सेहत के लिए काफी फायदेमंद है ‘दाल का पानी’

कोलकाता : दाल के पानी में प्रोटीन, कार्बोहाइड्रेट्स और फॉस्फोरस होता है। इसका पानी पीने से एनीमिया दूर होने के साथ ही वजन कम करने में भी मदद मिल सकती है। कोरोना काल में अगर आप रोजाना एक कप दाल का पानी पीते हैं तो यह आपके शरीर से विषाक्त पदार्थों को बाहर निकालकर आपको कई बीमारियों से बचाता है। आइए जानते हैं दाल का पानी पीने के क्‍या क्‍या फायदे हो सकते हैं। दाल का पानी बॉडी के इम्यूनिटी पावर को मजबूत रखने साथ ही शरीर से हैवी मेटल्स जैसे पारा और सीसा को बाहर निकाल देता है। साथ ही शरीर में एनर्जी को बनमाए रखता है।
दाल का पानी पीने से दूर रहती हैं स्वास्थ्य से जुड़ी ये समस्याएं
* इम्यूनिटी के लिए
दाल के पानी के सेवन से आप इम्यूनिटी पावर को मजबूत रख सकते हैं। इसमें भारी मात्रा में कैल्शियम, मैग्नेशियम, पोटैशियम और सोडियम होता है। इसमें अच्छी मात्रा में विटामिन-सी, कार्ब्स और प्रोटीन्स के साथ डायटरी फाइबर भी मौजूद होते हैं। इसका ग्लायसेमिक इंडेक्स भी काफी कम होता है।
* एनर्जी के लिए
रोज एक कटोरी दाल का पानी पीने से शरीर में एनर्जी बनी रहती है। आप इसे फ्रिज में रखकर ठंडा करके भी पी सकते हैं। ऐसा करने से इसकी पोष्टिकता खत्‍म नहीं होती है।
* वजन कम करने के लिए
अगर आप मोटापे से परेशान हैं तो दाल पानी आपकी मदद कर सकता है। आप वेटलॉस डाइट के रूप में दाल का पानी पी सकते हैं। ये न सिर्फ कैलोरी को कम करती है बल्कि इसका पानी पीने से आपको लम्‍बे वक्‍त तक भूख का भी एहसास नहीं होता है।
दिमाग के लिए
दाल का पानी दिमाग के लिए फायदेमंद माना जाता है। यह आसानी से पच जाता है और हल्का होने के कारण शरीर में गैस नहीं बनती। इससे पेट की समस्या से भी छुटकारा मिलता है।
डायरिया में आराम के लिए
लूज मोशन होने पर या डायरिया होने पर एक कटोरी दाल का पानी पीने से आराम मिलता है। ये न सिर्फ शरीर में पानी की कमी को पूरा करता है, बल्कि लूज मोशन को भी कम करता है।

Visited 140 times, 1 visit(s) today
शेयर करें

मुख्य समाचार

वर्क आउट के दौरान नो लाउड म्यूजिक

एक्सरसाइज करते समय ज्यादातर यंगस्टर्स लाउड म्यूजिक सुनना पसंद करते हैं। पार्क हो या जिम सेंटर, दोनों जगह पर म्यूजिक के साथ वर्क आउट एंज्वॉय आगे पढ़ें »

सोमवार को विधि-विधान से करें भगवान शिव की पूजा, 4 बातों का रखे …

कोलकाता : हिंदू धर्म में भगवान शिव की पूजा का बहुत महत्व है। शास्त्रों के अनुसार, भगवान शिव जितने भोले हैं, उतने ही गुस्‍से वाले आगे पढ़ें »

ऊपर