पुलवामा में सुरक्षाबलों की बड़ी कार्रवाई, 3 आतंकी ढेर

terrorist

श्रीनगर : जम्मू-कश्मीर के पुलवामा जिले में बुधवार रात सुरक्षा बलों के साथ मुठभेड़ में तीन आतंकवादी मारे गए। सैन्य सूत्रों के मुताबिक, तीनों आतंकी अंसार गजवत-उल-हिंद संगठन से जुड़े थे। पुलिस के एक अधिकारी ने बताया कि आतंकवादियों की मौजूदगी की खुफिया जानकारी मिलने के बाद मंगलवार देर रात सुरक्षा बलों ने पुलवामा जिले के त्राल इलाके में घेराबंदी कर तलाश अभियान शुरू किया। इस दौरान आतंकियों ने फायरिंग शुरू कर दी और जवाबी कार्रवाई में दहशतगर्द ढेर हो गए। इलाके में कानून व्यवस्था नियंत्रण में रखने के लिए अतिरिक्त बल तैनात किया गया है।

आतंकी अंसार गजवत-उल-हिंद संगठन से जुड़े थे

सेना के सूत्रों के मुताबिक, मारे गए तीनों आतंकी अंसार गजवत-उल-हिंद संगठन से जुड़े थे। इनके नाम जहांगीर रफी वानी, राजा उमर मकबूल भट और उजैर अमीन भट हैं। उनके कब्जे से भारी मात्रा में हथियार और गोला-बारूद बरामद हुआ। जहांगीर पहले त्राल में हिजबुल मुजाहिदीन का सेकंड कमांडर था। वह इसी साल जनवरी में गजवत हिंद में शामिल हुआ था। ये आतंकी लंबे वक्त से लोगों को मारने और धमकाने की घटनाओं में शामिल रह चुके हैं।

महीनेभर में 5 बड़े एनकाउंटर, 12 आतंकी मारे गए

गौरतलब है कि जम्मू-कश्मीर में सुरक्षाबलों द्वारा महीनेभर में ही 5 बड़े एनकाउंटर किए गए हैं जिसमें 12 आतंकी मारे गए हैं। 5 फरवरी को श्रीनगर के पास मुठभेड़ में 2 आतंकी मारे गए थे। जबकि 31 जनवरी को जम्मू-श्रीनगर नेशनल हाईवे पर ट्रक में छिपे 4-5 आतंकियों ने सुरक्षाबलों पर हमला कर दिया था। इस दौरान मुठभेड़ में तीन आतंकी मारे गए थे। वहीं 21 जनवरी को पुलवामा जिले के अवंतिपोरा इलाके में 2 आतंकी और 25 जनवरी को यहीं दोबारा 2 आतंकी मारे गए थे। इस दौरान सेना का एक जवान और जम्मू-कश्मीर पुलिस का एसपीओ शहीद हो गया था। इसी तरह सुरक्षाबलों ने 20 जनवरी को शोपियां जिले में कार्रवाई करते हुए 3 आतंकियों को ढ़ेर कर दिया था।

शेयर करें

मुख्य समाचार

लोगों को मेरे खेल के खत्म होने के बारे में लिखने की आदत है, मुझे फर्क नहीं : सुशील

नयी दिल्ली : दिग्गज पहलवान सुशील कुमार उम्र के ऐसे पड़ाव पर है जहां ज्यादातर खिलाड़ी संन्यास की घोषणा कर देते है लेकिन ओलंपिक में आगे पढ़ें »

कोरोना से हुए नुकसान को कम करने के लिए सरकार जल्द नए राहत पैकेजों की घोषणा करेगी

नई दिल्ली : कोरोना के कारण हुए लॉक डाउन के कारण देश की अर्थव्यवस्था को काफी नुकसान हुआ है। वित्त मंत्रालय लगातार राहत पैकेज पर आगे पढ़ें »

ऊपर