‘बाभन के चूड़ा, यादव के दही, दुनू मिली तब बिहार में सब होई सही’

बिहार : बिहार में परशुराम जंयती से ठीक पहले एक नए नारे ने राजनीतिक गलियारों में हलचल पैद कर दी है। राष्ट्रीय जनता दल (आरजेडी) के कुछ नेताओं और कार्यकर्ताओं की ओर से उछाले गए इस नए नारे को पार्टी की नई सोशल इंजीनियरिंग के रूप में देखा जा रहा है। MY फैक्टर के दम पर पिछले कई चुनावों में जीत दर्ज करने में नाकाम रही पार्टी की नजर अब ब्राह्मण और भूमिहारों पर है, जो लंबे समय से भाजपा के कट्टर समर्थक माने जाते हैं।

आरजेडी के नेता और कार्यकर्ता परशुराम जंयती को इस बार काफी धूमधाम से मनाने की तैयारी में हैं, जिसे ब्राह्मणों को खुश करने के प्रयास के तौर पर देखा जा रहा है। इतना ही नहीं एक नया नारा भी दिया गया है, बाभन (ब्राह्मण) के चूड़ा, यादव के दही, दुनू मिली तब बिहार में सब होई सही। हाल ही में एमएलसी चुनाव के दौरान आरजेडी को भूमिहार बिरादरी का अच्छा साथ मिला था। अब पार्टी की नजर ब्राह्मणों पर है, जिनकी बिहार में करीब 6 फीसदी आबादी है। ब्राह्मणों की आबादी भले ही बहुत ज्यादा ना हो, लेकिन शिक्षा और सामाजिक स्तर पर ये काफी प्रभावशाली हैं। इन्हें ‘ओपिनियन मेकर्स’ के तौर पर भी देखा जाता है।

राजनीतिक जानकारों का मानना है कि असल में आरजेडी को इस बात का अहसास हो चुका है कि सत्ता में आने के लिए उसे समाज के सभी वर्गों के सहयोग की जरूरत है। ‘यादव-मुस्लिम’ टैग की वजह से कई जातिगत समूह एनडीए सरकार से नाराजगी के बावजूद भी आरजेडी को वोट नहीं करते हैं। यह भी कहा जा रहा है कि पार्टी ने यूपी चुनाव के नतीजों को देखकर भी रणनीति में बदलाव किया है, जहां अखिलेश यादव ने इस बार MY टैग से कुछ हद तक किनारा करते हुए सवर्णों और गैर यादव ओबीसी जातियों पर भी फोकस किया था। समाजवादी पार्टी भले ही सत्ता तक नहीं पहुंच पाई, लेकिन नई रणनीति के तहत वह सीटों और वोट फीसदी में काफी इजाफा करने में सफल रही।

कभी ‘भूरा बाल साफ करो’ से बदली थी बिहार की राजनीति 

आरजेडी की ओर से ब्राह्मणों को लुभाने का प्रयास इसलिए भी दिलचस्प है, क्योंकि कभी पार्टी पर ‘भूरा बाल साफ करो’ का नारा देकर गैर सवर्ण जातियों को गोलबंद करने का आरोप लगा था। 90 के दशक से पहले कई ब्राह्मण मुख्यमंत्री दे चुके बिहार में सवर्णों के दबदबे की पृष्ठभूमि आए इस नारे का मतलब था, भ से भूमिहार, रा से राजपूत, बा से ब्राह्मण और ल से लाला (कायस्थ) था। हालांकि, बाद में आरजेडी के राष्ट्रीय अध्यक्ष लालू प्रसाद यादव ने अपनी आत्मकथा में इस पर सफाई देते हुए लिखा कि उन्होंने यह नारा नहीं दिया था। उन्होंने इसके लिए मीडिया पर ठीकरा फोड़ा था। भले ही यह नारा लालू ने दिया हो या नहीं, लेकिन यह तो साफ है कि इस नारे ने बिहार की राजनीति को करीब डेढ़ दशक तक के लिए बदल दिया था।

शेयर करें

मुख्य समाचार

राम अवतार गुप्त प्रोत्साहन, ऐसे करें आवेदन

" हमारा सपना हर छात्र माने हिंदी को अपना" हर साल की तरह इस साल भी हम लेकर आये हैं राम अवतार गुप्त प्रोत्साहन। इस बार आगे पढ़ें »

दुकान में घुसते ही फायरिंग, 2 मिनट में 1 करोड़ लूटकर फुर्र हो गए बदमाश

मोतिहारी : बिहार के मोतिहारी में बेखौफ अपराधियों के हौसले इतने बढ़ गए हैं कि दिनदहाड़े भीड़ भरी जगहों पर भी वारदात को अंजाम देने आगे पढ़ें »

ब्रेकिंग : हालीशहर में फुटऑवर ब्रिज के निर्माण के लिए ट्रैफिक ब्लॉक

आनंदपुर में मेटाडोर की टक्कर से मोटरसाइकिल सवार की मौत

सुहागरात पर पति ने नहीं बनाए संबंध, हनीमून पर भी रहा दूर, शिकायत लेकर पत्नी पहुंच गई पुलिस थाने

स्टेशन पर 20 मिनट पहले पहुंची ट्रेन, बोरियत मिटाने के लिए यात्रियों ने प्लेटफॉर्म पर मचा दिया धमाल

चरित्र पर करता था शक, पत्नी को कुल्हाड़ी से काटकर शव के पास बैठा रहा पति

पादरी बना पॉर्न स्टार! 83 साल की उम्र में कैमरे पर अजनबियों के साथ सेक्स को बताया ‘मजेदार’

उड़ते प्लेन में पायलट ने बनाया सेक्स…

जेल में क्लर्क बनें सिद्धू! मिली नई जिम्मेदारियां

18 दिनों में अयोध्या से रामेश्वरम तक कर सकेंगे दर्शन, टूर के लिए खर्च करने पड़ेंगे महज…

ऊपर