कुंभ राशिफल 29 मार्च से 4 अप्रैल

कुंभ राशि

कुंभ : दिन सफलतादायक रहने की आशा है, कर्मक्षेत्र में आर्थिक अनुकूलता का अनुभव कर सकते हैं, काम में पूरा ध्यान लगाएं।

साप्ताहिक राशिफल:जल्दबाजी में अगर निर्णय न लिया जाये तो आप अपनी योजना को साकार रूप दे सकते हैं। अपने आध्यात्मिक विचार को रचनात्मक बनाने का प्रयत्न करें,सफलता मिलेगी। आर्थिक खर्च के कारण बन सकते हैं, जिससे आपको खुशी मिल सकती है। संचित धन की रक्षा करते रहें और स्वास्थ्य का भी ध्यान रखें। दिनांक 29 को तनाव, 30 को चिंता, 31 को सुधार, 1 को प्रगति, 2 काे लाभ, 3 को सुख, 4 को खानपान। कुम्भ लग्न के लिए सप्ताह खर्चीला हो सकता है। शुभ दिन 1 से 3 अप्रैल एवं शुभांक 1-3-7। नववर्ष के प्रथम सप्ताह से प्रत्येक शनिवार को शनिदेव के मंदिर में नीला फूल और काला तिल चढ़ाएं।

कुंभ वार्षिक राशिफल 2020: यह वर्ष कर्मक्षेत्र को प्रभावित अधिक करेगा और अन्य विसंगतियों से भरा होने से अशांतिकारक हो सकता है। भावना और उत्तेजना को नियंत्रित करने से ही सुख प्राप्त हो सकता है। आस्तिक भाव पर अनास्था प्रभाव डालकर विचार को प्रतिकूल दिशा में ले जा सकती है जिससे बचते रहना अनिवार्य होगा। संभव है कर्मक्षेत्र में अधिक व्यय और उदासीनता में वृद्धि से मानसिक अस्थिरता उत्पन्न हो पर इन सभी बातों को छोड़कर परिणाम को सोचे बिना काम में लगे रहना हितकर होगा। वर्ष की पहली तिमाही अर्थात् जनवरी, फरवरी और मार्च में इतना परिश्रम हो सकता है कि थकावट से घिर सकते हैं। चल रही प्रवृत्तियों में नई प्रवृत्ति जुड़ जाने से व्यस्तता अधिक हो सकती है जिसके लिए व्यवस्था भी खुद करनी होगी। आश्वासनों की परीक्षा करना और उसकी गति को परखना भी आवश्यक होगा किन्तु होने वाली रुकावटों पर ध्यान देना उचित नहीं होगा और आगे बढ़ते रहना होगा। अपने संसाधनाें को ही महत्व देने से काम आगे बढ़ सकता है। इस अवधि में संचय की प्रवृत्ति बनाए रखने से आगामी तिमाहियों की समस्या को आप अच्छी तरह दूर कर सकते हैं। उत्साह बढ़ाए रखना और आत्मविश्वास को बनाए रखना ही हितकर होगा। पहली तिमाही अच्छी ही रहेगी। स्वास्थ्य पर हमेशा ध्यान देने रहना होगा।

दूसरी तिमाही अर्थात् अप्रैल, मई और जून में आई समस्या का निराकरण व्यय साध्य होगा। उचित होगा कि आप निराशा छोड़कर काम की बारीकियों को समझें और साधन के अनुकूल ही प्रयास जारी रखें तो प्रगति होगी भले ही वैसी नहीं जैसी आप चाह रहे हों। नास्तिक विचार के स्थान पर भाग्यवादी नहीं आस्थावान बनें। सहयोगियों से मतभेद होने पर भी उनकी उपेक्षा नहीं करे, न अपेक्षा ही करें। धीरे चलने की भी कोशिश करें। लोग अपने वचन से मुकरते हों तो भी हताश न हों। तीसरी तिमाही अर्थात् जुलाई अगस्त और सितंबर की अवधि उतार- चढ़ाव के बाद भी आशा का संचार करती रहेगी यदि आप अपनी बुद्धि को स्थिर रखें। धन की कमी महसूस करेंगे। संभव हो तो कुछ काम को थोड़े समय के लिए अभी स्थगित रखें और जो हाथ में हो उसे पूरा करें। मांगलिक काम में अचानक अड़चन आ सकती है। कानूनी बातों को किनारे रखना ही अच्छा होगा अन्यथा हैरानी बढ़ सकती है। संतान से असंतोष की भावना को अभी अपने तक ही रखना उचित होगा। स्वयं से संबंधित लोगों से वाद- विवाद की स्थिति टालते रहे। भूमि विवाद को वार्तालाप के द्वारा टालते रहें। व्यापारिक क्षेत्र में यथास्थिति बनी रहे इसका उद्योग करते रहे।

