चलते-चलते करते हैं मैसेज तो हो जाएं सावधान

message

टोरंटो : स्मार्टफोन आज के समय की जरूरत बन गए हैं। आज लगभग हर व्यक्ति के हाथ में स्मार्टफोट दिखाई देना आम बात हो गई है। सोते-जागते, चलते-फिरते लोगों को स्मार्टफोन का इस्तेमाल करने की आदत हो गई है। लेकिन जब यही आदत जानलेवा बन जाए तो ऐसी आदत से दूरी बना लेना ही समझदारी है। अगर आप भी चलते-चलते स्मार्टफोन का इस्तेमाल करते हैं या संदेश भेजते हैं तो सावधान हो जाइए। ‘इंजरी प्रिवेंशन’ पत्रिका में प्रकाशित एक अध्ययन के दौरान यह पाया गया है कि चलते समय फोन पर संदेश भेजने वालों में दुघर्टना से बाल-बाल बचने की घटनाओं की दर बहुत ज्यादा है। अध्ययन के अनुसार फोन पर बात करने या गाना सुनने वालों की तुलना में फोन पर संदेश भेजने वाले लोगों में सड़क दुर्घटना का‌ शिकार होने का जोखिम अधिक रहता है।

हर साल मरते हैं करीब 2,70,000 यात्री

कनाडा की कैलगरी यूनिवर्सिटी के शोधकर्ताओं ने दुर्घटना के खतरे पर पैदल यात्रियों के ध्यान भंग होने संबंधी व्यवहार के प्रभाव के बारे में ज्यादा जानने के लिए अधिक विस्तृत रुख का आग्रह किया है। शोधकर्ताओं के अनुसार दुनिया भर में प्रतिवर्ष करीब 2,70,000 यात्रियों की मौत होती है। अध्ययन के अनुसार चलते समय स्मार्टफोन की स्क्रीन पर नजर टिकाए रखने वाले यात्री अक्सर सड़क पार करते वक्त दाएं या बाएं नहीं देख पाते जिससे हादसे की संभावना बढ़ जाती है। यानि स्मार्टफोन पर संदेश भेजना अपनी सुरक्षा से समझौता करना है।

शेयर करें

मुख्य समाचार

वेस्टइंडीज जीत के करीब, इंग्लैंड ने दूसरी पारी में 313 रन बनाए

साउथैम्पटन : इंग्लैंड के खिलाफ टेस्ट में वेस्टइंडीज जीत की ओर है। मैच के पांचवें दिन टी ब्रेक तक मेहमान टीम ने 4 विकेट के आगे पढ़ें »

पगबाधा का फैसला सिर्फ और सिर्फ डीआरएस से हो : तेंदुलकर

नयी दिल्ली : महान बल्लेबाज सचिन तेंदुलकर ने अंपायरों के फैसलों की समीक्षा प्रणाली (डीआरएस) से अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट परिषद (आईसीसी) को ‘अंपायर्स कॉल’ को हटाने आगे पढ़ें »

ऊपर