स्वतंत्रता दिवस के दिन मिला बेस्ट कॉन्स्टेबल का अवॉर्ड,अगले दिन पकड़ा गया रिश्वत लेते हुए

Best Constable Award on Independence Day, caught taking bribe the next day

हैदराबाद : स्वतंत्रता दिवस पर अपने जिले में ‘बेस्ट कांस्टेबल’ अवॉर्ड पाने के एक दिन बाद उसी पुलिस कांस्टेबल को रिश्वत लेते रंगे हाथों गिरफ्तार कर लिया गया। वह महबूबनगर के एक पुलिस थाने में तैनात है। स्वतंत्रता दिवस के मौके पर आबकारी मंत्री वी श्रीनिवास ने उसे प्रशस्ति पत्र देकर सम्मानित किया था। इस दौरान पुलिस अधीक्षक रेमा राजेश्वरी भी मौजूद थीं। भ्रष्टाचार निरोधक ब्यूरो (एसीबी) ने शुक्रवार को पल्ले तिरुपति रेड्डी को तेलंगाना के महबूबनगर जिले में एक रेत व्यापारी से 17 हजार रुपये रिश्वत लेते गिरफ्तार किया। रेड्डी को उसके समर्पण और कड़ी मेहनत के लिए ‘बेस्ट कांस्टेबल’ का पुरस्कार मिला था।

आरोपी को न्यायिक हिरासत में भेजा गया

न्यायालय में पेशी के बाद आरोपी सिपाही को न्यायिक हिरासत में भेज दिया गया है। शिकायतकर्ता रमेश का आरोप है कि पुलिसकर्मी केस दर्ज नहीं करने के एवज में पैसों की मांग कर रहा था। मालूम हो कि महबूबनगर में आई-टाउन पुलिस स्टेशन में तैनात कांस्टेबल कथित रूप से रेत व्यापारी को उसके ट्रैक्टर को जब्त करने की धमकी दे रहा था। कांस्टेबल ने रमेश को झूठे मामले में फंसा देने की धमकी देते हुए पैसे की मांग की थी। इसके बाद, रमेश ने भ्रष्टाचार निवारक एजेंसी में शिकायत दर्ज कराई, जिसने जाल बिछाकर कांस्टेबल को रंगे हाथों पकड़ लिया।

पिछले महीने भी ऐसा मामला सामने आया था

गौरतलब है कि एक ऐसा ही मामला पिछले महीने भी सामने आया था। एक महिला राजस्व अधिकारी वी लावण्या को दो साल पहले राज्य के ‘सर्वश्रेष्ठ तहसीलदार’ का अवॉर्ड मिला था। एक किसान की भूमि के दस्तावेजों को ठीक करने के मामले में अधिकारी के जूनियर को चार लाख रु. घूस लेते पकड़ा गया। उसकी निशानदेही पर भ्रष्टाचार निरोधक ब्यूरो के अधिकारियों ने राजस्व अधिकारी के घर पर छापा मारा तो वहां से 93.5 लाख नकद और 400 ग्राम सोना बरामद किया था।

शेयर करें

मुख्य समाचार

टोक्‍यों ओलंपिक में खिलाड़ियों का पूरा समर्थन करेगा देश : कोविंद

नयी दिल्ली : राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद ने शनिवार को कहा कि 24 जुलाई से नौ अगस्त तक आयोजित 2020 टोक्यो ओलंपिक में देश का प्रतिनिधित्व आगे पढ़ें »

बुकर पुरस्कार विजेता जोखा अल हार्सी पहुंचीं जयपुर साहित्य महोत्सव में, लेखन चुनौतियों का जिक्र किया

जयपुरः ओमान की लेखिका एवं बुकर पुरस्कार विजेता जोखा अल हार्सी के लिए लेखन का सबसे दिलचस्प और चुनौतीपूर्ण पहलू समाज में मौजूद अनसुनी और आगे पढ़ें »

ऊपर