग्राम तय की गई है। इसके अलावा मेथी के कच्चे दानों की 25 ग्राम, पाउडर की 25 ग्राम और मेथी के पके हुए बीजों की 25 ग्राम मात्रा ही सही रहती है। पर अगर आप मेथी का सेवन करना चाहते हैं तो पहले किसी डॉक्टर की सलाह जरूर लें।
मेथी के सेवन से आपका मेटाबॉलिज्म, इंसुलिन और ग्लूकोज बेहतर रहता है। इसके अलावा यह उन लोगों के लिए भी फायदेमंद हैं जिन्हे मधुमेह का खतरा है, या फिर जिनकी फैमिली हिस्ट्री इस बीमारी से जुड़ी हुई है। हालांकि मधुमेह से बचने के लिए केवल मेथी ही नहीं बल्कि सही लाइफस्टाइल, खान पान और एक्सरसाइज की भी जरूरत है।

 

शेयर करें

मुख्य समाचार

इन उपायों को नियमित करने से मिलेगी कर्ज से मुक्ति

कोलकाता : हर व्यक्ति को उसकी मेहनत के अनुसार फल नहीं मिलता है तो निराश होना स्वभाविक है तो आइए हम आपको बताते हैं कुछ आगे पढ़ें »

मायके से खाली हाथ लौटी, सजा में जिंदा जला दिया

दर्दनाक मौत -पहले एसिड से जलाया फिर किरोसिन से -पति समेत चार लोगों के खिलाफ शिकायत दर्ज, सभी आरोपित फरार -दो दिनों तक जिंदगी व मौत से आगे पढ़ें »

ऊपर