चौथी तिमाही अर्थात् अक्टूबर, नवंबर और दिसंबर में स्थिति सुधरी रहेगी और किसी भी समस्या का प्रतिष्ठित समाधान प्राप्त होगा। सहयोगी वापस लौटेंगे आैर आप का साथ देते रहेंगे। आर्थिक स्थिति में सुधार संचय में वृद्धि से होगा और कर्मक्षेत्र में आपकी गति तेज रहेगी। आस्था की विजय होगी और आंतरिक क्षमता भी बढ़ेगी। महिलाओं की कुंठा दूर होगी और वे सफल गृहिणी बनेंगी तथा कामकाजी महिलाएं भी सफल रहेंगी। विद्यार्थियों को पूरे वर्ष परिश्रम करते रहना होगा। कुम्भ लग्न के लिए वर्ष मध्यम ही बना रहेगा। यदि आप मां काली की पूजा प्रत्येक शनिवार को करते रहें तो अच्छा फल प्राप्त होगा। वर्ष शुभांक 1, 3 और 9।

कुंभ राशि वाले ऐसे होते हैं (जिनके नाम का पहला अक्षर हो – गू, गे, गो, स, सी, सू, से, सो, द) : प्रकृति से असीम प्रेम करने वाले कुंभ राशि के लोग काफी मिलनसार होते हैं। मानवीय और परोपकारी ये लोग केवल बुद्धिमान व्यक्तियों के साथ बातचीत पसंद करते हैं। कभी भी अपने मित्रों से असमानता का व्यवहार नहीं करते हैं। इन्हें नई खोज करने में काफी आनंद आता है और ये अपना काफी समय कार्यस्थल पर ही बिताना पसंद करते हैं। इन्हें कार्यालयी राजनीति पसंद नहीं होती, बस अपने काम से काम रखते हैं।

कुंभ राशि में जन्मे जातक प्रतिभाशाली वैज्ञानिक और चिकित्सक बन सकते हैं। बात करें पैसों की तो कुंभ राशि वाले लोगों में पैसे खर्च करने और बचत करने के बीच संतुलन बनाए रखने की अच्छी प्रतिभा होती है। कुंभ राशि में जन्मे लोग सबसे बड़ी समस्या यह होती है कि वे महसूस करते है कि वे सीमित या विवश हैं। वे हमेशा दूसरों के हक की बात करना पसंद करते हैं। इस राशि के लोग हर अवसर को भुनाने की कोशिश करते हैं और अगर इन्हें पर्याप्त मानसिक संतोष नहीं मिलता, तो वे ऊब जाते हैं।

शेयर करें

मुख्य समाचार

क्रिकेट नहीं हुए तो इंग्लैंड व वेल्स क्रिकेट बोर्ड को 30 करोड़ पौंड का नुकसान

लंदन : इंग्लैंड एवं वेल्स क्रिकेट बोर्ड (ईसीबी) के प्रमुख टॉम हैरिसन ने कहा कि कोविड-19 महामारी के कारण अगर आगामी सत्र में क्रिकेट नहीं आगे पढ़ें »

विम्बलडन रद्द होने का असर नहीं, तय समय पर हीअमेरिकी ओपन : आयोजक

न्यूयार्क : कोरोना वायरस महामारी के कारण विम्बलडन रद्द हो गया और फ्रेंच ओपन स्थगित कर दिया गया लेकिन अमेरिकी ओपन के आयोजकों ने कहा आगे पढ़ें »

क्यूबा का ओलंपिक चैंपियन पहलवान बोरेरो कोरोना की चपेट में

2011 विश्‍व कप : धोनी के विजयी छक्के को ज्यादा त्वज्जो देने से गंभीर नाराज, कहा- पूरी टीम की वजह से बने थे विश्व चैम्पियन

मूडीज इन्वेस्टर्स ने बैंकिंग सेक्टर के लिए अनुमान स्थिर से नेगेटिव किया

पीएम केयर्स फंड में दो साल का वेतन देंगे गौतम गंभीर

टोक्यो ओलंपिक पर समर्थन के लिये आईओसी प्रमुख बाक ने मोदी का आभार जताया

डकवर्थ-लुईस नियम बनाने वाले 78 साल के गणितज्ञ लुईस का निधन

चीन की मैन्यूफैक्चरिंग रिकवरी क्रूड के लिए अच्छा सौदा, सोने की चमक फीकी

पंत के छक्का लगाने के चैलेंज पर रोहित ने कहा- उसे खेलते हुए एक साल भी नहीं हुआ और चुनौती दे रहा

ऊपर