मोटापा से बचें

मोटापा शरीर का वह दोष है जो शरीर को बिगाड़कर हमारी शक्ति क्षीण कर देता है। मोटापा चाहे वह स्त्रियों में हो अथवा पुरुषों में, दोनों के लिये बुरा है। मोटे स्त्री-पुरुष कभी भी सुन्दर नहीं कहे जाते। न उनसे कोई काम हो सकता है, न ही वे ठीक से चल फिर सकते हैं। वे जरा से काम में हांफने लगते हैं।
अब प्रश्न यह उठता है कि शरीर मोटा कैसे हो जाता है ? दरअसल, शरीर में चर्बी का अधिक बढ़ जाना ही मोटापे का मुख्य कारण है। चर्बी का अधिक बनना इस बात को प्रकट करता है कि भोजन का ठीक प्रकार से पाचन नहीं हो पा रहा है। मनुष्य द्वारा ग्रहण किया गया भोजन तब शीघ्र पचता है जब वह भोजन के उपरांत थोड़ा बहुत परिश्रम अथवा कोई कामकाज करे। बैठे-बैठे खाने से तथा आलस्य के कारण कोई काम न करने से शरीर में चर्बी बढ़ने लगती है और धीरे-धीरे मोटापा आ घेरता है। मोटापे से शरीर की शक्ति कम हो जाती है और स्वास्थ्य भी गिरने लगता है। साथ ही तरह-तरह की बीमारियां शुरू हो जाती हैं।
शरीर मोटा न हो, इसके लिये हमें सदैव सावधान रहना चाहिये क्योंकि अनावश्यक मोटापन शरीर की सुन्दरता को बिगाड़ देता है।

महिलाओं को तो इस बात का विशेष ध्यान रखना चाहिये क्योंकि मोटी महिलायें न तो अधिक शारीरिक कार्य कर सकती हैं और मुश्किल से गर्भ धारण करने योग्य होती है। प्राय: हम भोजन में रोटी, चावल, आलू आदि अधिक कैलोरी वाली चीजें लेते हैं। वह भी कभी-कभी अधिक मात्रा में ग्रहण कर लेते हैं। इनके स्थान पर यदि हम सूप या सलाद का प्रयोग करें तो हमारा पेट भी भरा रहेगा और हमें शरीर की खुराक भी मिल जायेगी।

भारी भोजन व तली चीजों से सदैव बचना चाहिए। इनकी जगह हरी सब्जियां, गाजर आदि खायें। इनसे हमारी तृष्णा भी मिट जाती है और साथ ही शरीर को पोषक तत्व भी मिल जाते हैं। अधिक मिठाई भी मोटापा बढ़ाने में सहायक है, इसलिये मिठाइयों का अधिक सेवन करना भी उचित नहीं है। गाजर का हलवा आदि खायें।
मोटे लोगों को अपना मोटापा दूर करने के लिये सदैव हल्का, सुपाच्य तथा कम मात्र में भोजन करना चाहिये। चर्बी बढ़ाने वाले खाद्य पदार्थों के सेवन से बचना चाहिये।

व्यायाम द्वारा भी यह दोष दूर किया जा सकता है। अधिक काम करें तथा हो सके तो सुबह शाम खुली हवा में दो तीन किलोमीटर पैदल चलें। शारीरिक स्थूलता दौड़ने से भी कम हो सकती है। इसके अलावा उपवास के द्वारा भी इसे कम करने में सहायता मिल सकती हैं। अच्छा यही है कि मोटापा शुरू होते ही उसे कम करने का प्रयत्न किया जाये।

 

शेयर करें

मुख्य समाचार

शक्ति के अनुष्ठान का पर्व नवरात्र

आद्यशक्ति माता भगवती दुर्गा ही समस्त संसार को जीवन, ऊर्जा एवं सरसता प्रदान करती हैं। जगत के विविध प्रपंच उन्हीं से उत्पन्न होकर उन्हीं में आगे पढ़ें »

हावड़ा में पड़ोसियों पर लगा कोरोना पीड़ित परिवार से बदतमीजी का आरोप

हावड़ा : हावड़ा में एक बार फिर कोरोना का प्रकोप बढ़ता नजर आ रहा है और एक बार फिर दिल दहलानेवाली घटनाएं सामने आ रही आगे पढ़ें »

ऊपर