हाई यूरिक एसिड को कंट्रोल करता है यह चीज

कोलकाता: बिजी लाइफस्टाइल की इस जिंदगी में हम अपकी सेहत और डाइट को नजर अंदाज कर पीछे छोड़ देते है और हमारी डाइट खराब हो जाती है। साथ ही लाइफस्टाइल बिगड़ जाती है। जिस कारण हमें इसका भारी नुकसान भुगतना पड़ता है। हम जाने अनजाने में ही ऐसी बीमारियों का शिकार हो जाते हैं जो हमें बेहद परेशान करती हैं। यूरिक एसिड का बढ़ना भी खराब डाइट का नतीजा है। यूरिक एसिड बॉडी में बनने वाले टॉक्सिन हैं जो सभी की बॉडी में बनते हैं और किडनी उन्हें फिल्टर करके बॉडी से आसानी से बाहर भी निकाल देती है। यूरिक एसिड का बनना परेशानी की बात नहीं है लेकिन जब किडनी उसे फिल्टर करके बॉडी से बाहर नहीं निकाले तो ये बीमारी का कारण बन सकते हैं।

डाइट में प्यूरिन से भरपूर फूड्स का सेवन, प्यूरीन वाले खाद्य पदार्थों का सेवन, शराब का सेवन, जेनेटिक समस्या, हाइपोथायरॉयडिज्म, किडनी की समस्या के कारण बॉडी में यूरिक एसिड का स्तर बढ़ने लगता है। यूरिक एसिड बढ़ने पर वो जोड़ों में क्रिस्टल के रूप में जमा होने लगता है जो गाउट का कारण बनता है। यूरिक एसिड बढ़ने पर उसका सबसे ज्यादा असर पैरों पर देखने को मिलता है। पैर के अंगूठे में असहनीय दर्द होता है। यूरिक एसिड बढ़ने से पैरों में दर्द, सूजन और जोड़ों में दर्द की शिकायत ज्यादा रहती है।

अखरोट

अखरोट एक ऐसा ड्राईफ्रूट है जो यूरिक एसिड को कंट्रोल करने में बेहद असरदार साबित होता है। जिन लोगों का यूरिक एसिड हाई रहता है वो रोजाना अखरोट का सेवन करें। आइए जानते हैं कि अखरोट का सेवन करने से कैसे यूरिक एसिड कंट्रोल रहता है और कितना सेवन करना है जरूरी।

कितना सेवन करना है अखरोट का
यूरिक एसिड को कंट्रोल करने में अखरोट का सेवन बेहद असरदार साबित होता है। ओमेगा थ्री फैटी एसिड से भरपूर अखरोट यूरिक एसिड को कंट्रोल करता है। एंटी-इंफ्लेमेटरी गुणों से भरपूर अखरोट में विटामिन बी 6, कॉपर, फॉस्फोरस और मैग्नीशियम जैसे पोषक तत्व भी मौजूद होते हैं जो बॉडी को हेल्दी रखते हैं। अखरोट में मौजूद प्रोटीन गाउट की बीमारी का उपचार करता है। इसका सेवन करने से हड्डियां स्ट्रॉन्ग होती है। अखरोट खाने से जोड़ों में जमा क्रिस्टल यूरिन के जरिए बॉडी से बाहर निकल जाते हैं।

शेयर करें

मुख्य समाचार

राजरहाट में एक निर्माण मजदूर की असामान्य मौत मामले में सीबीआई जांच के आदेश

कोलकाताः न्यायमूर्ति राजशेखर मंथा ने राजरहाट में एक निर्माण मजदूर की असामान्य मौत की सीबीआई जांच के आदेश दिए। खबर अपडेट होगी   आगे पढ़ें »

नहीं मिली जमानत इस बार भी बढ़ा दी गई पार्थ-कल्याणमय की सजा की अवधि

कोलकाताः इस बार भी सजा की अवधि को बढ़ दी गई है। दरअसल, शिक्षक भर्ती भ्रष्टाचार मामले में गिरफ्तार पूर्व शिक्षा मंत्री पार्थ चटर्जी की आगे पढ़ें »

ऊपर