मध्यप्रदेश में आईएसआई से संबध रखने वाले 5 लोगों को एटीएस ने किया गिरफ्तार

madhya pradesh ats

सतना : मध्यप्रदेश में 5 लोगों को पाकिस्तान की खुफिया एजेंसी आईएसआई से जुड़े होने के आरोप में गिरफ्तार किया गया है। टेरर फ‌ंडिंग के आरोप में क्राइम ब्रांच की टीम ने बुधवार की रात को इन आरोपियों को ‌हिरासत में लिया है। आतंक निरोधक दस्ते (एटीएस) की टीम ने अलग-अलग जगह दबिश देकर यह गिरफ्तारी की है। आरोपियों के पास से बरामद की गई फोन में करीब 17 पाकिस्तानी नंबर भी मिले हैं। फिलहाल आरोपियों से पूछताछ जारी है। बता दें कि आरोपी इन नंबरों का इस्तेमाल वीडियो कॉल, और व्हाट्सएप संदेश भेजने के लिए करते थे।

पहले भी हो चुकी है इन आरोपियों पर कार्रवाई

सूत्रों के अनुसार, हिरासत में लिये गये आरोपियों में बलराम सिंह, भागवेंद्र सिंह, सुनील सिंह, शुभम तिवारी और एक अन्य का नाम शामिल हैं। मालूम हो कि इसके पहले भी बलराम को भोपाल एटीएस ने 8 फरवरी 2017 को गिरफ्तार किया था। वहीं, भागवेंद्र को इंदौर एटीएस ने गिरफ्तार किया था। इसके अलावा सुनील 2014 से देश विरोधी गतिविधियों में सक्रिय था, लेकिन एटीएस उसे पकड़ नहीं पाई। रिपोर्ट्स के अनुसार ये आरोपी पाकिस्तानी खुफिया एजेंसी के अनुसार काम कर रहे थे और भारत में अपना नेटवर्क मजबूत करने की कोशिश कर रहे थे।

पाक में बैठे आकाओं से करते थे बात

बता दें कि आरोपी बिहार, झारखंड और छत्तीसगढ़ से जुड़े संदिग्ध लोगों को बैंक खातों और हवाला के जरिए कमीशन लेकर पैसे भेजते थे। आरोपियों के पास से फोन और लैपटॉप बरामद किया गया है, जिनमें से 17 पाकिस्तानी नंबर प्राप्त किये गये है। ये लोग आतंकियों के फंड मैनेजर से वीडियो-मैसेंजर कॉल और वॉट्सऐप चैटिंग करते थे, और पाकिस्तान में बैठे अपने आकाओं से बात करते थे। साल 2017 में गिरफ्तारी के बाद बलराम जमानत पर बाहर आया था और वह फिर से टेरर फंडिंग का काम करने लगा।

शेयर करें

मुख्य समाचार

ममता और ओवैसी में ठनी

नई दिल्ली/कोलकाता : पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी की 'अल्पसंख्यक कट्टरता' को लेकर दी गई हिदायत पर ऑल इंडिया मजलिस-ए-इत्तेहादुल मुसलमीन (एआईएमआईएम) नेता असदुद्दीन आगे पढ़ें »

Bengal new Rajypal

फिर नहीं मिला हेलिकॉप्टर, राज्यपाल सड़क मार्ग से जाएंगे मुर्शिदाबाद

कोलकाता : राजभवन और राज्य सरकार के बीच चल रही खींचतान में हेलिकॉप्टर विवाद तुल पकड़ता जा रहा है। एक बार फिर राज्यपाल जगदीप धनखड़ आगे पढ़ें »

ऊपर