21 अप्रैल को देवी के साथ-साथ करें भगवान श्रीराम और श्रीगणेश की भी पूजा

कोलकाता : बुधवार को गणेशजी, देवी दुर्गा और श्रीराम की पूजा का शुभ मुहूर्त बन रहा है। किसी भी शुभ काम की शुरुआत गणेशजी की पूजा के साथ करनी चाहिए। नवमी तिथि पर गणेश पूजा के बाद देवी दुर्गा और श्रीराम का पूजन करना चाहिए। गणेशजी के मंत्र श्री गणेशाय नम:, देवी मंत्र दुं दुर्गायै नम:, श्रीराम के नाम और सीताराम मंत्र का जाप करना चाहिए। मंत्र जाप की संख्या कम से कम 108 होनी चाहिए। ज्यादा से ज्यादा आप अपने समय और श्रद्धा के अनुसार जाप कर सकते हैं। चैत्र नवमी पर किसी देवी मंदिर में दर्शन करने जा सकते हैं। अगर मंदिर जाने में असमर्थ हैं तो अपने घर पर देवी मां की पूजा और अभिषेक करें, कुमकुम, हार-फूल, सुहाग का सामान जैसे लाल चुनरी, चूड़ियां, सिंदूर आदि अर्पित करें। राम नवमी पर श्रीराम के पूरे दरबार की पूजा करनी चाहिए। राम दरबार में श्रीराम के साथ लक्ष्मण, सीता, हनुमानजी, भरत-शत्रुघ्न शामिल रहते हैं। इन सभी का पूजन एक साथ करना चाहिए। किसी राम मंदिर में या हनुमान मंदिर में दीपक जलाएं और रामायण के कुछ पेजों का या सुंदरकांड का पाठ कर सकते हैं। हनुमानजी के मंत्र ऊँ रामदूताय नम: का जाप 108 बार करें। इस मंत्र से श्रीराम और हनुमानजी दोनों का ध्यान हो जाता है।
राम नवमी पर इन बातों का भी ध्यान रखें
– चैत्र मास के शुक्ल पक्ष की नवमी पर घर में क्लेश न करें।
– घर के मंदिर में सुबह-शाम दीपक जरूर जलाएं।
– सुबह जल्दी उठें और स्नान के बाद सूर्य को जल चढ़ाकर दिन की शुरुआत करें।
– किसी जरूरतमंद महिला को सुहाग की चीजें जैसे लाल साड़ी, चूड़ियां, कुमकुम आदि चीजों का दान करें।
– हनुमानजी को सिंदूर और चमेली का तेल चढ़ाएं।

शेयर करें

मुख्य समाचार

अस्पतालों में नहीं मिल रहे हैं डोम

युद्धस्तर पर हो रही हैं नियुक्तियां सन्मार्ग संवाददाता कोलकाताः राज्य में कोरोना वायरस के सेकेंड वेव ने स्वास्थ्य परिसेवा की स्थिति खराब सी कर दी है। आलम आगे पढ़ें »

दो श्मशान और एक कब्रिस्तान बना रही है कोलकाता नगर निगम

कोविड शवों की बढ़ती संख्या बढ़ा रही है प्रशासन की परेशानी सन्मार्ग संवाददाता कोलकाता : राज्य में कोरोना के मामले लगातार बढ़ते ही जा रहे है। इस आगे पढ़ें »

ऊपर