आज भूलकर भी न करें ये कार्य, नहीं तो पत‍ि और संतान को होगा कष्‍ट

कोलकाता : सनातन धर्म में प्रत्‍येक द‍िन का अलग-अलग महत्‍व माना गया है। इसकी वजह यह है क‍ि हर द‍िन क‍िसी न क‍िसी देवी-देवता को समर्पित है। ऐसे में सबकी पूजा व‍िध‍ि भी अलग-अलग है और कुछ ऐसे भी कार्य हैं ज‍िनकी द‍िन व‍िशेष को करने की मनाही है। मान्‍यता तो यह भी है क‍ि अगर क‍िसी द‍िन कोई वर्जित माना गया और जानबूझकर भी कोई वह कार्य करता है तो उसके गंभीर पर‍िणाम झेलने पड़ सकते हैं। हालांक‍ि अज्ञानता और भूलवश हुए कार्यों पर धार्मिक ग्रंथों के अनुसार देवी-देवता कभी नाराज नहीं होते। तो ऐसे ही कुछ कार्य हैं ज‍िन्‍हें गुरुवार के द‍िन करना वर्जित माना गया है। कहते हैं क‍ि इन्‍हें करने से पति और संतान को कष्‍ट होता है। तो आइए जान लेते हैं इनके बारे में…
भूलकर नहीं करना चाहिए ये कार्य

ज्‍योत‍िषशास्‍त्र के अनुसार गुरुवार के द‍िन भूलकर भी कभी कबाड़ नहीं बेचना चाह‍िए। मान्‍यता है क‍ि इस द‍िन कबाड़ बेचने से घर में सुख-समृद्धि का नाश होता है। साथ ही पार‍िवार‍िक सदस्‍यों की सेहत भी खराब होती है। बच्‍चों की पढ़ाई पर भी नकारात्‍मक प्रभाव पड़ता है। इसल‍िए भूलकर भी ऐसा न करें। 

कहीं ऐसा तो नहीं करते हैं आप

ज्‍योत‍िषशास्‍त्र के अनुसार जातकों को गुरुवार के गुरुवार के दिन न तो किसी को उधार देना चाह‍िए और न ही किसी से उधार लेना चाहिए। मान्‍यता है क‍ि ऐसा करने से गुरु की स्थिति खराब हो सकती है और घर-पर‍िवार के सदस्‍यों को आर्थिक तंगी का सामना करना पड़ सकता है। साथ ही सेहत संबंधी द‍िक्‍कतें भी बढ़ सकती हैं। इसल‍िए गुरुवार के द‍िन इस बात का व‍िशेष ख्‍याल रखें।
ऐसा तो हरगिज ही नहीं करना चाहिए

ज्‍योत‍िषशास्‍त्र के अनुसार गुरुवार के द‍िन कभी भी जातकों को शेव‍िंग नहीं करनी चाह‍िए। साथ ही नाखून काटने से भी बचना चाह‍िए। मान्‍यता है क‍ि गुरुवार के द‍िन शेव‍िंग करने या नाखून काटने से गुरु ग्रह कमजोर होने लगता है। इससे जातकों को जीवन में कई तरह की मुसीबतों का सामना करना पड़ता है। कभी संतान संबंधी दु:ख झेलना पड़ता है तो कभी दांपत्‍य संबंधी। इसल‍िए भूलकर भी गुरुवार को ऐसा न करें।

गुरुवार के िन का यह उपाय है लाभकारी

ज्‍योत‍िषशास्‍त्र के अनुसार अगर कोई जातक गुरु दोष से जूझ रहा है तो उसे गुरुवार का उपाय करना चाह‍िए। इसके ल‍िए पहले गुरुवार के दिन विशेष रूप से सूर्योदय से पूर्व उठकर स्नान करना चाह‍िए। इसके बाद भगवान व‍िष्णु की पूजा-अर्चना करें। साथ ही 51 गुरुवार तक न‍ियम‍ित रूप से भगवान व‍िष्‍णु की पूजा-अर्चना का संकल्‍प लें। इसके बाद विष्णु सहस्रनाम का पाठ करें फ‍िर आरती कर लें। मान्‍यता है क‍ि यह उपाय गुरु दोष तो दूर करता ही है। साथ ही बड़े से बड़े संकट भी दूर कर देता है।

शेयर करें

मुख्य समाचार

राम अवतार गुप्त प्रोत्सहन, ऐसे करें आवेदन

" हमारा सपना हर छात्र माने हिंदी को अपना" हर साल की तरह इस साल भी हम लेकर आये हैं राम अवतार गुप्त प्रोत्साहन। इस बार आगे पढ़ें »

बड़ी खबरः राज्य में कोविड के बीच बच्चों में डेंगू के साथ स्क्रब टाइफस

एक्सपर्ट ने जागरूक रहने की दी सलाह सन्मार्ग संवाददाता कोलकाताः कोविड काल के बीच अचानक बच्चों में डेंगू के साथ स्क्रब टाइफस के मामले सामने आए हैं। आगे पढ़ें »

ऊपर