बदायूं की ‘आयशा’: दहेज के लिए लड़के ने किया निकाह से इनकार, युवती ने दी जान

उत्तरप्रदेश : साबरमती नदी में कूदकर जान देने वाली आयशा की कहानी सामने आने के बाद एक और जहां दहेज के खिलाफ आवाज तेज हो गई है वहीं दूसरी ओर यूपी के बदायूं में एक और युवती ने दहेज की डिमांड के चलते अपनी जान दे दी। अहमदाबाद की आयशा के बाद अब बदायूं की शमां दहेज के दानव का शिकार बन गई। जानकारी के मुताबिक यह घटना बदायूं के सकरी जंगल गांव की है। गांव की युवती शमां (22 साल) और अतीक (25 साल) एक दूसरे को प्यार करते थे। दोनों के संबंधों की जानकारी जब उनके परिवारों की हुई तो परिजनों ने इनके प्रेम को निकाह की मुहर लगाना ही मुनासिब समझा। बात काफी आगे भी बढ़ चुकी थी। 17 मार्च को दोनों की मंगनी भी होने वाली थी।
मंगनी से पहले लड़के की शर्तों ने ले ली शमां की जान
मंगनी से पहले अतीक ने निकाह के लिए कुछ शर्तें रख दीं। युवती का परिवार उन मांगों को पूरा नहीं कर पा रहा था। परिवार में आपस मे काफी बातें हुई लेकिन अतीक ने किसी की नहीं मानी। इस वजह से दोनों पक्षों के विवाद को सुलझाने के लिए गांव में एक पंचायत भी बुलाई गई। लेकिन लड़के ने भरी पंचायत में निकाह से इनकार कर दिया। अपने प्रेमी का यह फैसला वह सह न पाई और आत्महत्या कर ली। बताया जा रहा है कि भरी पंचायत में अतीक ने शमां के मुंह पर निकाह के लिए मना कर दिया था। अपने प्रेमी के बदले अंदाज ने शमां को अंदर तक झकझोर दिया था। जिसके बाद शमां सीधे घर गई और कमरे में फंदे पर लटककर जान दे दी। शमां पहले से ही कह रही थी कि अगर उसका निकाह अतीक से नहीं हुआ तो वह अपनी जान दे देगी।
पुलिस कर रही है अतीक की तलाश
शमां की आत्महत्या के बाद पुलिस ने मुकदमा दर्ज कर अतीक की तलाश शुरू कर दी है। अतीक और उसके परिवार पर दहेज मांगने और आत्महत्या के लिए उकसाने के आरोप लगाए गए हैं। इस संबंध में दी गई तहरीर के आधार पर आईपीसी की धारा 306 और डॉवरी प्रोविजन एक्ट के रिलेवेंट सेक्शन में मुकदमा दर्ज किया गया है। जो भी तथ्य सामने आएंगे उसके आधार पर कार्रवाई की जाएगी।

शेयर करें

मुख्य समाचार

दुर्गा अष्टमी पर पूजा के तीन मुहूर्त, जानिए तिथि, महत्व और पूजा विधि

कोलकाता : नवरात्रि के नौ दिनों तक मां दुर्गा के नौ स्वरूपों का पूजन किया जाता है। नवरात्रि में अष्टमी और नवमी तिथि का बहुत आगे पढ़ें »

यदि जीवन में हैं परेशानियां, तो सिंदूर से करें ये उपाय, दूर होंगी सभी समस्याएं

कोलकाता : हिंदू धर्म में सिंदूर का विशेष महत्त्व है। सिंदूर का उपयोग शुभ कार्यों में किया जाता है। सिंदूर विवाहित नारियों का सुहाग है। आगे पढ़ें »

ऊपर