गुरुवार को इन उपायों को करने पर खत्म हो जाती है आर्थिक समस्याएं

कोलकाता :  हिंदी पंचांग के मुताबिक सप्ताह के प्रत्येक दिन को किसी ना किसी देवी देवताओं को समर्पित किया गया है। इसी तरह से गुरुवार का दिन गुरु बृहस्पति और भगवान विष्णु को समर्पित है। इस दिन इनकी पूजा अर्चना की जाती है। धार्मिक मान्यताओं की माने तो बृहस्पतिवार को धन और समृद्धि का दिन भी बताया गया है। इसी कारण से इस दिन पूरे विधि विधान से इनकी पूजा होती है। कुंडली में बृहस्पति के मजबूत होने पर जीवन में सुख शांति और वैभव आने लगता है। इसीलिए व्यक्ति गुरुवार को ऐसे कई उपाय करते हैं जिससे उनके जीवन में किसी भी तरह की समस्याएं उत्पन्न ना होने पाए। तो चलिए जान लेते हैं गुरुवार को कौन से उपाय करने पर गुरु बृहस्पति की कृपा बरसने लगती है।

गुरुवार के उपाय
1. गुरुवार को प्रातः काल ब्रह्म मुहूर्त में उठकर स्नान आदि कर ले। मान्यता के अनुसार स्नान के समय में ॐ बृ बृहस्पते नमः का जाप करें। इससे गुरु बृहस्पति की कृपा बरसने लग जाती है।

2. गुरुवार को घर में या फिर घर के पास किसी विष्णु मंदिर में भगवान विष्णु के सामने घी का दीपक जलाएं। इसी के साथ-साथ भगवान विष्णु को पीले रंग के फूल भी चढ़ाने चाहिए।
3. गुरु बृहस्पति को पीला रंग होती प्रिय माना गया है। इस दिन जरूरतमंदों को पीले रंग की वस्तुओं का दान करें। जिसमें चने की दाल, फल कपड़ा और अरहर की दाल शामिल है।

4. गुरुवार को अपने से बड़ों का भूल कर भी अनादर ना करें। साथ ही साथ इस दिन उन्हें आदर सत्कार दे। इससे बृहस्पति की विशेष कृपा बरसने लगती है।
5. इस दिन पर माथे पर हल्दी, चंदन या फिर केसर का तिलक लगाए। ऐसा करने पर भगवान विष्णु और गुरु बृहस्पति प्रसन्न होने लग जाते हैं।

6. गुरुवार को गुरु बृहस्पति और विष्णु को प्रसन्न करने के लिए पीले रंग के वस्त्र धारण करें।

शेयर करें

मुख्य समाचार

वॉरेन बफे के भरोसेमंद दिग्गज निवेशक चार्ली मुंगेर का निधन

नई दिल्ली: अमेरिका के बड़े निवेशक और दुनिया की जानी मानी इन्वेस्टिंग फर्म बर्कशायर हाथवे के वाइस चेयरमैन चार्ली मंगर का मंगलवार देर रात 99 साल की आगे पढ़ें »

सुरंग से निकले श्रमिकों को मिलेगी 1-1 लाख रुपए की प्रोत्साहन राशि, इन्होंने किया ऐलान

उत्तरकाशी : उत्तराखंड के मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी ने सुरंग से निकाले गए श्रमिकों को बुधवार को श्रमिकों से मिलकर उनका हालचाल जाना और उन्हें एक-एक आगे पढ़ें »

ऊपर