पोहा खाने के तरीके से बांग्लादेशियों को पहचाना : कैलाश विजयवर्गीय

vijaywargiya

इंदौर : नागरिकता संशोधन कानून (सीएए) के खिलाफ देशभर में जारी ‌विरोध प्रदर्शनों के बीच भारतीय जनता पार्टी (बीजेपी) के नेता कैलाश विजयवर्गीय ने बांग्लादेशी की पहचान को लेकर विवादित बयान दिया है। विजयवर्गीय ने कहा कि पोहा खाने के तरीके से उन्होंने बंग्लादेशियों को पहचान लिया। बता दें कि बीते दिनों प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने भी दंगाईयों को उनके कपड़ों से पहचानने की बात कही थी जिसे लेकर काफी बवाल मचा था।

पूछताछ के बाद काम पर नहीं आए मजदूर

इंदौर प्रेस क्लब में ‘लोकतंत्र-संविधान-नागरिकता’ विषय पर आयोजित एक परिचर्चा का हिस्सा बने विजयवर्गीय ने कहा, ‘कुछ ही दिनों पहले मेरे घर में एक कमरा तैयार किया जा रहा था। वहां मौजूद मजदूर केवल पोहा खा रहे थे लेकिन पोहा खाने का उनका तरीका मुझे कुछ अजीब लगा। मुझे उनके बांग्लादेशी होने का संदेह हुआ जिसके बाद मैंने उनसे पूछताछ की और साथ ही उनके ठेकेदार से भी पूछा कि क्या ये मजदूर बांग्लादेशी हैं? वे मजदूर इसके बाद से काम पर ही नहीं आए।’

देश को घुसपैठियों से है खतरा, सीएए से होगी इनकी पहचान

विजयवर्गीय ने आगे कहा, ‘इस मामले को लेकर मैंने पुलिस में शिकायत दर्ज नहीं कराई है। उन मजदूरों के बारे में मैंने सिर्फ इसलिए कहा ताकि लोग जानें और जागरूक हो सकें। अफवाहें सुनकर भ्रमित नहीं होना चाह‌िए, सीएए में देश का हित है। इस कानून के तहत उन्हें ही देश की नागरिकता मिलेगी जो सच में शरणार्थी है और घुसपैठियों को पहचाना जा सकेगा। इन घुसपैठियों से देश की आंतरिक सुरक्षा को खतरा है।’

दंगा करने वालों को कपड़ों से ही पहचाना जा सकता है

उल्लेखनीय है कि कुछ दिनों पहले ही प्रधानमंत्री मोदी ने झारखंड के दुमका में आयोजित एक चुनावी रैली को संबोधित करते हुए कहा था कि कांग्रेस अपने साथियों के साथ देश में दंगे कर रही है। उनकी बात जब नहीं चलती तो वे आग लगाते हैं, दंगे करते हैं। जो लोग दंगे कर रहे हैं, आगजनी कर रहे हैं, उन्हें कपड़ों से ही पहचाना जा सकता है। इन लोगों से देश का भला करने की कोई उम्मीद नहीं लगाई जा सकती। ये लोग केवल अपने परिवार के बारे में ही सोचते हैं।’

शेयर करें

मुख्य समाचार

1 मछली पकड़ कर वृद्धा बन गयी लखपति

दक्षिण 24 परगना : सामुद्रिक एक भोला मछली पकड़ कर एक वृद्ध लखपति बन गयी है। यह घटनासागर ब्लाॅक के चखफूलडूबी इलाके की है। हुगली आगे पढ़ें »

महामारी के बीच मित्रता निभाने के लिए मालदीव ने संरा में भारत की सराहना की

संयुक्त राष्ट्र: मालदीव ने कोविड-19 वैश्विक महामारी के बीच द्वीप राष्ट्र की मदद के लिए 25 करोड़ डॉलर की वित्तीय सहायता मुहैया कराने पर भारत आगे पढ़ें »

ऊपर